मंगलवार, 9 नवंबर 2021

सतीश गुजराल की औरते /:टिल्लन रिछारिया

 सतीश गुजराल की औरतों  के साथ !...सुंदर बाग़ - बागीचों में , जंगल - वादियों में इन दिनों प्रकृति के अंग-प्रत्यंग पर वसंत ब्रश फेर रहा है। पत्थर तराश रहा है ,  उसे मांसल बना रहा , पंख दे रहा है। ..लगता है प्रकृति की लीला को चुपके-चुपके सतीश गुजराल ने देख लिया है। आकार पाने को बैचैन ...बेडौल पत्थर ...यौवन की आग से तप रहे हैं। ..एक मद्धम आंच है। ..जब रु-ब-रु हैं आप कैनवास पर उतरी गुजराल की औरतों के ।


शिल्प और कैनवास जब आइने बन जायें एक दूसरे के लिए ...एक ही छत के नीचे तो दोनों के बीच खड़े आप अपनी मनःस्थति के कितने चित्र दिखा सकते हैं ...! कितने ही। ..,


परत-दर-परत ...

खुलती अनावृत औरत

जो कहीं अपनी ही

केशराशि के पर्दे में है

जो कहीं अपने

समग्र देह -दर्शन के साथ

अंग-अंग पखेरू है

जो कहीं , दग्ध है , बिद्ध है ,तप्त है

जो कहीं। ...नख-शिख संगीत है

रंग मैं डूबा राग है

जो कहीं , काम का प्रपात है

कहीं उन्मुक्त , कहीं व्यक्त , कहीं अव्यक्त ...

अपनी ही अनुगामिनी ...

बांचा ,अबांचा , महाकाव्य है !


यूँ तो पहाड़ से लुढ़के हर पत्थर में आग होती है ...और हर पत्थर पर रंग चढ़ते हैं ...तराश अपनी शायरी भी लिखती है ...पर ये कुदरत का करिश्मा ही तो है कि कुछ पत्थरों को तराश और रंगत ऐसी मिलती है कि वे कहीं पूजे जाते हैं। और कुछ पत्थर ऐसे जो संगतराश की गोद से गिरते हैं ,जो फूल -सा ...फूल से भी ज्यादा कोमल बन कर खिलते हैं...और इंसानियत को सरसब्ज करते हैं .


क्या बात हो जब कोई संगतराश पत्थर को औरत बना दे...और वो इतनी कोमल लगे कि आपका भी मन करे कि बाहों में भर लें ...लेकिन लगे कि कहीं कोई देख न ले ...लाज लगे। ...तो आंखों में भर लें ! ... कहीं - कहीं गुजराल भी लजाये हैं अपनी औरतों से। ...जब वे एक झटके से सामने आ गयीं हैं ...सब कुछ दरसाती ...तो थोड़ा लजाकर और थोड़ी हिम्मत कर कलाकार ने उनके ही बालों से उनके उभार को ढांप दिया है। ...पर जब वक्ष ...


पखेरू के प्राण और पंख पा जाएं तो ...तो वे बालों के झुरमुट से झांक उठे हैं...पंख फडफडाते हुए ... कहीं बृषभ अनुरक्त है...तो कहीं अश्व औरत के पाँव के अंगूठे से बंधा ... मुग्ध ...भांपिये ... शायद आप ही का विराट हो मुग्ध - भाव में।  


पुरुष का सारा शौर्य अभिसार की बेला में शायद ऐसे ही व्यक्त होता है ...काम की ... प्रचंड आग की गोद में पुरूष का यूँ सुकूंनपरस्त अंदाज में दुबकना ...बखूबी व्यक्त है ।


औरत जो यहाँ पत्थरों में है .


...वो आबनूसी रंग में अपनी मांसलता से अभिभूत करती है ...और जो अपनी चमक और रंग के साथ आलोकित है ... वो बखूबी पढी जा रही है ...खुरदुरी है ...बावजूद अपने कच्चे माल के ..


औरत ...अपने पक्के अंदाज में है ! ...मन की उमंगों और अनुभूतियों की गहराइयों में डूबे मनोभावों के साथ भी ...वो डूबी-डूबी सी नहीं ...मछली - सी चमक - दमक भरी है ...साफ़ पानी में ...चमकीली ... मछली ..

पकडिये !


कनाट - प्लेस के ए - वन ब्लाक की , आर्ट - टुडे गैलरी की खिड़कियों से झांकती गुजराल साहब की औरतें ...हाथ पकड़ कर खींचतीं हैं ...


जिस शाम हम इस जोड़ - जुगत में थे कि सर्जक बताये अपनी इन ताजातरीन औरतों का जीवन - वृत्त  । उस दिन 22  फरवरी 1995  की शाम तक सूरज देवता नदारत थे ... आसमान बादलों भरा ...सुबह ठंडी हवाएँ थीं ...और दोपहर से ही रिमझिम फुहारों का सिलसिला था ...औरतें आराम से थीं ।...अपनी दुनिया में छिटपुट दर्शकों को दिखती - छिपती ...झटके से देखो तो कैनवास पर औरतें ठिठक जातीं ...थोड़ा रुको तो लगता कि वे आश्वस्त हुईं ...और बतियाने लगतीं ...बाएँ से चलें तो पहले और दूसरे कोने तक की औरतें ...अपनी बात फुसफुसा कर कहतीं मिलीं ... तीसरे कोने पर फुसफुसाहट नहीं ...देह की टंकार है ...औरत - देह जितनी कसी जा सकती ...इतनी कि तार टूटे नहीं ...कसी गयी है ...उजास फूट रहा है पूरी देह से !...कोरी आंखों से देखें तो औरत की देह सफ़ेद है और खुरदुरी ... देह को कम ही रंग छुलाया है गुजराल ने , मनोभावों को रंग देने के लिए ज़रूर मुखाकृति को रंग - स्पर्श है ...


फ़िर भी ... पूरी देह जैसे ...दहक की लोहित - आभा से भरी अपने पुरूष को अपने में आबध्द किए , अपने में दुबकाए ...अपने विराट में एकाकार किए ...और ' वो ' अपने समूचे अस्तित्व और चेतना के साथ तिरोहित होता हुआ ! ! !

                                                                       कला की दुनिया में क्यों ...


समग्र मानवी -चेतना में ...प्रकृति और पुरूष के मौन और मुखर संवाद जारी रहेंगे ...ये चित्र , शिल्प , रंग ...बोलते रहेंगे  ।...आप जानते हैं कि नहीं  , यह कलाकार अपने शिल्प और कैनवास की औरतों से तो बोल सकता है , उनकी बात सुन सकता है पर हमसे आपसे न मन की बात बोल सकते हैं न हमारी बात सुन सकते हैं । ...हमारे और उनके बीच जो संवाद हो रहा है वह उनकी पत्नी किरण गुजराल के माध्यम से हो रहा है । हमअपने सवाल उन्हें बताते हैं वे सतीश गुजराल को बताती हैं , फिर गुजराल साहब संकेतों से और स्वरहीन आवाज़ में जवाब देते हैं ।...वो 8 साल की उम्र हुआ हादसा है जिसने इनकी दुनिया बदल दी ।...बचपन में इनका स्वास्थ्य काफ़ी अच्छा था। आठ साल की उम्र में पैर फिसलने के कारण इनकी टांगे टूट गई और सिर में काफी चोट आने के कारण इन्हें कम सुनाई पड़ने लगा।...सतीश गुजराल की बनाई हुई पेंटिंग्स लाखों में बिकती हैं. लेकिन इनका सफ़र शुरू हुआ बचपन की एक शांत दोपहर से, जब उन्होंने पेड़ पर बैठी एक चिड़िया देखी. और उसकी तस्वीर बना दी. उस समय सुन पाते नहीं थे, बोलना भी बहुत सीमित था. तो ड्राइंग से खुद को एक्सप्रेस करना शुरू किया. उनके पिताजी ने ये देखा, और उन्हें ये महसूस हुआ कि सतीश इसमें आगे बढ़ सकते हैं. इसके बाद सतीश ने पेंटिंग करनी शुरू की....सतीश गुजरक को सतीश गुजराल की बनाई हुई पेंटिंग्स लाखों में बिकती हैं. लेकिन इनका सफ़र शुरू हुआ बचपन की एक शांत दोपहर से, जब उन्होंने पेड़ पर बैठी एक चिड़िया देखी. और उसकी तस्वीर बना दी. उस समय सुन पाते नहीं थे, बोलना भी बहुत सीमित था. तो ड्राइंग से खुद को एक्सप्रेस करना शुरू किया. उनके पिताजी ने ये देखा, और उन्हें ये महसूस हुआ कि सतीश इसमें आगे बढ़ सकते हैं. इसके बाद सतीश ने पेंटिंग करनी शुरू की ।किन्हें कला का राष्ट्रीय पुरस्कार तीन बार प्राप्त हो चुका है दो बार चित्रकला के लिए एवं एक बार मूर्तिकला के लिए | इनका विवाह किरण गुजराल के साथ हुआ। सतीश ने लाहौर स्थित मेयो स्कूल ऑफ आर्ट में पाँच वर्षों तक अन्य विषयों के साथ-साथ मृत्तिका शिल्प और ग्राफिक डिज़ायनिंग का अध्ययन किया। इसके पश्चात सन 1944 में वे बॉम्बे चले गए जहाँ उन्होंने प्रसिद्ध सर जे जे स्कूल ऑफ आर्ट में दाखिला लिया पर बीमारी के कारण सन 1947 में उन्हें पढ़ाई बीच में ही छोड़नी पड़ी।...बाद में काफी जोखिम ले कर ऑपरेशन कराया जिससे यह आवास सुन सके ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

इस्लाम जिमखाना मुंबई / विवेक शुक्ला

 एक शाम इस्लाम जिमखाना में  An evening in iconic Islam Gymkhana य़ह नहीं हो सकता कि मुंबई में आयें और छोटे भाई और बेख़ौफ़ पत्रकार Mohammed W...