शनिवार, 28 जनवरी 2012

ऐसी सनसनी फैलाई कि रिकार्ड बन गए (श्रीवर्द्धन) सनसनी त्रिवेदी


: लिम्‍का बुक के बाद इंडिया बुक ऑफ रिकार्ड में भी शामिल : एंकरिंग की अलहदा शैली, अनोखा लुक और अपनी दमदार आवाज से सनसनी फैलाने वाले श्रीवर्द्धन त्रिवेदी रिकार्ड बनकर किताबों में दर्ज हो चुके हैं. 'सन्नाटे को चीरती सनसनी सन्न कर देती है इन्सान को.... मुजरिम को खबरदार करना हमारा फर्ज.... जुर्म से महफूज रहना आपका हक....' जैसा डायलाग बोल कर देश की जनता से लव एंड हेट का रिश्ता बनाने वाले पत्रकार, एंकर और रंगकर्मी श्रीवर्द्धन त्रिवेदी अब लिम्का बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड के बाद इंडिया बुक ऑफ रिकार्ड में दर्ज हो चुके हैं.
श्रीवर्धन को बतौर एंकर सबसे लंबे समय तक बिना ब्रेक के 'सनसनी' शो करने के लिए एक बार फिर रिकॉर्ड बुक के पन्नों पर दर्ज किया गया है. इस बार उन्‍हें इंडिया बुक ऑफ रिकार्ड ने अपने पन्‍नों में दर्ज किया है. श्रीवर्द्धन त्रिवेदी देश के ऐसे पहले एंकर हो गए हैं, जिसने किसी एक कार्यक्रम को सबसे लंबे समय तक होस्‍ट किया है. उनके साथ ही स्‍टार न्‍यूज पर प्रसारित होने वाला सनसनी भी सबसे लम्‍बे समय तक चलने वाला कार्यक्रम बन गया है.
22 नवंबर 2004 को शुरू हुई 'सनसनी' आज तक जारी है. जब इस क्राइम शो की शुरुआत हुई थी और तब से लेकर आज तक इसके रेग्युलर एपिसोड्स श्रीवर्धन त्रिवेदी ने ही किए. सनसनी और श्रीवर्द्धने एक दूसरे के पर्याय बन चुके हैं. शुरुआती एक साल तक हफ्ते में पांच दिनों तक आने वाला यह शो इतना हिट हुआ कि साल 2005 से इसे पूरे हफ्ते प्रसारित करने का निर्णय लेना पड़ा. इस कार्यक्रम की लोकप्रियता का आलम ये रहा कि त्रिवेदी के इस किरदार को कई फिल्मों में नकल किया गया. कॉमेडी शो में उनकी मिमिक्री की जाती रही. कई टीवी धारावाहिकों में भी इस किरदार की नकल की गई. फसलफा ये कि आप श्रीवर्द्धन त्रिवेदी से प्‍यार करें या नफरत आप उन्‍हें इग्‍नोर बिल्‍कुल नहीं कर सकते.



इंडिया बुक ऑफ रिकार्ड का प्रमाण पत्र ग्रहण करते श्रीवर्द्धन त्रिवेदी
चार अक्‍टूबर 2010 को सनसनी और श्रीवर्द्धन त्रिवेदी दोनों ने 2000 कदमों की दूरी तय की थी, जब इंडिया बुक ऑफ रिकार्ड ने इन्‍हें अपने पन्‍नों इज्‍जत नवाजी थी. पर अब यह कारवां 2442 एपीसोड को पार कर चुका है और कदम लगातार बढ़ते चले जा रहे हैं, बिना रुके, बिना थके. पर रिकार्ड से इतर अगर दूसरे पहलू को देखें तो कितनी मुश्किल हुई होगी श्रीवर्द्धन त्रिवेदी को बिना रुके, बिना थके इस कार्यक्रम को लगातार सात साल देने में. कभी बीमार हुए होंगे, कुछ परेशानियां भी आई होंगी, मुश्किलें भी होंगी पर इस शख्‍स ने किसी से हार नहीं मानी और लगातार सनसनी फैलाते नजर आते रहे. इससे श्रीवर्द्धन के जुनून को भी समझा जा सकता है. सच ये भी है कि अब श्रीवर्द्धन के बिना सनसनी की कल्‍पना भी दर्शक नहीं कर सकते हैं.
नेशनल स्कूल ऑफ़ ड्रामा से पास आउट त्रिवेदी ने करियर के शुरुआती दौर में कुछ फ़िल्मों और विज्ञापनों में भी काम किया लेकिन उन्हें पहचान मिली उनके लंबे बालों, बढ़ी दाढ़ी और दमदार आवाज़ के सनसनी में इस्तेमाल के बाद. फ़िलहाल श्रीवर्धन त्रिवेदी सनसनी के अलावा सक्रिय रूप से थियेटर से जुड़े हुए हैं और ख़ास तौर पर ग़रीब तबक़े के बच्चों के थियेटर के लिए एक एनजीओ के साथ जुड़कर काम कर रहे हैं. उनके ग्रुप के कई बच्चे अपने गुरु की तरह ही विशाल भारद्वाज की फिल्मों ओंकारा और ब्लू अंब्रेला में अपने अभिनय का लोहा मनवा चुके हैं. टीवी स्‍क्रीन पर अपने अंदाज में सनसनी पैदा करते समय जिस तरह उनके चेहरे की भाव-भंगिमांए बदलती है, दहशत-डर लकीरें उभरती हैं उसके उलट आम जिंदगी में श्रीवर्द्धन त्रिवेदी एक बेहतरीन और सुलझे हुए इंसान हैं. उनकी इस उपलब्धि से संबंधित रिपोर्ट स्टार न्यूज पर सनसनी कार्यक्रम में भी प्रसारित की गई, जिसे इस लिंक पर क्लिक करके देख सकते हैं...
                                                सनसनी की उपलब्धि

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें