बुधवार, 16 जनवरी 2013

pakistan ka looose motion

एकाएक ढीले पड़े पाकिस्तान के तेवर

 गुरुवार, 17 जनवरी, 2013 को 07:56 IST तक के समाचार
हिना रब्बानी खर
हिना रब्बानी खर इस समय अमरीका की यात्रा पर हैं
एक दिन पहले तक भारत पर युद्ध भड़काने का आरोप लगा रहीं पाकिस्तान की विदेश मंत्री हिना रब्बानी खर एकाएक नरम पड़ गई हैं. अब वे भारत के साथ बातचीत करना चाहती हैं.
जिस पाकिस्तानी सेना की ओर से संघर्ष विराम के उल्लंघन की ख़बरें लगातार आ रही थीं और जो किसी भी सूरत में झुकने को तैयार नहीं दिख रही थी, उसने भी कहा है कि वह संघर्ष विराम की शर्तों का पालन करेगी.
पर्दे के पीछे या कूटनीतिक स्तर पर एकाएक ऐसा क्या हुआ कि पाकिस्तान के तेवर ढीले पड़ गए, इसकी वजह शायद कुछ समय बाद पता चले लेकिन सतह पर जो दिखता है उससे लगता है कि भारत ने एक के एक बाद जो क़दम उठाए वह एक बड़ी वजह बना.
अनुमान लगाया जा रहा है कि अमरीका की यात्रा पर गईं हिना रब्बानी खर को अमरीका ने रुख़ पलटने के लिए राज़ी किया होगा. या हो सकता है कि आंतरिक अस्थिरता ने पाकिस्तान को मजबूर कर दिया होगा.
अब विशेषज्ञ कह रहे हैं कि आने वाले दिनों में दोनों देशों के बीच तनाव का माहौल घटता हुआ दिखेगा. हालांकि संबंध सामान्य कब तक हो सकेंगे यह कोई नहीं कह पा रहा है.
ये तनाव कश्मीर में नियंत्रण रेखा पर दो भारतीय सैनिकों की बर्बर हत्या के बाद शुरु हुआ. भारतीय सेना का आरोप है कि पाकिस्तानी सैनिकों ने न केवल भारतीय सैनिकों को मारा बल्कि उनमें से दो के शव के साथ बर्बरता की और एक का सर ही काटकर अपने साथ ले गए.
पाकिस्तान ने इस मामले में पाकिस्तानी सेना के शामिल होने से इनकार किया है. पाकिस्तान भी भारतीय सेना की इसी तरह की कार्रवाई में अपने सैनिक मारे जाने का आरोप लगाता है.

भारत के क़दम

नियंत्रण रेखा
नियंत्रण रेखा पर पिछले दो दिनों में कई बार पाकिस्तान पर संघर्ष विराम के उल्लंघन के आरोप लगे
पाकिस्तान के रवैये को लेकर भारत के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने मंगलवार को कड़ा बयान जारी किया था और कहा था कि अब पाकिस्तान से पहले जैसे संबंध संभव नहीं हैं.
इससे पहले भारतीय सेना प्रमुख विक्रम सिंह ने दो टूक शब्दों में कहा था कि पाकिस्तान को सही समय और सही जगह पर जवाब दे दिया जाएगा.
इसके अलावा भारत ने हिंदुस्तान हॉकी लीग में भाग लेने आए पाकिस्तानी हॉकी खिलाड़ियों को वापस भेज दिया और गुजरात क्रिकेट एसोसिएशन ने महिला क्रिकेट विश्व कप की मेज़बानी से हाथ खींच लिए.
वाइब्रेंट गुजरात के लिए आए पाकिस्तानी व्यापारियों को गुजरात की मोदी सरकार ने सम्मेलन में भाग लेने से पहले ही वापस लौटा दिया और पाकिस्तान के व्यापार मंत्री की आगामी भारत यात्रा को रोकने की घोषणा कर दी थी.
इस बीच भारत ने पाकिस्तान के बुज़ुर्ग नागरिकों को भारत पहुँचने पर वीज़ा दिए जाने की योजना को भी स्थगित करके ये ज़ाहिर कर दिया कि वह संबंधों को एकतरफ़ा नहीं निबाहेगा.

पाकिस्तानी तेवर

सोमवार को भारत और पाकिस्तान के सैन्य अभियान के महानिदेशकों के बीच फ़्लैग मीटिंग हुई तो तनाव की वजह से बातचीत बेनतीजा रही थी.
"हाल की घटनाएं बहुत दुर्भाग्यपुर्ण हैं. हम इस मामले पर विचार विमर्श के लिए विदेश मंत्री स्तर पर बातचीत के लिए तैयार हैं. ताकि इस मामले का निपटारा किया जा सके और हम फिर से युद्ध-विराम की शर्तों के सम्मान की बात कर सकें"
हिना रब्बानी खर
इसके बाद विदेश मंत्री हिना रब्बानी खर का बयान आया कि भारत की ओर से युद्ध भड़काने की कोशिश की जा रही है. तब पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय यह स्वीकार करने को ही राज़ी नहीं था कि उनकी सेना की ओर से कोई ग़लती हुई है.
लेकिन अब हिना रब्बानी खर ने कहा है कि दोनों मुल्कों के बीच जारी तनाव को ख़त्म करने के लिए वो अपने भारतीय समकक्ष से मिलना चाहती हैं.
अमरीका के न्यूयार्क में हिना रब्बानी खर ने कहा, "हाल की घटनाएं बहुत दुर्भाग्यपुर्ण हैं. हम इस मामले पर विचार विमर्श के लिए विदेश मंत्री स्तर पर बातचीत के लिए तैयार हैं. ताकि इस मामले का निपटारा किया जा सके और हम फिर से युद्ध-विराम की शर्तों के सम्मान की बात कर सकें."
पाकिस्तानी विदेश मंत्री का कहना था कि हालांकि 10 दिनों से जारी नियंत्रण रेखा पर जारी झड़पों ने बहुत सारे सवाल खड़े कर दिए हैं लेकिन विवाद को सुलझाने के लिए पाकिस्तान बातचीत के लिए तैयार है.
इससे पहले दोनों देशों के सैन्य अभियानों के महानिदेशकों की टेलीफो़न पर हुई बातचीत में पाकिस्तान की ओर से भरोसा दिलाया गया कि उनके सैनिक संघर्ष विराम का सम्मान करेंगे.
भारतीय सेना के प्रवक्ता जगदीप दहिया ने बीबीसी को बताया, “दोनों देशों के सैन्य अभियान के महानिदेशक नियंत्रण रेखा पर तनाव कम करने पर सहमत हो गए हैं.”
बताया जा रहा है कि पाकिस्तान सैन्य अभियान के महानिदेशक ने भारतीय सैनिक अभियान के महानिदेशक को इस बात का भरोसा दिया है कि नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तानी सैनिक युद्ध विराम की शर्तों को मानेंगे.

इसे भी पढ़ें

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें