सोमवार, 6 फ़रवरी 2012

web journalism # वेब पत्रकारिता



वेब पत्रकारिता के संदर्भ में कुछ बातें
http://www.gravatar.com/avatar/77048b4960339c53832f07476fe3d3d3?s=26&d=http%3A%2F%2Fwww.gravatar.com%2Favatar%2Fad516503a11cd5ca435acc9bb6523536%3Fs%3D26&r=GPosted by संजय तिवारी on Jan 19th, 2009 and filed under टेक्नालाजी के तीर. You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0. You can leave a response or trackback to this entry
अब लोग जिक्र करने लगे हैं कि वेब का इस्तेमाल पत्रकारिता के तौर पर किया जा सकता है. अगर हम हिन्दी वेब को पत्रकारिता के तौर पर इस्तेमाल करना चाहते हैं तो सबसे संभावनायुक्त कौन लोग हो सकते हैं? मेरी नजर में हिन्दी ब्लागर सबसे अधिक संभावना से युक्त हैं कि वे वेब का माध्यम पत्रकारिता के तौर पर इस्तेमाल करें.
मैं हमेशा से इस बात का पक्षधर रहा हूं कि ब्लाग को निजी कुंठा निष्कासन मार्ग बनाने की बजाय अपने काम का माध्यम बनाना चाहिए. पिछले दो सालों से लगातार मैं जिनसे भी बात करता हूं इसी नजरिये को उनके सामने रखता हूं. कुछ लोगों ने समर्थन किया तो कुछ मानते हैं कि ऐसा करना अभी संभव नहीं है क्योंकि बाजार बहुत सीमित है. लेकिन अब मैं आपको कुछ अनुभव बांटना चाहता हूं.
आज दो साल बाद मैं यह देख रहा हूं कि जो भी अखबार हैं वे अपना वेब संस्करण मजबूत करना चाहते हैं. और जो नये प्रकाशन अस्तित्व में आ रहे हैं वे अपना वेब संस्करण भी लाना चाहते हैं. अब एक मुश्किल यह आ रही है कि पत्रकार आमतौर पर तकनीकि दक्ष नहीं है. जो तकनीकि दक्ष हैं वे वेब की दुनिया को नहीं समझते. जो वेब की दुनिया और तकनीकि दोनों को समझ सकते हैं वे पत्रकारिता नहीं करते.
इस उलझन को कैसे सुलझाया जाए? जो युवा हिन्दी ब्लागर हैं वे इस बारे में सोचें. वे अगर अपने आप को थोड़ा विकसित कर लेते हैं तो वे भविष्य के बेहतर वेब पत्रकार साबित हो सकते हैं. क्या हिन्दी ब्लागर इस दिशा में सोचेंगे?
जो लोग वेब पत्रकारिता को अपना पेशा बनाना चाहते हैं उनके लिए जरूरी है कि वे कुछ बातों पर ध्यान रखें-
१. हिन्दी में वेब पत्रकारिता के लिए सबसे अहम बात है कीबोर्ड की जानकारी. यह थोड़ा असहज है लेकिन सच्चाई यही है. आप अगर इनस्क्रिप्ट की बोर्ड के जानकार हैं तो समझिए पहली बाधा पार हो गयी.
२. इंटरनेट पर हिन्दी में काम करने के लिए जरूरी है कि आप यूनिकोड तकनीकि पर काम कर सकें. यह कोई लंबी चौड़ी तकनीकि नहीं है. एक सामान्य से सिद्धांत पर काम करती है. लेकिन माइक्रोसाफ्ट, एप्पल और लाइनक्स तीनों बड़े आपरेटिंग सिस्टम यूनिकोड फाण्ट के साथ जो डिफाल्ट की बोल्ड ले आउट देते हैं वह इनस्क्रिप्ट ही होता है. इसलिए कीबोर्ड और यूनिकोड दोनों पर सम्यक जानकारी होनी चाहिए.
३. वेब पत्रकार के लिए सबसे अहम है कि वह क्या लिख रहा है. वेब पत्रकारिता परंपरागत पत्रकारिता से बिल्कुल अलग है. न केवल तकनीकि बल्कि प्रस्तुति के लिहाज से भी. मुख्य रूप से लिखने के दो प्रकार हैं. अगर आप समाचार लिख रहे हैं तो सिर्फ सूचना देने तक अपने आप को केन्द्रित रखें और 500 शब्दों से अधिक में न लिखें. लेकिन अगर आप लेख लिख रहे हैं तो बात दूसरी है.
४. विचार से ज्यादा सूचनाओं पर ध्यान दें. क्योंकि वेबसाइट का सर्वाधिक उपयोग सूचना पाने के लिए ही किया जाता है, बहस करने के लिए अन्य दूसरे साधन मसलन फोरम, ब्लाग और सोशल नेटवर्किंग साइटें तो हैं ही.
५. एक समाचार को एक ही जगह प्रकाशित करें. बहुत सारे वेब जर्नलिस्ट यह गलती करते हैं कि एक ही समाचार को कई जगह प्रकाशित करने की कोशिश करते हैं. ऐसा करने से बचना चाहिए. क्योंकि यहां आखिर में सारे पाठक एक या दो सर्च इंजनों के जरिए ही आ रहे हैं.
६. संदर्भ और स्रोत का भरपूर उपयोग करें क्योंकि आप जो भी जानकारी पाना चाहते हैं वह इंटरनेट पर एक खोज की दूरी पर है. इसलिए गलत सूचना को देने की बजाय उसे इंटरनेट पर ही खोजकर पुष्ट कर लें.
७. तकनीकि से घबराएं नहीं. यह आपके उपयोग के लिए बनी है. इसे समझें और उसका अपने लिहाज से इस्तेमाल करें.
Possibly Related Posts:

वेब पत्रकारिता के संदर्भ में कुछ बातें
  1. http://www.gravatar.com/avatar/671f208d53405bb064cbf6e89d6a322a?s=32&d=http%3A%2F%2Fwww.gravatar.com%2Favatar%2Fad516503a11cd5ca435acc9bb6523536%3Fs%3D32&r=GGirindra Nath says:
संजय जी मैं आपसे सहमत हूँ. जिस तेज़ी से ऑनलाइन हिन्दी का विस्तार हो रहा है उसमे वेब पत्रकारिता का बेहतर भविष्य ही दिखाई दे रहा है. सभी को तकनीक दक्ष बनाने के हम सभी को मिलकर आगे कदम बढ़ाना होगा.
Internet radio (also known as web radio, net radio, streaming radio and e-radio) is an audio broadcasting service transmitted via the Internet. Broadcasting on the Internet is usually referred to as webcasting since it is not transmitted broadly through wireless means. Internet radio involves a streaming medium that presents listeners with a continuous "stream" of audio over which they have no control, much like traditional broadcast media; in this respect, it is distinct from "on-demand" file serving. Internet radio is also distinct from podcasting, which involves downloading rather than streaming. Many Internet radio "stations" are associated with a corresponding traditional (or "terrestrial") radio station or radio network. Internet-only radio stations are independent of such associations.
Internet radio services are usually accessible from anywhere in the world—for example, one could listen to an Australian station from Europe or America. Some major networks like Clear Channel in the US and Chrysalis in the UK restrict listening to in country because of music licensing and advertising concerns.[citation needed] Internet radio remains popular among expatriates and listeners with interests that are often not adequately served by local radio stations (such as progressive rock, ambient music, folk music, classical music, and stand-up comedy). Internet radio services offer news, sports, talk, and various genres of music—every format that is available on traditional radio stations.
[edit] Early history
In 1993, Carl Malamud launched Internet Talk Radio which was the "first computer-radio talk show, each week interviewing a computer expert."[1] This was Internet radio only insofar as it was conceptually a radio show on the Internet. As late as 1995, Internet Talk Radio was not available via multicast streaming; it was distributed "as audio files that computer users fetch one by one."[2] However Malamud was among the foremost proponents of multicasting technology. In late 1994, his Internet Multicasting Service was set to launch RTFM, a multicast Internet radio news station.[3] In January 1995, RTFM's news programming was expanded to include "live audio feeds from the House and Senate floors."[2]
A November 1994 Rolling Stones concert was the "first major cyberspace multicast concert." Mick Jagger opened the concert by saying, "I wanna say a special welcome to everyone that's, uh, climbed into the Internet tonight and, uh, has got into the M-bone. And I hope it doesn't all collapse."[2]
On November 7, 1994, WXYC (89.3 FM Chapel Hill, NC USA) became the first traditional radio station to announce broadcasting on the Internet. WXYC used an FM radio connected to a system at SunSite, later known as Ibiblio, running Cornell's CU-SeeMe software. WXYC had begun test broadcasts and bandwidth testing as early as August, 1994.[4] WREK (91.1 FM, Atlanta, GA USA) started streaming on the same day using their own custom software called CyberRadio1. However, unlike WXYC, this was WREK's beta launch and the stream was not advertised until a later date.[5]
In 1995, Progressive Networks released RealAudio as a free download. Time magazine said that RealAudio took "advantage of the latest advances in digital compression" and delivered "AM radio-quality sound in so-called real time."[6] Eventually, "companies such as Nullsoft...and Microsoft" released streaming audio players "as free downloads".[7] As the software audio players became available, "many Web-based radio stations began springing up."[7]
In March 1996, Virgin Radio - London, became the first European radio station to broadcast its full program live on the internet[8]. It broadcast its FM signal, live from the source, simultaneously on the internet 24 hours a day[9].
Internet radio attracted significant media and investor attention in the late 1990s. In 1998, the initial public stock offering for Broadcast.com set a record at the time for the largest jump in price in stock offerings in the United States. The offering price was US$18 and the company's shares opened at US$68 on the first day of trading.[10] The company was losing money at the time and indicated in a prospectus filed with the Securities Exchange Commission that they expected the losses to continue indefinitely.[10] Yahoo! purchased Broadcast.com on July 20, 1999[11] for US$5.7 billion.[12]
[edit] US royalty controversy
In October 1998, the US Congress passed the Digital Millennium Copyright Act (DMCA). One result of the DMCA is that performance royalties are to be paid for satellite radio and Internet radio broadcasts in addition to publishing royalties. In contrast, traditional radio broadcasters pay only publishing royalties and no performance royalties.[13]
A rancorous dispute ensued over how performance royalties should be assessed for Internet broadcasters.[12][13][14][15][16][17][18] Some observers said that royalty rates that were being proposed were overly burdensome and intended to disadvantage independent Internet-only stations[13]—that "while Internet giants like AOL may be able to afford the new rates, many smaller Internet radio stations will have to shut down."[16] The Digital Media Association (DiMA) said that even large companies, like Yahoo! Music, might fail due to the proposed rates.[17] Some observers said that some U.S.-based Internet broadcasts might be moved to foreign jurisdictions where US royalties do not apply.[15]
Many of these critics organized SaveNetRadio.org, "a coalition of listeners, artists, labels and webcasters"[14] that opposed the proposed royalty rates. To focus attention on the consequences of the impending rate hike, many US Internet broadcasters participated in a "Day of Silence" on June 26, 2007. On that day, they shut off their audio streams or streamed ambient sound, sometimes interspersed with brief public service announcements. Notable participants included Rhapsody, Live365, MTV, Pandora, and SHOUTcast. Some others that did not participate, like Last.fm, stated that they did not want to punish their listeners.
SoundExchange, representing supporters of the increase in royalty rates, pointed out the fact that the rates were flat from 1998 through 2005 (see above), without even being increased to reflect cost-of-living increases. They also point to the fact that CBS recently purchased Last.FM for 280 million dollars,[19] and if internet radio is to build businesses from the product of recordings, the performers and owners of those recordings should receive fair compensation. Opponents[who?] argued that the purchase price paid for Last.FM reflected that it was primarily a social network service that included a radio service.
On May 1, 2007, SoundExchange came to an agreement with certain large webcasters regarding the minimum fees that were modified by the determination of the Copyright Royalty Board. While the CRB decision imposed a $500 per station or channel minimum fee for all webcasters, certain webcasters represented through DiMA negotiated a $50,000 "cap" on those fees with SoundExchange.[20] However, DiMA and SoundExchange continue to negotiate over the per song, per listener fees.
SoundExchange has also offered alternative rates and terms to certain eligible small webcasters, that allows them to calculate their royalties as a percentage of their revenue or expenses, instead of at a per performance rate.[21] To be eligible, a webcaster had to have revenues of less than $1.25 million dollars a year and stream less than 5 million "listener hours" a month (or an average of 6830 concurrent listeners).[22] These restrictions would disqualify independent webcasters like AccuRadio, DI.FM, Club977 and others from participating in the offer, and therefore many small commercial webcasters continue to negotiate a settlement with SoundExchange.[23]
An August 16, 2008 Washington Post article reported that although Pandora was "one of the nation's most popular Web radio services, with about 1 million listeners daily...the burgeoning company may be on the verge of collapse" due to the structuring of performance royalty payment for webcasters. "Traditional radio, by contrast, pays no such fee. Satellite radio pays a fee but at a less onerous rate, at least by some measures." The article indicated that "other Web radio outfits" may be "doom[ed]" for the same reasons.[24]
On September 30, 2008, the United States Congress passed "a bill that would put into effect any changes to the royalty rate to which [record labels and web casters] agree while lawmakers are out of session."[25] Although royalty rates are expected to decrease, many webcasters nevertheless predict difficulties generating sufficient revenue to cover their royalty payments.[25]
In January 2009, the US Copyright Royalty Board announced that "it will apply royalties to streaming net services based on revenue."[26]
[edit] Popularity
In 2003, revenue from "online streaming music radio" was US$49 million. By 2006, that figure rose to US$500 million.[17]
A February 21, 2007 "survey of 3,000 Americans released by consultancy Bridge Ratings & Research" found that "[a]s much as 19% of U.S. consumers 12 and older listen to Web-based radio stations." In other words, there were "some 57 million weekly listeners of Internet radio programs. More people listen to online radio than to satellite radio, high-definition [sic] radio, podcasts, or cell-phone-based radio combined."[17][27]
An April 2008 survey showed that, in the US, more than one in seven persons aged 25–54 years old listen to online radio each week.[28] In 2008, 13 percent of the American population listened to the radio online, compared with 11 percent in 2007.[28]
Current popular sites that have lists of streaming radio stations include Yahoo Radio, AOL Radio,ShoutCast, and Live 365.
Internet radio functionality is also built into many dedicated Internet radio device, which give an FM like receiver user experience.
Posted by smita at 08:15 0 comments http://img1.blogblog.com/img/icon18_email.gif
http://1.bp.blogspot.com/_KrRzIWqIgZs/St3TzpLfxaI/AAAAAAAAAG0/HuA6rYdcSnE/s320/3032009-nai-del-15l.jpg
An online newspaper, also known as a web newspaper, is a newspaper that exists on the World Wide Web or Internet, either separately or as an online version of a printed periodical.
Going online created more opportunities for newspapers, such as competing with broadcast journalism in presenting breaking news in a more timely manner. The credibility and strong brand recognition of well-established newspapers, and the close relationships they have with advertisers, are also seen by many in the newspaper industry as strengthening their chances of survival.The movement away from the printing process can also help decrease costs.
Professional journalists have some advantages over blogs, as editors are normally aware of the potential for legal problems.
Online newspapers are much like hard-copy newspapers and have the same legal boundaries, such as laws regarding libel, privacy and copyright,also apply to online publications in most countries, like in the UK. Also in the UK the Data Protection Act applies to online newspapers and news pages. As well as the PCC rules in the UK. But the distinction was not very clear to the public in the UK as to what was a blog or forum site and what was an online newspaper. In 2007, a ruling was passed to formally regulate UK based online newspapers, news audio, and news video websites covering the responsibilities expected of them and to clear up what is, and what isn't, an online publication.
News reporters are being taught to shoot video and to write in the succinct manner necessary for the Internet news pages. Many are learning how to implement blogs and the ruling by the UK's PCC should help this development of the internet.
Journalism students in schools around the world are being taught about the "convergence" of all media and the need to have knowledge and skills involving print, broadcast and web.
Some newspapers have attempted to integrate the internet into every aspect of their operations, i.e., reporters writing stories for both print and online, and classified advertisements appearing in both media; others operate websites that are more distinct from the printed newspaper. The Newspaper National Network LP is an online advertising sales partnership of the Newspaper Association of America and 25 major newspaper companies.
Posted by smita at 08:10 4 comments http://img1.blogblog.com/img/icon18_email.gif
Work outside traditional press
The Internet has also given rise to more participation by people who are not normally journalists, such as with Indy Media (Max Perez).
A research study conducted by Pew Research Center for The People & The Press offer a classification of newspaper readers and the movement of online readers. Around 46% of Americans are classified as Traditionalist. This means these people rely on traditional media sources like TV, newspaper and radio. Those in the Integrator category rely on traditional media as well as increasing internet news. This is around 23% of Americans. This is category is mostly of the baby boomer generation. The category that is now seeing an increase is the Net-Newsers. This is around 13% of Americans who rely mainly on the internet for their news. This category is mainly a younger generation like college graduates and who able to access the internet access easily whether it be a lap top, Blackberry or iPhone. This is where the future of readers and newspapers are headed.
Bloggers write on web logs or blogs. Traditional journalists often do not consider bloggers to automatically be journalists. This has more to do with standards and professional practices than the medium. But, as of 2005[update], blogging has generally gained at least more attention and has led to some effects on mainstream journalism, such as exposing problems related to a television piece about President Bush's National Guard Service.
Other significant tools of on-line journalism are Internet forums, discussion boards and chats, especially those representing the Internet version of official media. The widespread use of the Internet all over the world created a unique opportunity to create a meeting place for both sides in many conflicts, such as the Israeli-Palestinian conflict and the Russian-Chechen War. Often this gives a unique chance to find new, alternative solutions to the conflict, but often the Internet is turned into the battlefield by contradicting parties creating endless "online battles."
The claim that on-line sources are less biased and more informative than the official media is often backed[weasel words] with the belief that on-line journalists are merely volunteers and freelancers who are not paid for their activity, and therefore are free from corporate ethics. But recently many Internet forums began to moderate their boards because of threat of vandalism.
Some online journalists have an ambition to replace the mainstream media in the long run. Some independent forums and discussion boards have already achieved a level of popularity comparable to mainstream news agencies such as television stations and newspapers.[citation needed]
Internet radio and Podcasts are other growing independent media based on the Internet.
Legal issues
One emerging problem with online journalism in the United States is that, in many states, individuals who publish only on the Web do not enjoy the same First Amendment rights as reporters who work for traditional print or broadcast media. As a result, unlike a newspaper, they are much more liable for such things as libel. In California, however, protection of anonymous sources was ruled to be the same for both kinds of journalism.
In Canada there are more ambiguities, as Canadian libel law permits suits to succeed even if no false statements of fact are involved, and even if matters of public controversy are being discussed. In British Columbia, as part of "a spate of lawsuits" against online news sites, according to legal columnist Michael Geist, several cases have put key issues in online journalism up for rulings. Green Party of Canada financier Wayne Crookes filed a suit in which he alleged damages for an online news service that republished resignation letters from that party and let users summarize claims they contained. He had demanded access to all the anonymous sources confirming the insider information, which Geist believed would be extremely prejudicial to online journalism. The lawsuit, "Crookes versus openpolitics", attracted attention from the BBC and major newspapers, perhaps because of its humorous name. Crookes had also objected to satire published on the site, including use of the name gang of Crookes for his allies.
Some experts including kumud ranjan believe that libel law is wholly incompatible with online journalism and that right of reply will eventually have to replace it. Otherwise commentary on events in places that give libel plaintiffs too many rights or powers will move to other jurisdictions and most of the comment will be made anonymous. Everyone would then lose rights and remedies, due to a few wealthy people with resources to launch libel suits on weak grounds. Jennifer Jannuska and other legal commentators have, while agreeing with strong protections for publishers who only host journalists, sometimes emphasize that the use of anonymizer technology makes even criminal abuses, not just libel, possible, and so should be avoided even if other rights are lost.
News collections
The Internet also offers options such as personalized news feeds and aggregators, which compile news from different websites into one site. One of the most popular news aggregators is Google News. Others include Topix.net, and TheFreeLibrary.com.
But, some people see too much personalization as detrimental. For example, some fear that people will have narrower exposure to news.
.
Posted by smita at 08:07 0 comments http://img1.blogblog.com/img/icon18_email.gif
http://4.bp.blogspot.com/_KrRzIWqIgZs/St3SA-3tD5I/AAAAAAAAAGs/Yie6dMt9iGk/s320/online_20journalism_20copy_1.jpg
Online journalism is defined as the reporting of facts produced and distributed via the Internet.
As of 2009, audiences for online journalism continue to grow. In 2008, for the first time, more Americans reported getting their national and international news from the internet, rather than newspapers, and audiences to news sites continued to grow due to the launch of new news sites, continued investment in news online by conventional news organizations, and the continued growth in internet audiences overall, with new people discovering the internet's advantages for convenience, speed and depth.
However, the professional online news industry is increasingly gloomy about its financial future. Prior to 2008, the industry had hoped that publishing news online would prove lucrative enough to fund the costs of conventional newsgathering. In 2008, however, online advertising began to slow down, and little progress was made towards development of new business models.The Pew Project For Excellence in Journalism describes its 2008 report on the State of the News Media, its sixth, as its bleakest ever.
Despite the uncertainty, online journalists are cautiously optimistic, reporting expanding newsrooms. They believe advertising is likely to be the best revenue model supporting the production of online news.
An early leader in online journalism was The News & Observer in Raleigh, North Carolina. Steve Yelvington wrote on the Poynter Institute website about Nando, owned by The N&O, by saying "Nando evolved into the first serious, professional news site on the World Wide Web -- long before CNN, MSNBC, and other followers." It originated in the early 1990s as "NandO Land".
Many news organizations based in other media also distribute news online, but the amount they use of the new medium varies. Some news organizations use the Web exclusively or as a secondary outlet for their content. The Online News Association, founded in 1999, is the largest organization representing online journalists, with more than 1,700 members whose principal livelihood involves gathering or producing news for digital presentation.
The Internet challenges traditional news organizations in several ways. Newspapers may lose classified advertising to websites, which are often targeted by interest instead of geography. These organizations are concerned about real and perceived loss of viewers and circulation to the Internet.
Posted by smita at 08:02 0 comments http://img1.blogblog.com/img/icon18_email.gif
News structure
Journalistic prose is explicit and precise, and tries not to rely on jargon. As a rule, journalists will not use a long word when a short one will do. They use subject-verb-object construction and vivid, active prose. They offer anecdotes, examples and metaphors, and they rarely depend on colorless generalizations or abstract ideas. News writers try to avoid using the same word more than once in a paragraph (sometimes called an "echo" or "word mirror.
Headline
The head of a story, in newsman's jargon. eg. "Pilot flies below bridges to save divers"
Subhead (or dek)
A phrase, sentence or several sentences near the title of an article or story.
Lead or intro
The most important structural element of a story is the lead or "intro" (in the UK) —the story's first, or leading, sentence. (Some American English speakers use the spelling lede (pronounced /ˈliːd/), from the archaic English, used to avoid confusion with the printing press type formerly made from lead or the related typographical term leading.[2]) Charnley (1966) stated that "an effective lead is a "brief, sharp statement of the story's essential facts"" (p. 166). The lead is usually the first sentence, or in some cases the first two sentences, and is ideally 20-25 words in length. The top-loading principle applies especially to leads, but the unreadability of long sentences constrains its size. This makes writing a lead an optimization problem, in which the goal is to articulate the most encompassing and interesting statement that a writer can make in one sentence, given the material with which he or she has to work. While a rule of thumb says the lead should answer most or all of the 5 Ws, few leads can fit all of these.
To "bury the lead" in news style, refers to beginning a description with details of secondary importance to the readers, forcing them to read more deeply into an article than they should have to in order to discover the essential point.
Article leads are sometimes categorized into hard leads and soft leads. A hard lead aims to provide a comprehensive thesis which tells the reader what the article will cover. A soft lead introduces the topic in a more creative, attention-seeking fashion, and is usually followed by a nut graph (a brief summary of facts).
Media critics[who?] often note that the lead can be the most polarizing subject in the article. Often critics accuse the article of bias based on an editor's choice in headline and lead.[citation needed]
Example Lead-and-Summary Design
Humans will be going to the moon again. The NASA announcement came as the agency requested ten trillion dollars of appropriations for the project. ...
Example Soft-Lead Design
NASA is proposing another space project. The agency's budget request, announced today, included a plan to send another person to the moon. This time the agency hopes to establish a long-term facility as a jumping-off point for other space adventures. The budget requests approximately ten gazillion dollars for the project. ...
Two other terms common in editing are hed and dek or deck. Hed is used to denote an article's headline or heading. Dek refers to a quick blurb or article teaser.
Nut graph
One or more paragraphs, particularly in a feature story, that explain the news value of the story.
Inverted pyramid
Journalism instructors usually describe the organization or structure of a news story as an inverted pyramid. The journalist top-loads the essential and most interesting elements of his or her story, with supporting information following in order of diminishing importance.
This structure enables readers to stop reading at any point and still come away with the essence of a story. It allows people to enter a topic to the depth that their curiosity takes them, and without the imposition of details or nuances that they would consider irrelevant, but still making that information available to more interested readers.
The inverted pyramid structure also enables articles to be trimmed to any arbitrary length during layout, to fit in the space available.
Inexperienced writers are often admonished "Don't bury the lead!" to ensure that they present the most important facts first, rather than requiring the reader to go through several paragraphs to find them.
Some writers start their stories with the "1-2-3 lead". This format invariably starts with a 5W opening paragraph (as described above), followed by an indirect quote that serves to support a major element of the first paragraph, and then a direct quote to support the indirect quote.
Feature style
News stories aren't the only type of material that appear in newspapers and magazines. Longer articles, such as magazine cover articles and the pieces that lead the inside sections of a newspaper, are known as features. Feature stories differ from straight news in several ways. Foremost is the absence of a straight-news lead, most of the time. Instead of offering the essence of a story up front, feature writers may attempt to lure readers in.
While straight news stories always stay in third person point of view, it's not uncommon for a feature magazine article to slip into first person. The journalist will often detail his or her interactions with interview subjects, making the piece more personal.
A feature's first paragraphs often relate an intriguing moment or event, as in an "anecdotal lead". From the particulars of a person or episode, its view quickly broadens to generalities about the story's subject.
The section that signals what a feature is about is called the nut graf or billboard. Billboards appear as the third or fourth paragraph from the top, and may be up to two paragraphs long. Unlike a lede, a billboard rarely gives everything away. This reflects the fact that feature writers aim to hold their readers' attention to the end, which requires engendering curiosity and offering a "payoff." Feature paragraphs tend to be longer than those of news stories, with smoother transitions between them. Feature writers use the active-verb construction and concrete explanations of straight news, but often put more personality in their prose.
Feature stories often close with a "kicker" rather than simply petering out.
Posted by smita at 07:54 0 comments http://img1.blogblog.com/img/icon18_email.gif
News style (also journalistic style or news writing) is the prose style used for news reporting in media such as newspapers, radio and television. News style encompasses not only vocabulary and sentence structure, but also the way in which stories present the information in terms of relative importance, tone, and intended audience.
News writing attempts to answer all the basic questions about any particular event - the Five Ws - at the opening of the article. This form of structure is sometimes called the "inverted pyramid," to refer to the decreased importance of information as it progresses.
News stories also contain at least one of the following important characteristics: proximity, prominence, timeliness, human interest, oddity, or consequence.
Newspapers generally adhere to an expository writing mode and style, but over time and place journalism ethics and standards have varied in the degree of objectivity and sensationalism incorporated. There are debated definitions of professionalism among particular news agencies, and their reputability or public value, according to professional standards of idealism and depending on what the reader wants from a news story, may be tied to their appearance of objectivity. In its most ideal form, news writing strives to be intelligible to the vast majority of potential readers, as well as to be engaging and succinct. Within the limits created by these goals, news stories also aim for a kind of comprehensiveness. However, other factors are involved, some of which are practical and derived from the media form, and others stylistic.
Among the larger and more respected newspapers, fairness and balance is a major factor for the presentation of information. Commentary is usually confined to a separate section, though each paper may have a different overall slant. Editorial policy dictates the use of adjectives, euphemisms, and idioms. Papers with an international audience, for example, usually use a more formal style of writing.
The specific choices made by a news outlet's editor or editorial board are often collected in a style guide or stylebook; common commercial stylebooks are the "AP Style Manual" and the "US News Style Book". The main goals of news writing can be summarized by the ABCs of journalism: accuracy, brevity, and clarity.
Posted by smita at 07:48 0 comments http://img1.blogblog.com/img/icon18_email.gif
Objectivity in news
News organizations are often expected to aim for objectivity; reporters claim to try to cover all sides of an issue without bias, as compared to commentators or analysts, who provide opinion or personal point-of-view. However, several governments impose certain constraints or police news organizations for bias. In the United Kingdom, for example, limits are set by the government agency Ofcom, the Office of Communications. Both newspapers and broadcast news programs in the United States are generally expected to remain neutral and avoid bias except for clearly indicated editorial articles or segments. Many single-party governments have operated state-run news organizations, which may present the government's views.
Even in those situations where objectivity is expected, it is difficult to achieve, and individual journalists may fall foul of their own personal bias, or succumb to commercial or political pressure. Similarly, the objectivity of news organizations owned by conglomerated corporations fairly may be questioned, in light of the natural incentive for such groups to report news in a manner intended to advance the conglomerate's financial interests. Individuals and organizations who are the subject of news reports may use news management techniques to try to make a favourable impression.[citation needed] Because no human being can remain entirely objective (each of us has a particular point of view), it is recognized that there can be no absolute objectivity in news reporting.[citation needed]
Newsworthiness
Newsworthiness is defined as a subject having sufficient relevance to the public or a special audience to warrant press attention or coverage.
Normal people are not newsworthy unless they meet an unusual circumstance or tragedy. The news divides the population into two groups; those few whose lives are newsworthy, and the multitude who are born, live out their lives and die without the news media paying them any significant notice. The news has always covered subjects that catch people's attention and differ from their "ordinary lives". The news is often used for escapism and thus normal events are not newsworthy. Whether the subject is love, birth, weather, or crime, journalists' tastes inevitably run toward the unusual, the extraordinary.
The subject and newsworthiness of a story depends on the audience, as they decide what they do and do not have an interest in. The denser the population, the more global the reported news becomes, as there is a broader range of interests involved in its selection.
Only a fraction of news manages to convey the overall world development.
Posted by smita at 07:44 0 comments http://img1.blogblog.com/img/icon18_email.gif
In its infancy, news gathering was primitive by today's standards. Printed news had to be phoned in to a newsroom or brought there by a reporter, where it was typed and either transmitted over wire services or edited and manually set in type along with other news stories for a specific edition. Today, the term "Breaking News" has become trite as broadcast and cable news services use live satellite technology to bring current events into consumers' homes live as they happen. Events that used to take hours or days to become common knowledge in towns or in nations are fed instantaneously to consumers via radio, television, cell phones, and the Internet.
Newspapers
Most large cities had[citation needed] morning and afternoon newspapers. As the media evolved and news outlets increased to the point of near over-saturation, afternoon newspapers were shut down except for relatively few. Morning newspapers have been gradually losing circulation, according to reports advanced by the papers themselves.[citation needed]
Commonly, news content should contain the "Five Ws" (who, what, when, where, why, and also how) of an event. There should be no questions remaining. Newspapers normally write hard news stories, such as those pertaining to murders, fires, wars, etc. in inverted pyramid style so the most important information is at the beginning. Busy readers can read as little or as much as they desire. Local stations and networks with a set format must take news stories and break them down into the most important aspects due to time constraints. Cable news channels such as Fox News Channel, MSNBC, and CNN, are able to take advantage of a story, sacrificing other, decidedly less important stories, and giving as much detail about breaking news as possible.

खोज के परिणाम

देवनागरी (Ctrl+M)
  • वेब पत्रकारिता की खोज कुल 31 के क्रं. 1 - 20 for
हिन्दी पत्रकारिता की कहानी भारतीय राष्ट्रीयता की कहानी है। हिन्दी पत्रकारिता के आदि ... com हिन्दीकुंज : हिन्दी साहित्य व भाषा की वेब पत्रिका ...
50 KB (3,604 शब्द) - 16:36, 24 जनवरी 2012
अगस्त 09 में जनोक्ति वेब मीडिया अस्तित्व में आया और वेब पर हिंदी के पाठकों को ... जामिया मिल्लिया इस्लामिया से पत्रकारिता में स्नातक की उपाधि ...
15 KB (1,117 शब्द) - 15:51, 20 अक्टूबर 2011
पत्रकारिता (journalism) आधुनिक सभ्यता का एक प्रमुख व्यवसाय है ... हैं; जैसे - अखबार, पत्रिकायें, रेडियो, दूरदर्शन, वेब-पत्रकारिता आदि। ...
7 KB (435 शब्द) - 07:50, 4 दिसम्बर 2011
वेब-पत्रकारिता : छत्तीसगढ़ मे वेब-पत्रकारिता की शुरुआत करने वाले ... com नामक वेब पत्रिका की शुरुआत की है एंव मधुर चितलांगिया ने http://www. ...
7 KB (435 शब्द) - 06:49, 14 सितंबर 2011
वेब, विज्ञापन, संगीत , सिनेमा और बाजार के क्षेत्र में हिंदी की मांग ... यह एक उल्लेखनीय तथ्य है कि जिस प्रकार से भारत में हिन्दी-पत्रकारिता ...
26 KB (1,947 शब्द) - 07:31, 4 दिसम्बर 2011
पत्रकारिता ... कई कंपनियां अब अपने भविष्य के कर्मचारियों के बारे में संकेत के लिए वेब पर खोज करते हैं कई कंपनियों के मानव संसाधन प्रबंधन (एचआरएम ...
35 KB (2,442 शब्द) - 09:52, 14 मार्च 2011
साहित्य: साहित्य width 95% ... साहित्यिक पत्रकारिता कविता रचना ... प्रदर्शन कला: इंटरनेट, वर्ल्ड वाइड वेब. वायरलेस कंप्यूटिंग (मोबाइल कंप्यूटिंग) ...
73 KB (3,396 शब्द) - 17:33, 16 जनवरी 2012
प्रमुख हिंदी वेब पोर्टल प्रभासाक्षी॰कॉम के समूह संपादक, तकनीकविद् और स्तंभकार ... प्रबंधन और पत्रकारिता चारों विषयों में स्नातकोत्तर योग्यता धारी हैं। ...
11 KB (709 शब्द) - 13:37, 5 फ़रवरी 2012
पिछले 20 सालों से हिंदी पत्रकारिता में सक्रिय आलोक प्रकाश पुतुल देश ... करते रहे हैं। इन दिनों वे वेब पत्रिका रविवार के संपादन से जुड़े हुये हैं। ...
5 KB (511 शब्द) - 18:33, 28 नवम्बर 2010
प्रसारण पत्रकारिता: 2003 में गुप्ता ने इराक पर 2003 के आक्रमण के चिकित्सीय पहलुओं को पेश करने के ... htm वेब पेज एट एमोरी न्यूरोसर्जरी डिपार्टमेंट ...
36 KB (3,087 शब्द) - 10:59, 22 अक्टूबर 2010
जनपद के कृष्ण कुमार मिश्र द्वारा आरंभ किए गए इस वेब पहल को विभिन्न समाचार पत्रों और पत्रकारिता से जुड़े दूसरे संचार माध्यमों द्वारा ...
13 KB (966 शब्द) - 08:22, 4 दिसम्बर 2011
की जाती है । खेल प्रबंधन व खेल पत्रकारिता विभाग अपेक्षाकृत नया विभाग है । समाचार पत्र, रेडियो, टेलीविजन व वेब माध्यमों में खेल पत्रकारिता ...
8 KB (498 शब्द) - 06:20, 4 दिसम्बर 2011
जो वेब का उपयोग और मल्टीमीडिया क्षमता पूर्ण-विशेषताएँ प्रदान करता है. ... रायटर्स और याहू! द्वारा खोज की हुई सार्वजनिक पत्रकारिता http://news. ...
74 KB (5,557 शब्द) - 21:22, 26 जनवरी 2012
विकिपीडिया (Wikipedia) एक मुफ्त वेब आधारित, और सहयोगी बहुभाषी विश्वकोश ... डी और एंड्रयू लिह ने ऑनलाइन पत्रकारिता पर पांचवीं अन्तर्राष्ट्रीय ...
172 KB (13,855 शब्द) - 11:05, 21 दिसम्बर 2011
यह भी देखें : हिन्दी पत्रकारिता हिन्दी सिनेमा बाहरी कड़ियाँ ... com हिन्दीकुंज : हिन्दी साहित्य व भाषा की वेब पत्रिका श्रेणी:हिन्दी Hindi media ...
2 KB (149 शब्द) - 08:41, 4 दिसम्बर 2011
इस भले आदमी ने। ई-पत्रकारिता के जरिए बस इनका ध्येय रहा कि ... हैं। इसका प्रत्यक्ष प्रमाण है ये दो वेब पत्रिकाएं। इतना ही नहीं ... भी ई-पत्रकारिता ...
8 KB (603 शब्द) - 13:45, 5 फ़रवरी 2012
प्रोविजन व्यापार द्वारा रॉयटर्स का पत्रकारिता व्यापार किनारे कर दिया ... संस्थानों को परिणाम संचालित वेब कास्टिंग हल उपलब्ध करने वाली प्रमुख संस्था है. ...
29 KB (2,409 शब्द) - 23:24, 23 मई 2011
इन निक्संस वेब में अकेला स्रोत होने के फेल्ट के दावे को फेल्ट ... अप्रैल 2003 में फील्डिंग को इलिनोइस विश्वविद्यालय के पत्रकारिता स्कूल में एक ...
78 KB (6,101 शब्द) - 09:50, 18 अप्रैल 2011
साहित्यिक पत्रकारिता: लघु पत्रिकाओं के अभाव में साहित्य का विस्तार एवं मूल्यांकन कार्य ... com/ सृजनगाथा-छत्तीसगढ की एकमात्र साहित्यिक वेब-पत्रिका ...
65 KB (4,428 शब्द) - 08:14, 15 सितंबर 2011
हिन्दी पत्रकारिता का आरम्भ भारत के उन क्षेत्रों से हुआ जो हिन्दी- ... अंतर्राष्ट्रीय विकास बहुत तेजी से हुआ है. वेब , विज्ञापन , संगीत , सिनेमा ...
63 KB (4,412 शब्द) - 08:41, 3 फ़रवरी 2012
देखें (पिछले 20) (अगले 20) (20 | 50 | 100 | 250 | 500)

पत्रकारिता

मुक्त ज्ञानकोष विकिपीडिया से
पत्रकारिता (journalism) आधुनिक सभ्यता का एक प्रमुख व्यवसाय है जिसमें समाचारों का एकत्रीकरण, लिखना, रिपोर्ट करना, सम्पादित करना और सम्यक प्रस्तुतीकरण आदि सम्मिलित हैं। आज के युग में पत्रकारिता के भी अनेक माध्यम हो गये हैं; जैसे - अखबार, पत्रिकायें, रेडियो, दूरदर्शन, वेब-पत्रकारिता आदि।

[संपादित करें] इतिहास

[संपादित करें] इन्हें भी देखें

[संपादित करें] वाह्य सूत्र


वेब पत्रकारिता का भविष्य उज्ज्वल
जनवरी 19, 2007 Aflatoon अफ़लातून द्वारा
साभार बीबीसी :
बुधवार, 17 जनवरी, 2007 को 14:48 GMT तक के समाचार
पाणिनी आनंद
बीबीसी संवाददाता, दिल्ली
वेब पत्रकारिता में अंग्रेज़ी का प्रभुत्व बहुत दिन नहीं रहने वाला है. क्षेत्रीय और स्थानीय भाषा में बन रहे वेब पोर्टलों और वेबसाइटों का प्रभाव बहुत तेज़ी से बढ़ रहा है और इनका भविष्य उज्ज्वल दिखाई देता है.
यह कहना है बीबीसी वर्ल्ड सर्विस के मार्केटिंग विभाग के कंट्रोलर एलेन बूथ का. एलेन बीबीसी हिंदी डॉट कॉम की ओर से दिल्ली स्थित भारतीय जनसंचार संस्थान में वेब पत्रकारिता पर आयोजित एक सेमिनार में बोल रहे थे.
हालांकि एलेन बूथ इस बात की चर्चा करने से भी नहीं चूके कि वेब पत्रकारिता में सबसे बड़ा सवाल विश्वसनीयता को लेकर भी है.
उन्होंने कहा, “आज लोगों को इतनी जगहों से समाचार मिल रहे हैं कि लोगों के लिए समाचारों की विश्वसनीयता एक बड़ा मुद्दा है. यह वेब पत्रकारिता के लिए भी एक बड़ी चुनौती है.
सेमिनार में पारंपरिक मीडिया और ऑनलाइन पत्रकारिता के बीच की दूरियों की चर्चा करते हुए वरिष्ठ पत्रकार अजय उपाध्याय ने कहा, “देश में कंप्यूटर साक्षरता बढ़ रही है. हिंदी में संभावनाएँ और चुनौतियाँ अधिक हैं लेकिन अभी इंटरनेट पर हिंदी में सामग्री का बहुत अभाव है.
बढ़ता बाज़ार
बीबीसी हिंदी सेवा के भारत संपादक संजीव श्रीवास्तव ने इस अवसर पर मौजूद छात्रों के सवाल का जवाब देते हुए कहा, “बाज़ार ने क्षेत्रीय और स्थानीय भाषाओं को बहुत महत्व दिया है और आने वाले समय में बाज़ार के दबाव में ही सही लेकिन सभी को हिंदी सहित अन्य क्षेत्रीय भाषाओं के महत्व को स्वीकार करना पड़ेगा.
उन्होंने छात्रों को समझाया कि वेब पत्रकारिता में भविष्य बनाने के लिए किस तरह की तैयारी और किन बातों को ध्यान में रखने की ज़रूरत है.
वहीं बीबीसी हिंदी डॉट कॉम की संपादक सलमा ज़ैदी ने बीबीसी हिंदी ऑनलाइन के अब तक के सफ़र पर प्रकाश डाला.
उन्होंने कहा, “वेब पत्रकारिता करने वालों का दायरा बहुत बड़ा हो जाता है. उनकी ख़बर एक पल में सारी दुनिया में पहुँच जाती है जो कि अन्य समाचार माध्यमों में संभव नहीं है.
सेमिनार में बोलते हुए वेब दुनिया के संपादक जयदीप कर्णिक ने चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि अभी इंटरनेट की पहुँच बहुत कम है. कंप्यूटर के दाम अभी आम आदमी की पहुँच से काफ़ी अधिक हैं.
बहस
वेब पत्रकारिता के भविष्य और संभावनाओं पर चर्चा के साथ ही कई मुद्दों पर जमकर बहस भी हुई.
मसलन, हिंदी वेब पत्रकारिता में फॉन्ट की समस्या और हिंदी भाषा के बदलते स्वरूप पर भी छात्रों और अतिथियों ने चर्चा की.
इस अवसर पर बोलते हुए आईआईएमसी में हिंदी पत्रकारिता विभाग के अध्यक्ष, प्रोफ़ेसर प्रदीप माथुर ने कहा कि मीडिया का लोकतंत्रीकरण करने में वेब पत्रकारिता बड़ी भूमिका निभा रहा है लेकिन अभी भारत में हिंदी वेब पत्रकारिता के क्षेत्र में काफ़ी कुछ किए जाने की ज़रूरत है.
कार्यक्रम का संचालन बीबीसी की बिजनेस डेवलपमेंट मैनेजर विनीता द्विवेदी ने किया.

Monday, 10 May 2010 14:39 शेष नारायण सिंह भड़ास4मीडिया - वेब-सिनेमा
E-mailPrintPDF
शेष नारायण सिंहशेष नारायण सिंह
पत्रकारिता के जनवादीकरण का युग : सच्चाई को कम खर्च में आम आदमी तक पहुंचाने का दौर : ये ऐसे अभिमन्यु हैं जो शासक वर्ग के खेल को समझते हैं : वेब मीडिया ने वर्तमान समाज में क्रान्ति की दस्तक दे दी है और उसका नेतृत्व कर रहे हैं आधुनिक युग के कुछ अभिमन्यु. मीडिया के महाभारत में वेब पत्रकारिता के यह अभिमन्यु शहीद नहीं होंगे.
हालांकि मूल महाभारत युद्ध में शासक वर्गों ने अभिमन्यु को घेर कर मारा था लेकिन मौजूदा समय में सूचना की क्रान्ति के युग का महाभारत चल रहा है. जनपक्षधरता के इस यज्ञ में आज के यह वेब पत्रकार अभिमन्यु अपने काम के माहिर हैं और यह शासक वर्गों की १८ अक्षौहिणी सेनाओं का मुकाबला पूरे होशो हवास में कर रहे हैं. कल्पना कीजिये कि अगर भड़ास जैसे कुछ पोर्टल न होते तो निरुपमा पाठक के प्रेमी को परंपरागत मीडिया कातिल साबित कर देता और राडिया के दलाली कथा के सभी खलनायक मस्ती में रहते और सरकारी समारोहों में मुख्य अतिथि बनते रहते और पद्मश्री आदि से सम्मानित होते रहते. लेकिन इन बहादुर वेब पत्रकारों ने टीवी, प्रिंट और रेडियो की पत्रकारिता के संस्थानों को मजबूर कर दिया कि वे सच्चाई को जनता के सामने लाने के इनके प्रयास में इनके पीछे चलें और लीपापोती की पत्रकारिता से बचने की कोशिश करें.
महाभारत के काल का अभिमन्यु तो गर्भ में था और सत्ता के चक्रव्यूह को भेदने की कला सीख गया था लेकिन हमारे वाले अभिमन्यु वैसे सादा दिल नहीं है. आज का हर अभिमन्यु शासक वर्गों के खेल को अच्छी तरह समझता है क्योंकि इसने उनके ही चैनलों या अखबारों में घुस कर उनके तमाशे को देखा भी है और सीखा भी है. शायद यही कारण है कि पत्रकारिता की किताबों में लिखी गयी आम आदमी की पक्षधरता की पत्रकारिता अपने वातविक रूप में जनता के सामने है.
वास्तव में हम जिस दौर में रह रहे हैं वह पत्रकारिता के जनवादीकरण का युग है. इस जनवादीकरण को मूर्त रूप देने में सबसे बड़ा योगदान तो सूचना क्रान्ति का है क्योंकि अगर सूचना की क्रान्ति न हुई होती तो चाह कर भी कम खर्च में सच्चाई को आम आदमी तक न पहुंचाया जा सकता और जो दूसरी बात हुई है वह यह कि अखबारों और टीवी चैनलों में मौजूद सेठ के कंट्रोल से आज़ाद हो कर काम करने वाले इन नौजवानों की राजनीतिक और सामाजिक समझदारी बिकुल खरी है. इन्हें किसी कर डर नहीं है, यह सच को डंके की चोट पर सच कहने की तमीज रखते हैं और इनमें हिम्मत भी है.
कहने का मतलब यह नहीं है कि अखबारों में और टीवी चैनलों में ऐसे लोग नहीं है जो सच्चाई को समझते नहीं हैं लेकिन उनमें बहुत सारे ऐसे हैं जो मोटी तनखाह के लालच में उसी गांव में रहने को मजबूर हैं. ज़ाहिर है इस मजबूरी की कीमत वे बेचारे हांजी हांजी कह कर दे रहे हैं. हमें उनसे सहानुभूति है. हम उनके खिलाफ कुछ नहीं कहना चाहते हम जानते हैं कि हर इंसान की अपनी अलग अलग मजबूरियां होती हैं. लेकिन हम उन्हें सलाम भी नहीं करेंगे क्योंकि हमारे सलाम के हक़दार वेब के वे बहादुर पत्रकार हैं जो सच हर कीमत पर कह रहे हैं. इस देश में बूढों का एक वर्ग भी है जो अपनी पूरी जवानी में लतियाए गए हैं लेकिन उन्होंने उस लतियाए जाने को कभी अपनी नियति नहीं माना. वे खुद तो कुछ नहीं कर सके लेकिन जब किसी ने सच्चाई कहने की हिम्मत दिखाई तो उसके सामने सिर ज़रूर झुकाया. इन पंक्तियों का लेखक उसी श्रेणी का मजबूर इंसान है.
हालांकि उम्मीद नहीं थी कि अपने जीवन में सच को इस बुलंदी के साथ कह सकने वालों के दर्शन हो पायेगा जो कबीर साहेब की तरह अपनी बात को कहते हैं और किसी की परवाह नहीं करते लेकिन खुशी है कि इन लोगों को देखा जा रहा है. आज सूचना किसी साहूकार की मुहताज नहीं है. मीडिया के यह जनपक्षधर उसे आज वेब पत्रकारिता के ज़रिये सार्वजनिक डोमेन में डाल दे रहे हैं और बात दूर  तलक जा रही है. राडिया ने जिस तरह का जाल फैला रखा है वह हमारे राजनीतिक सामाजिक जीवन में घुन की तरह घुस चुका है और अभी तो यह एक मामला है. ऐसे पता नहीं कितने मामले हैं जो दिल्ली के गलियारों में घूम रहे होंगें.
जिस तरह से राडिया ने पूरी राजनीतिक बिरादरी को अपने लपेट में ले लिया वह कोई मामूली बात नहीं है. इससे बहुत ही कमज़ोर एक घोटाला हुआ था जिसे जैन हवाला काण्ड के नाम से जाना जाता है. उसमें सभी पार्टियों के नेता बे-ईमानी करते पकडे गए थे लेकिन कम्युनिस्ट उसमें नहीं थे. इस बार कम्युनिस्ट भी नहीं बचे हैं.  यानी जनता के हक को छीनने की जो पूंजीवादी कोशिशें चल रही हैं उसमें पूंजीवादी राजनीतिक दल तो शामिल हैं ही, कम्युनिस्ट भी रंगे हाथों पकडे गए हैं. सवाल यह उठता है कि आगे क्या होगा.  जिस तरह से जैन हवाला काण्ड दफन हो गया था क्या उसी तरह सब कुछ इस बार भी दफ़न कर दिया जाएगा.
अगर वेब पत्रकारिता का युग न होता और मीडिया का जनवादीकरण न हो रहा होता तो ऐसा संभव हो सकता था. आज दुनिया राडिया के खेल की एक एक चाल को इसलिए जानती है कि वेब ने हर वह चीज़ सार्वजनिक डोमेन में डाल दिया है जो खबर की परिभाषा में आता है और अजीब बात यह है कि मामूली सी बात पर लड़ाई पर आमादा हो जाने वाली बरखा दत्त और वीर सांघवी जैसे लोग सन्न पड़े हैं.  इंदौर से निकल कर पत्रकारिता के मानदंड स्थापित करने वाले अखबार के मालिक दलाली की फांस में ऐसे पड़े हैं कि कहीं कुछ सूझ नहीं रहा है. इसलिए सभ्य समाज को चाहिए कि वर्तमान मीडिया के सबसे क्रांतिकारी स्वरुप, वेब को ही सही सूचना का वाहक मानें और दलाली को प्रश्रय देने वाले समाचार चैनलों को उनके औकात बताने के सामाजिक और राष्ट्रीय दायित्व का निर्वाह करें.
लेखक शेष नारायण सिंह व

Posted Star News Agency Sunday, April 04, 2010 मनोरंजन, मुद्दा

जगदीश्‍वर चतुर्वेदी
सन् 1994 मे नेटस्केप नामक मल्टीमीडिया कंपनी द्वारा वर्ल्ड वाइड वेब शुरू करने के साथ ही पोर्न ने विश्वव्यापी उद्योग की शक्ल लेली। कुछ तथ्य हैं जिनको ध्यान में रखा जाना चाहिए। कम्प्यूटर तकनीक खरीदने वाले पांच खरीददारों में एक खरीदार सेक्स उद्योग भी है। सेक्स उद्योग ने व्यापार में पहले खर्चीली टी 3 ‘ फोन लाइन खरीदी। हाई रिजोल्युशन इमेजों के प्रसारण के लिए उसका इस्तेमाल किया।

इंटरनेट की सबसे बड़ी अमेरिकी कंपनी डिगेस्ट का सबसे बड़ा ग्राहक माइक्रोसॉफ्ट है, उसकी सेक्ससाइट दूसरी सबसे बड़ी ग्राहक साइट है। सन् 1998 में अकेले ऑनलाइन वयस्क पोर्न सामग्री की अमेरिका में एक विलियन डालर की बिक्री दर्ज की गयी।

यानी इंटरनेट की कुल बिक्री का 69 फीसदी हिस्सा। इंटरनेट ने अपने जन्म से ही पोर्न को बढावा दिया।सेक्स उद्योग को ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल के लिए प्रेरित किया। प्रथम वेब आधारित वेश्यावृत्ति की शुरूआत सिएटल स्थित पर्सनल टच सर्विसेजने की। यह कार्य सितम्बर 1994 में शुरू किया गया। जबकि कुछ माह पहिले ही वेब का जन्म हुआ था। इसके बाद ब्राण्डीज का बेबी,फोनिक्स और एजेड ने वेश्यावृत्ति के विज्ञापन देने शुरू कर दिए। उस समय दि इंटरनेट बिजनेस जरनलने लिखा कि यह इंटरनेट मार्केटिंग का सबसे ज्यादा कल्पनाशील वेबसाइट है।

सन् 1995 में वर्ल्ड वाइड बेवसाइट पर 200 कामुक सेवा और माल देने वाली वेबसाइट थीं। 1995 में स्ट्रीप क्लबने अपनी विज्ञापन वेबसाइट बनायी। इस वेब पर फोटो,पोर्न फिल्म, औरतों आदि की बिक्री होती थीं उन क्लबों के विज्ञापन थे जिनमें वेश्यावृत्ति होती है।

सन् 1995 में ही याहूकंपनी नेबिजनेस एंड इकोनॉमी : कम्पनीज सेक्सनाम से 391 कंपनियों की सूची जारी की। इसमें फोन सेक्स नम्बर्स, एडल्ट सी रोम्स, एक्सरेटेड फिल्म्स, एडल्ट कम्प्यूटर सॉफ्टवेयर, लाइव वीडियो काँफ्रेंसिंग, वेश्या पर्यटन, आनंद सेवाओं, सेक्स संदेश, लड़कियों की सप्लाई करने वाली कंपनियों के बारे में विस्तार से जानकारी दी गयी थी। एक साल बाद इस तालिका में 1676 कंपनियों के नाम थे। यानी एक ही वर्ष में चार गुना वृद्धि।

इसी प्रकार मुख्यधारा का पोर्न प्रकाशन व्यवसाय वेब में तेजी से उभरकर सामने आया। वेब पर सन् 1994 मेंप्लेबॉयआ गया। सन् 1996 में प्लेबॉयवेबसाइट उन 11 वेबसाइट में से एक थी जिस पर सबसे ज्यादा लोग जा रहे थे। सन् 1997 में इस वेबसाइट ने सिर्फ विज्ञापन से ही 2 मिलियन डालर की आमदनी की। सन् 1996 में पेण्टहाउसने वेबसाइट स्थापित की। पोर्न प्रकाशनों में सबसे ज्यादा यूजर इस पर जाते हैं। संगठित वेश्यावृत्ति पर्यटन अमेरिका में वेब पर 1995 में शुरू हुआ।

उल्लेखनीय है भूमंलीकरण का पर्यटन और यात्रा प्रमुख क्षेत्र है। इसमें उत्तर अमेरिका, यूरोप,एशिया, में पर्यटन करते हुए सेक्स उद्योग के जरिए औरत या बच्चा खरीदा जा सकता है या भाड़े पर लिया जा सकता है। यह ऐसा पर्यटन है जो पूरी तरह मर्द के लिए है।यह मूलत: वेश्या पर्यटन है। यह ऐसा पर्यटन है जिसमें पर्यटक को जहां चाहे जैसी चाहे औरत या मर्द या बच्चा सप्लाई किया जाता है।

नेट के जरिए वेश्यावृत्ति का एक अन्य रूप है नेट पर खुली हुई शादी कराने वालों की दुकानें। मार्च 1999 में अमेरिकी प्रशासन के जरिए बताया गया कि अमेरिका में ऐसी संस्थाओं की संख्या 200 है।ये कंपनियां सालाना 4000-6000 औरतों की सप्लाई कर रही हैं। इन लडकियों में फिलीपींस और भू.पू. सोवियत संघ के राज्यों की लड़कियों की संख्या सबसे ज्यादा है।

सन् 1995 से ही इंटरनेट के जरिए वीडियो काँफ्रेंसिंग शुरू हुई। इसके जरिए वीडियो और ऑडियो का प्रसारण संभव हुआ।इसी साल के अंत से वीडियो तकनीक के माध्यम से लाइव नग्न शो, संभोग शो आदि की शुरूआत हुई। यही वह बिन्दु है जहां पोर्न और वेश्यावृत्ति का एक-दूसरे में समावेश होता है।

सेक्स उद्योग की पहली वीडियो काँफ्रेसिंग साइट थी वर्चुअल ड्रीम्स’ ,इसे सानदियागो की सीटीएसएनइटीकंपनी संचालित करती थी। इसमें उच्चतम संचार तकनीक का प्रयोग किया गया।सेक्स उद्योग वेबसाइट के लाइव सेक्स शो ने अपना दायरा बढाते हुए इंटरनेट के जरिए फोन सेक्स का धंधा शुरू कर दिया। इंटरनेट इंटरटेनमेंट ग्रुप की इस धंधे में इजारेदारी है। उसी कंपनी ने यह धंधा शुरू किया। इस कंपनी ने 3 मिलियन डालर कम्प्यूटर और कम्युनिकेशन उपकरणों पर खर्च किए।

लाइव सेक्स शो के दौरान यह पाया गया कि पुरूष इंटरनेट के माध्यम से जिन औरतों के साथ लाइव सेक्स शो में लिप्त हैं वे औरत की खरीदारी की बातें कर रहे हैं। यह इंटरनेट के जरिए औरत की संगठित बिक्री की शुरुआत थी।

इसके अलावा ऑडियो वेश्यावृत्ति की शुरूआत फोन सेक्स लाइव के जरिए शुरू हुई। यह डिस्टेंस इण्टरक्टिविटी ऑडियो वेश्यावृत्तिहै। सेक्स उद्योग जानता था कि दूर से या वर्चुअल वेश्यावृत्ति कैसे की जाती है। बाजार कैसे बनाया जाता है। उनका कहना है कि जो खरीदार दूसरे छोर पर था उसे कम्प्यूटर बहुत जरूरी तत्व सप्लाई कर रहा था। वह था स्खलन।

इंटरनेट इंटरटेनमेंट ग्रुप के अनुसार सन् 1997में नग्न चित्र मांगने वाले 90 फीसदी मर्द थे। इनमें 70 फीसदी अमेरिका में रहते थे। 70 फीसदी की उम्र 18-40 साल के बीच थी।

अब तक का अनुभव बताता है कि सेक्स उद्योग अत्याधुनिक और समाज का अग्रगामी उद्योग है। इस उद्योग ने व्यापार के जो तजुर्बे किए हैं कालान्तर में उन्हीं का विश्व व्यापार के क्षेत्र में व्यापक तौर पर इस्तेमाल होता रहा है।

नयी मीडिया और संचार तकनीक के पहले प्रयोग सेना के अलावा सबसे पहले सेक्स उद्योग में किए गए। बाद में अन्य क्षेत्रों में उनको लागू किया गया। इस अर्थ में सेना और सेक्स उद्योग का चोली-दामन का संबंध है।

सेना जहां- गयी है वहां सेक्स उद्योग फला-फूला है। सन् 1996 में उच्च गुणवत्तायुक्त मल्टीमीडिया प्रणाली आने के बाद इसका तुरंत इंटरनेट पर वीडियो काँफ्रेसिंग और वीडियो प्रसारण के लिए इस्तेमाल किया गया। नयी वीडियो प्रसारण प्रणाली को पुश वीडियोकहा गया। इस तकनीक के इस्तेमाल के कारण नए सॉफ्टवेयर को डाउनलोड किए बगैर वीडियो देखा जा सकता था।

सन् 1997 तक आते-आते इस उद्योग में तेजी से निवेश बढा। कम्प्यूटर उद्योग के मालिकों का कहना है कि नयी तकनीक से कैसे मुनाफा कमाया जा सकता है यह सीखना है तो सेक्स उद्योग से सीखो।

मसलन् सेक्स उद्योग ने कल्पनाशील ढंग से सबसे पहले ऑनलाइन क्रेडिट कार्ड से भुगतान की व्यवस्था शुरू की।मल्टीमीडिया अंतर्वस्तु को कैसे इंटरनेट पर संरक्षित किया जा सकता है इसके तकनीकी उपाय निकाले। इन दो चीजों ने सारी दुनिया को व्यापार का नया मॉडल दिया। प्राइवेसी,सुरक्षा, तुरंत भुगतान स्थानान्तरण आदि को जन्म दिया। व्यक्ति अपनी प्राइवेसी रखते हुए घर बैठे या दफ्तर में अथवा कहीं से ऑनलाइन वेश्यावृत्ति कर सकता था। सिर्फ इसके लिए जरूरी था तुरत भुगतान। उसे क्रेडिट कार्ड भुगतान स्थानान्तरण ने संभव बना दिया।

क्रेडिट कार्ड से भुगतान की शुरुआत 1995 से होती है। आरंभ में चंद वेबसाइट ही थीं जो क्रेडिट कार्ड से भुगतान लेती थीं। बाद में सन् 1996 इंटरनेट इंटरटेनमेंट ग्रुप ने कॉमर्स सॉफ्टवेयरका इस्तेमाल शुरू किया।इसके कारण खरीदार को सुरक्षित ऑनलाइन क्रेडिट कार्ड स्थानान्तरण में सहूलियत हुई।

इसी तरह वेब पर डाटा सुरक्षित रखने में सेक्स उद्योग के अनुभवों से लाभ उठाया गया। चूंकि आरंभ में इंटरनेट को लेकर कोई कानून नहीं था तो अनेक अनैतिक कार्य भी हुए। तकनीक इतिहासकार बताते हैं कि सेक्स उद्योग ने नयी तकनीक को तेजी से आत्मसात किया और तकनीकी तरक्की के नए रास्ते खोले। बाद में उसे मुख्यधारा के व्यवसाय ने अपनाया।

साइबर जंग की चुनौती

पोस्टेड ओन: 16 Dec, 2010 पॉलिटिकल एक्सप्रेस में
विकिलीक्स के खुलासे ने एक नए तरह के प्रकरण की ओर दुनिया का ध्यान खींचा है कि आने वाले समय में साइबर व‌र्ल्ड से किस तरह की चुनौतियां और खतरे हैं। विकिलीक्स ने जिस स्तर पर और जितनी तादाद में गोपनीय सूचनाओं को उजागर किया है, वह अभूतपूर्व है। अभी तक राष्ट्रीय स्तर पर छोटे-मोटे स्तर पर सूचनाएं हैक करने की घटनाएं सामने आई थीं, लेकिन पहली बार अंतरराष्ट्रीय स्तर पर विभिन्न राष्ट्रों की अति गोपनीय और संवेदनशील सूचनाओं को एक साथ हैक किया गया और उन्हें दुनिया के सामने लाया गया। वास्तव में विकिलीक्स पत्रकारिता का एक नया स्वरूप भी है, जो अभी अपने शुरुआती दौर में है। नब्बे के दशक में वर्ड वाइड वेब आया फिर ई-मेल और सोशल नेटवर्किग और अब विकिलीक्स जैसे नए माध्यम। इस तरह यह एक नए युग की शुरुआत है, जहां से सूचना एवं संचार क्रांति के एक नए स्वरूप का अध्याय खुल रहा है। आने वाले समय में यह और भी मजबूत होगी, जिससे अंतत: लोकतंत्र का ही भला होगा।

पत्रकारिता की तरह ही डिजिटल माध्यमों द्वारा खुलासा करने वाले व्यक्ति से भी यह नहीं पूछा जाना चाहिए कि उसे ये सूचनाएं कहां से, किससे और किस तरह प्राप्त हुई हैं। इसके अलावा ध्यान दिए जाने योग्य एक और बात यह है कि अमेरिका एकमात्र देश नहीं है जिसकी सूचनाओं का खुलासा विकिलीक्स ने किया हो। इससे पहले भी विकिलीक्स अनेक देशों की गोपनीय सूचनाओं का खुलासा कर चुका है। इसलिए यह सहज सवाल पूछा जा सकता है कि तब अमेरिका क्यों सोया हुआ था? असांजे ने जो कुछ किया है वह अपने पेशे की जरूरत और कर्तव्यों के निर्वाह के तौर पर किया है और इसमें उनका व्यक्तिगत लाभ अथवा स्वार्थ नहीं था। इस कारण असांजे की गिरफ्तारी के बाद साइबर स्वतंत्रता के नाम पर हैक्टिविस्टों ने विश्वव्यापी साइबर गुरिल्ला युद्ध की घोषणा की और उस पर अमल भी शुरू कर दिया। दरअसल, नैतिकतावादी हैकर मानते हैं कि विकिलीक्स का खुलासा पारदर्शिता को बढ़ाने के लिए किया गया है। इसमें कुछ भी गलत नहीं है और ऐसा करना उनका अधिकार है। इस गुस्से और आक्रोश को व्यक्त करने के लिए ही ऑपरेशन एनोन और ऑपरेशन पे बैक के तहत मास्टरकार्ड, पे पाल, अमेजन और स्विस बैंक के एकाउंट को हैक करने की कोशिश की गई। यहां यदि यह मान भी लिया जाए कि असांजे गलत नहीं हैं तो भी उनके समर्थक हैक्टिविस्टों को एथिकल हैकिंग के सिद्धांतों के तहत सही नहीं ठहराया जा सकता।

वैसे यह काफी अरसे से कहा जा रहा है कि आज दुनिया के सामने परमाणु बम से भी कहीं ज्यादा बड़ा खतरा साइबर व‌र्ल्ड से है। 21वीं सदी सूचना एवं तकनीक की सदी है और यदि दुनिया में तीसरा विश्व युद्ध लड़ा जाएगा तो वह लड़ाई विध्वंसक हथियारों, गोला-बारूद अथवा परमाणु बम का नहीं, बल्कि साइबर युद्ध का होगा। जो देश इसमें जितना ज्यादा दक्ष और सक्षम होगा वह अन्य देशों की सूचनाओं और इलेक्ट्रॉनिक गतिविधियों पर उतनी ही आसानी से नियंत्रण पा लेगा। इस समय यह सवाल महत्वपूर्ण है कि क्या इस तरह के साइबर क्राइम और समस्याओं से लड़ने के लिए राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हमारी कोई सशक्त तैयारी है? यदि हम भारत की ही बात करें तो मुझे नहीं लगता कि इस तरह की घटनाओं को रोकने के लिए अथवा ऐसा करने वाले व्यक्ति को सजा देने के लिए हमारे पास पर्याप्त तकनीकी दक्षता अथवा सशक्त निरोधक कानून है। आधिकारिक गोपनीयता कानून यानी ऑफिसियल सीक्रेट एक्ट और भारतीय सूचना तकनीक कानून-2000 अवश्य हमारे पास है, लेकिन इनमें विकिलीक्स जैसी घटनाओं को रोकने अथवा ऐसे कामों में शामिल होने वाले व्यक्तियों को सजा दिला पाने लायक प्रावधान नहीं है। ऐसे में यदि कल किसी आतंकवादी संगठन द्वारा भी ऐसा ही कोई काम किया जाता है तो हम स्पष्ट कानूनों के अभाव में उन पर प्रभावी कार्रवाई कर पाने में खुद को लाचार और विवश ही पाएंगे।


उल्लेखनीय है कि साइबर क्राइम करने वाले व्यक्ति अथवा संस्था पर कानूनी कार्रवाई उस देश के कानून के मुताबिक ही की जा सकती है, जहां पर कि यह संस्था स्थित है अथवा जिस देश में बैठकर यह काम किया गया है। हैकिंग के कामों में जुटे लोग इस तरह की कानूनी खामियों का भरपूर फायदा उठाते हैं और अपने दफ्तर उन देशों में ही खोलते हैं, जहां के कानून में उनके बच निकलने की गुंजाइश होती है। उदाहरण के तौर पर विकिलीक्स के संस्थापक असांजे को ही लें। वह आस्ट्रेलियाई नागरिक हैं, लेकिन अपना दफ्तर स्वीडन में खोल रखा है, क्योंकि वहां के साइबर कानून इतने सशक्त नहीं हैं कि उन्हें पकड़ा जा सके। अभी तक साइबर अपराधों को रोकने के लिए सर्वस्वीकृत अंतरराष्ट्रीय कानूनों का अभाव है। इस कारण आज मजबूत राष्ट्रीय साइबर सुरक्षा नीति के अलावा अंतरराष्ट्रीय साइबर स्पेस नियमन कानूनों की भी जरूरत है, जिसके लिए त्वरित गति से काम करने की आवश्यकता है।

आज यह सभी राष्ट्रों और सरकारों के लिए चिंता का विषय है कि उनके पास इस चुनौती से निपटने के लिए कोई प्रतिरोधक तंत्र नहीं है। कुल मिलाकर कहा जाए तो विकिलीक्स का एक प्रशंसनीय योगदान यह है कि इसने सोती हुई सरकारों को जगाने का काम किया है। अब यह राष्ट्रों की समस्या है कि वे किस तरह इस चुनौती को लेते हैं और आपस में कोई तालमेल बिठाते हैं ताकि भविष्य में विभिन्न देशों की राष्ट्रीय सुरक्षा, संप्रभुता और अखंडता प्रभावित न हो सके।

[पवन दुग्गल: लेखक साइबर मामलों के विशेषज्ञ है]
Source: Jagran Yahoo
Rate this Article:
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars(1 votes, average: 4.00 out of 5)


0 प्रतिक्रिया
  •  
  • SocialTwist Tell-a-Friend

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें