शनिवार, 13 नवंबर 2021

आज़ाद हिन्द रेडियो

 आज़ाद हिन्द रेडियो की शुरुआत 1942 में, सुभाष चंद्र बोस के नेतृत्व में, जर्मनी में की गयी थी, ताकि भारतीयों को बाहरी शक्तियों से लड़ने के लिए प्रोत्साहित किया जा सके। ⁣आज़ाद हिन्द रेडियो का मुख्यालय सिंगापुर और बाद में, रंगून में स्थानांतरित कर दिया गया था।⁣

नेताजी के दक्षिण पूर्व एशिया जाने के बाद, ए.सी.एन. नांबियार द्वारा जर्मनी में यह अभियान जारी रखा गया। नांबियार, नाज़ी जर्मनी में भारतीय सेना के प्रमुख थे तथा बाद में, जर्मनी में 'अर्ज़ी हुकूमत-ए-आज़ाद हिन्द' के राजदूत बनाए गए।⁣

यह रेडियो स्टेशन अंग्रेजी, हिन्दी, तमिल, बंगाली, मराठी, पंजाबी, पश्तो और उर्दू में साप्ताहिक समाचार बुलेटिन प्रसारित करता था, क्योंकि ये भाषाएं जर्मनी में भारतीय सेना और दक्षिण पूर्व एशिया में, भारतीय राष्ट्रीय सेना द्वारा सबसे ज्यादा बोली जाने वाली भाषा थी।

आज़ाद हिन्द रेडियो का उद्देश्य उस समय में उपलब्ध, रेडियो स्टेशनों के प्रसारण का मुकाबला करना था। एक वक्त था, जब आज़ाद हिन्द रेडियो पर, बोस ने ब्रिटिश ब्रॉडकास्टिंग कॉर्पोरेशन को 'ब्लफ एंड ब्लस्टर कॉर्पोरेशन' और ऑल इंडिया रेडियो को 'एंटी-इंडियन रेडियो' कहकर संबोधित किया था।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

इस्लाम जिमखाना मुंबई / विवेक शुक्ला

 एक शाम इस्लाम जिमखाना में  An evening in iconic Islam Gymkhana य़ह नहीं हो सकता कि मुंबई में आयें और छोटे भाई और बेख़ौफ़ पत्रकार Mohammed W...