गुरुवार, 16 फ़रवरी 2012



समाचार पत्र

  ..
स्वागत संदेश

लेखागार (Archive)

<< 1 2 3 >>


देश की आजादी के बाद से ही कई उपाय ऐसे होते चले आ रहे हैं, जिससे देश के प्रत्येक नागरिक को राष्टीय नागरिकता की पहचान दिलाई जा सके। ... पढ़िए
0 टिप्पणी, विमर्श, (138 ) बार देखा गया, प्रविष्ट तिथि : शुक्रवार, 4 नवम्बर 2011,
प्रमोद भार्गव

स्पॉट फिक्सिंग के मामले में पाकिस्तान के दो बड़े क्रिकेटरों सलमान बट और मोहम्मद आसिफ का दोषी पाया जाना वास्तव में क्रिकेट के लिए काला दिन नहीं है। ... पढ़िए
0 टिप्पणी, प्रसंगवश, (88 ) बार देखा गया, प्रविष्ट तिथि : गुरूवार, 3 नवम्बर 2011,
विक मार्क्स

देश में आज भी धर्म और जाति के आधार पर बस्‍ती, उनकी पहचान न सिर्फ मौजूद है बल्कि स्वीकार्य भी है। परंतु इसी देश में मुखबिरों की एक बस्ती भी है, यह सुनकर कोई भी चौंक सकता है। ... पढ़िए
0 टिप्पणी, विमर्श, (106 ) बार देखा गया, प्रविष्ट तिथि : बुधवार, 2 नवम्बर 2011,
आशा शुक्‍ला

कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि। इसको पूर्वी या भोजपुरी-मैथिली-मगही में ‘छठ’ कहते हैं। यह पर्व सांस्कृतिक रूप से भारत की पूर्वी जाति को अपने ही तरह से आलोड़ित करता है। ... पढ़िए
0 टिप्पणी, प्रसंगवश, (87 ) बार देखा गया, प्रविष्ट तिथि : मंगलवार, 1 नवम्बर 2011,
परिचय दास

संयुक्त राष्ट्र संघ के मुताबिक, आज इस दुनिया की आबादी सात अरब हो गई है। लेकिन यह ऐतिहासिक घटना हमें भारी चुनौतियों की भी याद दिलाती है। ... पढ़िए
0 टिप्पणी, प्रसंगवश, (92 ) बार देखा गया, प्रविष्ट तिथि : सोमवार, 31 अक्टूबर 2011,
जूलियन हंट, प्रोफेसर, डेल्ट यूनिवर्सिटी

Having personally been to Ground Zero less than a month after the world’s turning point — 9/11 — I tracked the news from around the world to see how society, politics and religion are intersecting with one another 10 years later. ... पढ़िए
0 टिप्पणी, विमर्श, (80 ) बार देखा गया, प्रविष्ट तिथि : शुक्रवार, 28 अक्टूबर 2011,
Gautam Chikermane

ज्ञानपीठ पुरस्कार और पद्म भूषण से सम्मानित तथा राग दरबारी जैसा कालजयी व्यंग्य उपन्यास लिखने वाले मशहूर व्यंग्यकार श्रीलाल शुक्ल का शुक्रवार को सहारा अस्पताल में निधन हो गया। ... पढ़िए
1 टिप्पणी, समाचार, (89 ) बार देखा गया, प्रविष्ट तिथि : शुक्रवार, 28 अक्टूबर 2011,
मीडिया विमर्श्

पिछले कुछ सालों में फेसबुक और ट्विटर जैसी सोशल साइट्स की लोकप्रियता तेजी के साथ बढ़ी है। ... पढ़िए
0 टिप्पणी, विमर्श, (115 ) बार देखा गया, प्रविष्ट तिथि : गुरूवार, 27 अक्टूबर 2011,
अजय शर्मा

बॉलीवुड में 50 साल से अधिक का समय बिताने के बाद भी अभिनेता धमेंद्र खुद को मीडिया से दूर रखना चाहते हैं। ... पढ़िए
0 टिप्पणी, बातचीत, (90 ) बार देखा गया, प्रविष्ट तिथि : गुरूवार, 27 अक्टूबर 2011,
मीडिया विमर्श्

ऐसा कहा जाता है कि खाली दिमाग शैतान का घर होता है। दिमाग इन दिनों अपना भी खाली है। खाली बोले तो शून्य। ... पढ़िए
0 टिप्पणी, प्रसंगवश, (72 ) बार देखा गया, प्रविष्ट तिथि : गुरूवार, 27 अक्टूबर 2011,
अशोक सण्ड

दीपावली आने को है। उजाले के इस त्योहार के स्वागत की तैयारियां चल रही हैं। इस अवसर पर स्वजनों के बीच उपहारों के आदान-प्रदान की परंपरा सदियों से चली आ रही है। ... पढ़िए
0 टिप्पणी, प्रसंगवश, (65 ) बार देखा गया, प्रविष्ट तिथि : गुरूवार, 27 अक्टूबर 2011,
रविशंकर, वरिष्ठ पत्रकार

भारत में प्रति घंटे 15 व्यक्ति आत्महत्या करते हैं और आत्महत्या करने वाले अधिकतर लोगों में (69.2 फीसदी) शादीशुदा होते हैं जबकि 30.8 फीसदी लोग अविवाहित होते हैं। ... पढ़िए
0 टिप्पणी, समाचार, (98 ) बार देखा गया, प्रविष्ट तिथि : गुरूवार, 27 अक्टूबर 2011,
मीडिया विमर्श

राष्ट्रपति का पद पर आसीन होने की एक मात्र मुख्य योग्यता भारत का नागरिक होना है। वैसे 35 वर्ष उम्र होने की दूसरी प्रमुख योग्यता को भी जोड़ा जा सकता है। ... पढ़िए
0 टिप्पणी, विमर्श, (115 ) बार देखा गया, प्रविष्ट तिथि : बुधवार, 19 अक्टूबर 2011,
विष्‍णु गुप्‍त

सुना है आजकल शहद और नारियल पानी की देश में मांग बढ़ गई है। शायद साउथ के किसानों के चेहरों पर शहद और नारियल पानी में पाए जाने वाले प्राकृतिक चीजों का असर भी शायद अब दिखने लगे। ... पढ़िए
0 टिप्पणी, विमर्श, (195 ) बार देखा गया, प्रविष्ट तिथि : मंगलवार, 18 अक्टूबर 2011,
सौरभ सुमन

भारत सरकार के अनुसार अगर आप दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु और चेन्नई जैसे शहरों में रहते हैं और चार लोगों के परिवार के खाने पर 32 रुपए खर्च करते हैं तो आप गरीब नहीं है। ... पढ़िए
0 टिप्पणी, प्रसंगवश, (102 ) बार देखा गया, प्रविष्ट तिथि : मंगलवार, 18 अक्टूबर 2011,
दिगपाल सिंह।

डीडी न्यूज की एंकर रमा त्यागी का कहना है कि एंकर सिर्फ एक सुंदर चेहरे का नाम नहीं है, वह अंततः विषय पर अपनी पकड़ के चलते ही अपनी पहचान बना सकते हैं। ... पढ़िए
0 टिप्पणी, समाचार, (116 ) बार देखा गया, प्रविष्ट तिथि : सोमवार, 17 अक्टूबर 2011,
मीडिया विमर्श

क्या दूरदर्शन कोई जोकर है, बेकार का चैनल है, हंसी और दुत्कार की चीज है, बेवजह का सामान है। आप का जवाब जो भी हो, फिल्म जिंदगी न मिलेगी दोबारा में इसका जवाब हां ही है। ... पढ़िए
0 टिप्पणी, विमर्श, (100 ) बार देखा गया, प्रविष्ट तिथि : सोमवार, 17 अक्टूबर 2011,
वर्तिका नंदा

भारत में मीडिया शिक्षा एक लंबी यात्रा पूरी कर चुकी है। इसका विस्तार निरंतर हो रहा है। ... पढ़िए
1 टिप्पणी, समाचार, (161 ) बार देखा गया, प्रविष्ट तिथि : सोमवार, 17 अक्टूबर 2011,
मीडिया विमर्श

अपनी यूरो-केन्द्रिकता के लिये स्थायी रूप से विवाद और संदेह के घेरे में रहने वाली स्वीडिश अकादमी ने 1974 में खुद अपने चलन के हिसाब से भी एक बेहद अनोखा और साहसिक निर्णय लिया। ... पढ़िए
0 टिप्पणी, प्रसंगवश, (86 ) बार देखा गया, प्रविष्ट तिथि : शनिवार, 15 अक्टूबर 2011,
गिरिराज किराडू

खासतौर पर जब से कृष्णामचारी श्रीकांत, सुनील गावस्कर, रवि शास्त्री और यहां तक कि अनिल कुंबले जैसे पूर्व कप्तान शक के दायरे में आए हैं।शुरु में ही बता दूं कि यह भारतीय खेल जगत में खदबदाहट के विकास का दौर है। ... पढ़िए
0 टिप्पणी, विमर्श, (105 ) बार देखा गया, प्रविष्ट तिथि : शुक्रवार, 14 अक्टूबर 2011,
अयाज मेमन

<< 1 2 3 >>


Everyday, New Posts, Like, News, Poet, Story, Gazal, Song, novel, blog, Article, music, lyrics, books, review,conference, training etc. On srijangatha Magazine
   

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें