शनिवार, 12 जनवरी 2013

दिल्ली के सौ साल... जश्न ही जश्न


पूनम पाण्डे नई दिल्ली
दिल्ली टूरिजम ने दिल्ली के 100 साल सेलिब्रेट करने की तैयारी जोर - शोर से की हैं। इस जश्न में पतंगबाजी का मजा होगा , तो कव्वाली की मस्ती भी। पंजाबी और मुशायरे की महफिल भी होगी। आप पुरानी दिल्ली के पकवान का लुत्फ भी उठा सकेंगे , वह भी एक ही जगह पर पूरी दिल्ली के पकवान का जायका भी होगा।

प्लेटिनम जुबली के जश्न में दिल्ली की परंपरा की खुशबू होगी। वह परंपरा भी नजर आएगी , जो भुला दी गई है या फिर छोटी सी जगह पर सिमट कर रह गई है। अगले वीकएंड यानी 12 और 13 नवंबर को इंडिया गेट लॉन में काइट फेस्टिवल होगा। दिल्ली टूरिजम विभाग के अधिकारी ने बताया कि इसमें गुजरात , राजस्थान , तमिलनाडु , चंडीगढ़ और यूपी से भी लोग हिस्सा लेंगे। उन्होंने कहा कि पतंगबाजी पुरानी दिल्ली की पहचान है लेकिन अगले वीकएंड सेंट्रल दिल्ली में शान से तरह - तरह की पतंग उड़ंेगी। इसमें प्रोफेशनल क्लब के लिए काइट कटिंग कॉम्पिटिशन होगा और बच्चों , महिलाओं के लिए अलग से प्रतियोगिता भी होगी। यहां अलग - अलग साइज की पतंगें प्रदर्शित की जाएंगी , जिससे पता चलेगा कि पतंगों का अपना एक इतिहास है और वक्त के साथ पतंगों का रुप रंग किस तरह बदला है। पतंग पर ही एक थीम पवेलियन भी होगा। यहां मेला लगेगा और कल्चरल प्रोग्राम होंगे। काइट फेस्टिवल में एंट्री फ्री होगी और उसी वक्त जाकर कोई भी रजिस्ट्रेशन करा सकता है।

इसके अलावा , लजीज खाने के शौकीनों के लिए 3 से 11 दिसंबर तक एक ही पता होगा , वह है बाबा खड़क सिंह मार्ग। यहां सुबह 11 बजे से 10 बजे तक दिल्ली का पकवान फेस्टिवल होगा जिससे दिल्ली के सभी तरह के पकवान मिलेंगे। यहां फूड कोर्

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें