शनिवार, 12 जनवरी 2013

कुबेरों ने बाँधे मोदी की तारीफ़ों के पुल


 शुक्रवार, 11 जनवरी, 2013 को 14:39 IST तक के समाचार
नरेंद्र मोदी
मोदी की तुलना अनिल अंबानी ने तो महात्मा गाँधी तक से कर दी
'वाइब्रेंट गुजरात' कार्यक्रम में उद्योग जगत की तमाम बड़ी हस्तियों ने मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी पर तारीफों की बौछार की है.
मोदी गुजरात में व्यापार और निवेश को बढ़ावा देने के मकसद से हर दो साल में ये कार्यक्रम कराते हैं जिसमें देश-विदेश के नामी उद्योगपति हिस्सा लेते हैं.
शुक्रवार को गुजरात की राजधानी गांधीनगर में ये कार्यक्रम शुरू होते ही उद्योगपतियों ने मोदी की खूब सराहना की.
रियालंस इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष मुकेश अंबानी ने कहा, “नरेंद्र भाई मोदी के रूप में हमारे पास ऐसा नेता है जो बहुत दूरदर्शी है. बुनियादी ढांचे के क्षेत्र में गुजरात अग्रणीय राज्य रहा है. हमने गुजरात से शुरुआत की और हम यहां निवेश करने के लिए बार-बार आना चाहेंगे.”

गांधी से तुलना!

मुकेश अंबानी के छोटे भाई और उद्योगपति अनिल अंबानी ने एक तरह से नरेंद्र मोदी को महात्मा गांधी और सरदार वल्लभ भाई पटेल की श्रेणी में रखा.
उन्होंने कहा, “मैं आपके सामने एक और तस्वीर पेश करता हूं. दो अक्तूबर 1869- पोरबंदर, गुजरात: मोहनदास करमचंद गांधी का जन्म, राष्ट्रपिता. 31 अक्तूबर- नादियाड़ गुजरात: सरदार वल्लभ भाई पटेल का जन्म, भारत के लौह पुरूष. 28 दिसंबर 1932- चोरवाड़, गुजरात: धीरूभाई अंबानी का जन्म, भारत के सबसे महान उद्यमी. 17 सितंबर 1950-वाडनगर, गुजरात: नरेंद्र मोदी का जन्म.”
महिंद्रा एंड महिंद्रा समूह के अध्यक्ष आनंद महिंद्रा ने कहा कि वो समय दूर नहीं जब गुजरात के मॉडल को देश के बाहर भी अपनाया जाएगा.
"मैं समझता हूं कि वो दिन अब दूर नहीं जब हम न सिर्फ गुजरात में चीन के विकास मॉडल की बात करेंगे बल्कि चीन में भी गुजरात के विकास मॉडल की बात होगी."
आनंद महिंद्रा, महिंद्रा एंड महिंद्रा समूह के प्रमुख
उन्होंने कहा, “मैं समझता हूं कि वो दिन अब दूर नहीं जब हम न सिर्फ गुजरात में चीन के विकास मॉडल की बात करेंगे बल्कि चीन में भी गुजरात के विकास मॉडल की बात होगी.”
आईसीआईसीआई बैंक की प्रबंध निदेशक चंदा कोचर ने कहा, “गुजरात न सिर्फ देश में सबसे तेजी से आर्थिक प्रगति करता हुआ राज्य है बल्कि इस लिहाज से ये दुनिया का सबसे तेजी से आगे बढ़ने वाला क्षेत्र भी है.”
पिछले महीने ही मोदी ने राज्य विधानसभा के चुनाव में तीसरी बार शानदार जीत दर्ज की है.
इतना ही नहीं, भारतीय जनता पार्टी में एक वर्ग उन्हें अगले आम चुनावों में प्रधानमंत्री पद का प्रबल उम्मीदवार मानता है. हालांकि आलोचक गुजरात दंगों के कारण उनकी उम्मीदवारी पर सवाल भी उठाते हैं.

इसे भी पढ़ें

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें