बुधवार, 9 जनवरी 2013

बजट से पहले रेल भाड़ा बढ़ा



BBC

सभी श्रेणियों में रेल का किराया बढ़ा

 बुधवार, 9 जनवरी, 2013 को 15:55 IST तक के समाचार

भारतीय रेल
रेल मंत्रालय यात्री किराया बढ़ाकर अपना राजस्व 12 हजार करोड़ रूपए बढ़ाना चाहता है
रेलमंत्री पवन कुमार बंसल ने बुधवार को सभी श्रेणी के यात्री किराए में बढ़ोत्तरी की घोषणा की है.
इसके तहत द्वितीय श्रेणी से लेकर एसी फ़र्स्ट क्लास तक सभी श्रेणी में यात्रा करना महंगा हो जाएगा.
द्वितीय श्रेणी के रेल के किराए दस साल बाद बढ़ाए गए हैं.
रेलमंत्री ने कहा है कि इसके बाद अगले महीने पेश किए जाने वाले रेल किरायों में कोई बढ़ोत्तरी नहीं की जाएगी.
रेल की ख़स्ता हालत का हवाला देते हुए वे काफ़ी समय से रेल किरायों में बढ़ोत्तरी के संकेत दे रहे थे.
रेलमंत्री ने कहा है कि बढ़े हुए यात्री किराए से 6600 करोड़ रूपए की आमदनी होने की उम्मीद है जिनमें से 1000 करोड़ रूपए एसी श्रेणी के किराए से प्राप्त होंगे.

बढ़ोत्तरी

किस श्रेणी में कितना किराया बढ़ा

  • एक्सप्रेस ट्रेन, अनारक्षित- दो पैसे प्रति किमी.
  • मेल एक्सप्रेस, अनारक्षित- चार पैसे प्रति किमी.
  • द्वितीय श्रेणी शयनयान- छह पैसे प्रति किमी.
  • एसी तृतीय श्रेणी- दस पैसे प्रति किमी.
  • एसी द्वितीय श्रेणी- छह पैसे प्रति किमी.
  • एसी चेयरकार- 10 पैसे प्रति किमी.
रेल मंत्री ने घोषणा की है कि द्वितीय श्रेणी की अनारक्षित श्रेणी में उपनगरीय रेल में यात्रा करने वालों को अब प्रति किलोमीटर दो पैसे ज्यादा देने होंगे जबकि ग़ैर उपनगरीय रेलों में ये बढ़ोत्तरी तीन पैसे प्रति किलोमीटर होगी.
इसी तरह मेल एक्सप्रेस की अनारक्षित श्रेणी में यात्रा करने के लिए मुसाफिरों को अब चार पैसे प्रति किलोमीटर ज्यादा भुगतान करना होगा.
द्वितीय श्रेणी के शयनयान यानी स्लीपर क्लास में छह पैसे प्रति किलोमीटर की बढ़ोत्तरी की गई है.
एसी तृतीय श्रेणी के किराए में दस पैसे प्रति किलोमीटर की बढ़ोत्तरी की गई है.
एसी द्वितीय श्रेणी के किराए में बीते साल अप्रैल में 15 पैसे प्रति किलोमीटर की बढ़ोत्तरी की गई थी.
अब इसमें छह पैसे प्रति किलोमीटर की बढ़ोत्तरी और की गई है.
एसी चेयरकार का किराया अब 10 पैसे प्रति किलोमीटर महंगा हो जाएगा.

सुरक्षा उपायों का हवाला

रेलमंत्री पवन कुमार बंसल ने कहा कि रेल मंत्रालय यात्री किराया बढ़ाकर अपना राजस्व 12 हजार करोड़ रूपए बढ़ाना चाहता है.
रेलमंत्री ने कहा कि इस राशि का इस्तेमाल रेल यात्रा के दौरान सुरक्षा उपायों को बढ़ाने में किया जाएगा.
उन्होंने ये भी कहा कि इस राशि से ट्रेनों को पहले से ज्यादा साफ-सुथरा बनाया जाएगा.
बीते कई वर्षों से रेल मंत्रालय संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन सरकार के घटक दलों को मिलता रहा.
कांग्रेस के नेतृत्व वाली इस गठबंधन सरकार में रेल मंत्रालय पहली बार किसी कांग्रेसी नेता को मिला है.
ऐसा माना जाता है कि सरकार पहले भी यात्री किराया बढ़ाना चाहती थी लेकिन सहयोगी दलों के दबाव में वह ऐसा नहीं कर पाती थी.

इसे भी पढ़ें

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें