गुरुवार, 14 अक्तूबर 2021

टिल्लन रिछारिया की यादों का मोहक संसार

 

ज्ञानयुग प्रभात ' का उदय/ टिल्लन रिछारिया


ज्ञानयुग प्रभात ' का उदय ! ज्ञानयुग प्रभात का उदय हो रहा था , यह नाम महर्षि महेश योगी जी का ही दिया हुआ था । वे कहते थे कि अखबार में रचनात्मक , प्रेरणादायी ,  समाज में उत्साह भरने वाली सात्विक खबरें प्रमुखता से छापिए । हताशा और अपराध वाली खबरें ज्यादा बढ़ा चढ़ा कर नहीं छपनी चाहिए । समाजिक शुभ्रता  बढ़ाने वाली खबरों को प्रमुखता देना  चाहिए । तब वहां उन्नत टेक्नोलॉजी वाली आधुनिकतम प्रिंटिंग व्यवथा थी । ...अखबार के रूप स्वरूप की प्रक्रिया चल रही थी । 6 कॉलम वाले पेज की प्लानिंग की गई थी , जनसत्ता बहुत बाद में 6 कॉलम के साथ आया था । ...मेरे जिम्मे सम्पादकीय पेज की जिम्मेदारी थी । ज्ञानरंजन जी लगभग रोज ही आते थे । खाली हाथ नहीं कोई न कोई लेख जरूर लाते थे । कहते और क्या लिख दूं ।...याद पड़ता है , दिनमान में विश्व कविता यानी विदेशी कविताओं के अनुवाद छपा करते थे । मैंने भी ऐसी कविताओं का आग्रह किया था।कई महीनों छपती रही ऐसी कविताएं । शहर में खासा उत्साह था लिखने वालों में , नए नए युवक भी खूब आते थे अपनी रचनाओं के साथ । ऑफिस सहकर्मियों में भी में मैंने गति भर दी थी । ट्रिक ये अपनाई थी कि एक दो दिन पहले मैं फोटो सहित पेज में  लिखने वाले सहकर्मी का नाम छप देता था । संतोष अरे ये अब तक नहीं  लिखे आपको फंसा देंगे । मैं कहता ये न लिखेंगे तो इनके नाम से हम लिख देंगे ।...अपना गैंग तगड़ा था , राजेश नायक , अरविंद उप्रेती ,दिनेश जुआल , हरि भटनागर , राकेश दीक्षित , अरुण पांडेय साथ थे , मल्टी पर्पज लेखन के लिए दिनेश खरे और विश्वभावन देवलिया मुस्तैद रहते थे । हमारे रणनीतिक सलाहकार होते थे स्टाफ के फोटोग्राफर औए हमारे अजीज ब्रजभूषण शकरगाय । शकरगाय ग्लाइडर उड़ाते थे , बहुधन्धी , कुशाग्र और जुझारू प्रकृति के थे । ...कौन सो काज कठिन जग माहीं...की हुंकार लगा दी जाए बस , दिन रात एक करके काम अंजाम पाता ही था । रात सिटी एडीसन का अखबार जीप में लाद कर पहले रेलवे स्टेशन फिर अखबार छोड़ते फिर बस अड्डे पर ।इस अवसर पर हमारे गैंग लीडर शकरगाय होते , दो एक पुरुषार्थी सहज ही साथ होजाते  । फिर 4 से सुबह 6-7बजे तक बस अड्डे पर ही संगत जमती । चाय नमकीम के साथ भांति भांति के धुंआ उगलते व्यसन ।  सिर्फ आनंद राग बजता और बरसात ।...पूरी रात इस तरह पार करने का खास मकसद था घर के रास्ते पर शमशान था जो रात में भी दहकता रहता था किसी साथ थ तो ठीक वार्ना बस अड्डे से बेहतर और रौनकदार जगह क्या हो सकती है । सुबह घर पहुंचे , दोपहर 2 बजे फिर दफ्तर के लिए निकल लिए , खाना पीना सब बाहर ही था । और 2 बजे पहुंच काम पर थोड़े लगाना होता था । दरअसल मुझे करते हुए बहुत कम लोग ही देख पाए हैं ।यहां भी मैं डाक और सिटी एडिशन के बीच अपना काम निबटाता था ।...हमारे सहकर्मियों में एक विद्वान पत्रकार राजेन्द्र गुप्ता थे , वे पहला पेज देखते थे । 

.

शाम से ही आज का लीड  , आज का लीड के साथ ...पूरा दफ्तर गुंजायमान किये रहते थे । जैसे पूरे अखबार में यही एक पेज छपता था । ...विद्वान लोगों के बारे में सोचता हूँ कि विद्वान कोने में क्यों रहते हैं । किसी समारोह के मौके पर कहा जाता है न कि , देश के कोने कोने से विद्वान आरहे हैं । हमारे बाबू राजेंन्द्र गुप्ता जी भी कोने पर बैठते थे । ...उनके  ' आज का लीड ' के उद्घोष के चलते दबे छिपे वे ' जॉन लीड 'कहे जाने लगे । यह चुहुल इस लिए उल्लेखनीय है कि आप जान सकें कि कैसे हल्के फुल्के और तनावरहित में हम सब काम  करते थे । ...एक बार रम्मू जी ने पूछा कि यार ये आप लोगों का ' बीबीसी क्लब ' क्या है । हमे भी शामिल करो ।हमने कहा कि भाई साहब ये नई उम्र के बच्चों का क्लब है , बैचलर ब्वायज काउंसिल ,नियम विचित्र हैं , सारे मेम्बर नवांगतुक को चूम चाम कर इंट्री देते हैं


। रम्मू जी बड़े जानकार और बड़े सौहार्दप्रिय संपादक थे ।कभी यह कहते नहीं सुना कि ये क्या कर दिया ।...जब ज्ञानयुग प्रभात निकलेने लगा तो एक दिन मैंने सम्पादकीय पेज पर लगाने वाले अग्रलेख के बीच में टाइम , न्यूज़वीक मगजीन से ले कर एक स्केच फोटो के साथ लगा दिया । पेज देखकर बोले , वाह ये तो बढ़िया है । मैंने कहा वैसे ऐसा होता नहीं है । बोले , जब कोई करेगा तभी तो होगा । परम्पराएं लक्ष्मण रेखा नहीं हैं । काफी बाद मे सम्पाकीय पेज को सजाने का काम एएम जे अकबर ने दी टेलीग्राफ में किया ।...ये सन 1982  था ।फाकलैंड वार छिड़ा हुआ था और ज्ञानी जैल सिंह राष्ट्रपति पद की ओर बढ़ रहे थे ।अखबार जल्दी ही ले पकडने लगा ।...इसी बीच स्केच करने वाले एक नवजवान आफिस आये , बोले हमारा काम भी प्रकाशित हो सकता है । हमने कहा क्यों नहीं । स्केच अच्छे बनाते थे वे ।...हमने कहा अपने स्केच थोड़ा कार्टूनिस्ट टच दीजिये ।पास ही शकरगाय भी बैठे थे , मैंने पूछा , इनको जानते हैं । ...हाँ साब , ये शकरगाय जी है , स्लाइडर उड़ाते हैं । हमने कहा कि हां , इन्हीं शकरगाय को ग्लाइडर सहित फ्रेम में लेना है   तीन फ्रेम की कार्टून स्ट्रिप बनेगी , नाम होगा ...सुपरब्वाय शकरगाय ...इसमें आप जबलपुर की सिटी लाइफ कवर करोगे । ओके । यस सर ओके ।  स्ट्रिप बानी और चली । शहर में शकरगाय हीरो हो गए ।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

इस्लाम जिमखाना मुंबई / विवेक शुक्ला

 एक शाम इस्लाम जिमखाना में  An evening in iconic Islam Gymkhana य़ह नहीं हो सकता कि मुंबई में आयें और छोटे भाई और बेख़ौफ़ पत्रकार Mohammed W...