रविवार, 22 जनवरी 2012

'देश की एकता व अखंडता के लिए लघु अखबारों को जीवित रखना जरूरी'




पत्रकारिता समाज का दर्पणः वेदराम भाटी, ग्रेनो में ग्रामीण पत्रकारों का महासम्मेलन आयोजित

देश की एकता एवं अखंडता के लिए लघु अखबारों को जीवित रखना बेहद जरूरी है। पेशे, काम और कर्तव्यों के प्रति पत्रकारों को हमेशा गंभीर रहना चाहिए। मिशन से प्रोफेशन की यात्रा कर चुकी पत्रकारिता की नींव दूर दराज के गांवों और कस्बों में रहने वाले पत्रकार ही हैं और उन्हीं की सूचनाओं और समाचारों के दम पर पत्रकारिता का राष्ट्रीय स्वरूप निखरा है। उक्त विचार नईदुनिया के प्रधान संपादक आलोक मेहता ने यहां ग्रामीण पत्रकार एसोसिएशन की जनपद गौतमबुद्ध नगर इकाई द्वारा रविवार को अल्फा वन के सामुदायिक केंद्र में आयोजित राष्ट्रीय राजधानी पत्रकार महासम्मेलन में मुख्य वक्ता के रूप में व्यक्त किए। महासम्मेलन का विषय “कृषि व ग्राम्य भारत के विकास में समाचार पत्र-पत्रिकाओं और पत्रकारों के योगदान” था। सम्मेलन के मुख्य वक्ता के रूप में पधारे आलोक मेहता ने कहा कि अब हिंदी व भाषाई अखबारों का जमाना है। इन अखबारों का शहर से लेकर देहात तक पाठक वर्ग है। जबकि अंग्रेजी अखबार सिर्फ महानगरों तक सीमित हैं। उन्होंने कहा कि ग्रामीण पत्रकारिता में काफी संभावनाएं हैं। ग्रामीण क्षेत्रों के पत्रकार मेहनती एवं जुझारू होते हैं। उन्हें एकजुट रहना चाहिए। मेहता ने कहा कि पत्रकारों का काम राजनीति में जाना नहीं बल्कि राजनेताओं के विषय में तथ्यात्मक खबरें लिखना हैं। राजनीति में जाने से पहले किसी भी पत्रकार को पहले पत्रकारिता छोड़ देनी चाहिए। ऐसा न करने से उसकी विश्वसनीयता खत्म होती है। उन्होंने कहा कि कलम और अक्षर की ताकत को जनता आज भी स्वीकार करती है।
ग्रामीण पत्रकारिता में काफी शक्ति है। मेहता ने कहा कि देश की आजादी के बाद यदि स्थितियां बिगड़ी हैं तो सुधार भी आया है। निराशा कोई रास्ता नहीं है। अधिकारों का हनन हो तो पत्रकारों को संघर्ष करना चाहिए। यदि ईमानदारी और मेहनत करने की क्षमता है तो डरने की जरूरत नहीं है। सही तरीके से लिखेंगे तो समाज हमेशा याद रखेगा। उन्होंने कहा कि समाज में भले ही बेईमानों का वर्चस्व हो सकता है, मगर बहुमत तो ईमानदारों का है। पत्रकारिता के दम पर सरकारें बदली हैं। अलबत्ता पत्रकारों को विषम परिस्थितियों का डटकर मुकाबला करना चाहिए। सूबे के होमगार्ड मंत्री वेदराम भाटी ने कहा कि पत्रकारिता समाज का दर्पण है। इस वर्ग पर समाज की अहम जिम्मेदारी है। पत्रकारों को कर्तव्यों से पीछे नहीं हटना चाहिए।
भाजपा नेता डॉ. महेश शर्मा ने कहा कि पत्रकारिता के जरिए समाज के प्रत्येक तबके की आवाज को उठाया जाता है। पत्रकारों के कंधों पर महत्वपूर्ण दायित्व हैं। पत्रकारिता में पहले से कुछ बदलाव भी आया है। कार्यक्रम की अध्यक्षता एसोसिएशन के प्रदेशाध्यक्ष सौरभ कुमार ने व संचालन कार्यक्रम अधिकारी हरि अंगिरा ने किया। प्रसिद्ध भजन गायक लखबीर सिंह लक्खा ने भजन प्रस्तुत किया। इस दौरान अतिथियों को शॉल ओढ़ा कर एवं माला पहना कर स्वागत किया गया। महासम्मेलन में जनपद के अलावा दूसरे जनपदों के भी दर्जनों पत्रकार मौजूद थे। इस अवसर पर एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष नंद गोपाल वर्मा, महामंत्री चौ. इकबाल अली के अलावा अशोक श्रीवास्तव, अच्युत कुमार त्रिपाठी वैद्य, डॉ जाकिर हुसैन, मोहम्मद शादाब, देवी प्रसाद गुप्ता, शंकर दास शर्मा, प्रमोद शर्मा, मोहम्मद इलियास, मोहम्मद आजाद, ललित सक्सेना आदि मौजूद थे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें