मंगलवार, 9 नवंबर 2021

मुंबई माया औऱ रविंद्र श्रीवास्तव / टिल्लन रिछारिया

 बम्बई में रवींद्र श्रीवास्तव जी से हफ्ते में तीन-चार मुलाकातें हो ही जातीं थीं । हमारे करंट की बिल्डिंग जॉली मेकर्स से सड़क पर  नुक्कड़ पर एक दो बिल्डिंग बाद एम्बेसी बिल्डिंग में आपका मित्र प्रकाशन की पत्रिकाओं , माया , मनोरमा ,मनोहर कहानियों के व्यूरो का ऑफिस था। अक्सर करंट से निकल कर मैं शाम वहीं बिताता था ।

 धर्मयुग आने पहले आप इलाहाबाद के दैनिक भारत में  रहे । धर्मयुग के बाद आपने फ़िल्म स्टार धनेंद्र के साथ मिल कर 'सिनेमा की मैगज़ीन ' बाइस्कोप  ' निकाली जो टाइम्स ग्रुप की फ़िल्म मैगज़ीन ' माधुरी ' से चार गुना यानी 1 लाख 10 हजार के सर्कुलेशन तक  पहुंच गई । बड़ा हंगामा हुआ ।  फिर वनिता भारती,  उसकके बाद ये मित्र प्रकाशन में आ गए ।..मित्र प्रकाशन का अच्छा बाज़ार था तब ।...आप की गतिविधियों का केंद्र ,सिनेमा, मनोरंजन , कला , फैशन आदि था । आप के पास बैठ कर पूरी बम्बई की हलचल का पता चल जाता था ।...एक दिन बोले , टिल्लन स्टारडस्ट का हिंदी आ रहा है कहो तो बात करूं । पर तब मैं करंट के नशे में था ।....असंपादित

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

इस्लाम जिमखाना मुंबई / विवेक शुक्ला

 एक शाम इस्लाम जिमखाना में  An evening in iconic Islam Gymkhana य़ह नहीं हो सकता कि मुंबई में आयें और छोटे भाई और बेख़ौफ़ पत्रकार Mohammed W...