रविवार, 18 दिसंबर 2011

जनसंचार एवं पत्रकारिता (UGC:NET Mass Communication and Journalism)

Unit -1
  • जनसंचार एवं पत्रकारिता : मूल सन्दर्भ, अवधारणा एवं परिभाषा, प्रकृति एवं प्रक्रिया
  • संचार के प्रकार
  • जनसंचार - माध्यम की प्रकृति और अंतर्वस्तु
  • भारत में जनसंचार - पहुँच, अभिगम्यता तथा श्रोता-पाठक की प्रकृति

Unit-2
  • समाज में मीडिया की भूमिका
  • भारतीय समाज की विशिष्टाएँ-जनसंख्यात्मक एवं समाजशास्त्रीय मीडिया का समग्र प्रभाव
  • विशिष्ट श्रोता-पाठक वर्ग पर माध्यमों (मीडिया) का प्रभाव-महिला, बच्चों आदि पर
  • जनमाध्यम (मास मीडिया) प्रभावों के अध्ययन एवं इनकी सीमाएं
  • विशेष मुद्दों पर जन-जातीय-सामाजिक सरोकार, पर्यावरण, मानवाधिकार, लिंक-समानता
  • प्रेस, रेडियो, टेलीविजन, सिनेमा एवं संचार के परंपरागत माध्यम

Unit-3
  • पत्रकारिता व्यवसाय के रूप में
  • पत्रकार-भूमिका एवं दायित्व
  • भारतीय संविधान एवं प्रेस-स्वतंत्रता
  • शोध अवरोध
  • आचार संहिता और पत्रकार
  • पत्रकारिता एवं जनसंचार के शेत्र में कैरियर
  • प्रशिक्षण-समस्याएं, उद्योग की अवधारणायें एवं प्रतिक्रिया
  • माध्यम प्रबंध - सिद्धांत एवं व्यव्हार
  • माध्यम-संबद्ध व्यावसायिक संगठन
  • भारत में जनमाद्ध्यम से संबद्ध कानून

Unit 4
  • मुद्रित एवं प्रसारण माद्ध्यमों का सामान्य इतिहास-भारत के विशेष सन्दर्भ में
  • मुद्रित माध्यमों का स्वातंत्रोत्तर विकास
  • समाचार-अंग्रेजी एवं भारतीय भाषाई पत्र-महत्वपूर्ण घटनाएँ
  • पत्रिकाएं-भूमिका, पुस्तकों का दौर एवं वर्तमान स्थिति
  • लघु समाचारपत्र-समस्याएं एवं सम्भावनाये
  • प्रेस आयोग, प्रेस परिषद-इनकी अनुशंसाएँ एवं स्थिति
  • स्वतंत्र के पश्चात रडियो का विकास-प्रसार भूमिका, रेडियो ग्रामीण फोरम एवं स्थानीय प्रसारण-सामान्य एवं विशिष्ट श्रोता कार्यक्रम
  • टेलीविजन का विकास-परिदृश्य, प्रारंभिक विकास एवं प्रयोगात्मक प्रणाली, : साईट दौर एवं इसका मूल्यांकन
  • टेलीविजन का प्रसार - एशियाड के बाद का दौर, मुद्दे, सरोकार एवं समय-समय पर हुई चर्चाओं या वाद-विवाद
  • प्रसारण के संबद्ध समितियां-पृष्ठभूमि, संस्तुतियां एवं कार्यान्वयन
  • सिनेमा-ऐतिहासिक परिदृश्य एवं समसामयिक विश्लेषण-व्यावसायिक, समान्तर एवं डाक्यूमेंट्री-फिल्म उद्योग की समस्याएं और संभावनाएं.

Unit -5
  • संचार एवं सामाजिक परिवर्तन सिद्धांत
  • सामाजिक परिवर्तन में मीडिया की भूमिका-मुख्या सिद्धांत
  • मुख्या सिद्धांत की समालोचना एवं वैकल्पिक अवधारणा
  • विकास सर्जना-राज्य, बाजार तथा तृतीय शक्ति (NGO क्षेत्र)
  • सहभागी उपक्रम और सामुदायिक माद्ध्यम -स्वामित्व तथा प्रबंधन की अवधारणा

Unit -6
  • शोध प्राविधि एवं प्रक्रिया का परिचय
  • जनसंचार शोध : ऐतिहासिक सन्दर्भ
  • प्रशासनिक एवं समीक्षात्मक एवं सीमाएं
  • भारत में संचार शोध-साईट से सम्बन्ध महत्वपूर्ण अध्ययन
  • अंतर्वस्तु विश्लेषण-संख्यात्मक एवं गुणात्मक प्रविधियां
  • बाजार शोध एवं इसका संचार से सम्बन्ध विज्ञापन के विशेष सन्दर्भ में निदर्शन प्रविधियाँ एवं सीमाएं
  • मूल विश्लेषण की सांख्यिकीय प्रविधियाँ

Unit-7
  • संचार की ओपनिवेशिक संरचना
  • उपनिवेशों की समाप्ति तथा राष्ट्रों की आकांक्षाएं
  • जनमाध्यम कवरेज तथा प्रतिनिधि सम्बन्धी विवाद
  • अंतर्राष्ट्रीय संवाद समितियां-समीक्षा
  • मेकब्राइड कमीशन-संस्तुतियां एवं नीतिगत विकल्प
  • अंतर्राष्ट्रीय प्रसारण से सम्बंधित सामयिक मुद्दे एवं इनका संस्कृति पर प्रभाव, विभिन्न पक्ष एवं सांस्कृतिक प्रभाव
  • मीडिया सम्मिलन-समस्याएँ एवं विकल्प
  • जनमाध्यम नीतियाँ-अंतर्राष्ट्रीय सन्दर्भ
  • अंतर्राष्ट्रीय संचार मुद्दे-भारत की स्थिति एवं दृष्टि

Unit-8
  • रेडियो, टेलीविजन एवं रेडियो-संचार साधन के रूप में
  • टीवी, रेडियो एवं वीडियो का व्याकरण (ग्रामर)
  • उत्पादन टीम
  • प्रोड्यूसर की भूमिका
  • कार्यक्रम के विविध प्रकार
  • रेडियो-लेखन
  • टीवी-लेखन-आलेख हेतु शोध
  • दृश्य-भाषा
  • कैमरा संचलन
  • कार्यक्रम तैयार करने के मूल सिद्धांत-क्यू और कमांड
  • रेडियो विन्यास प्रारूप (रेडियो फार्मेट), टेलीविजन, सिटकाम, रूपक, व्यावसायिक कार्यक्रम, ओपेरा, डाक्यूमेंट्री, सिनेमा, थियेटर, नाटक
  • संपादन-सिद्धांत एवं व्यावहारिक पक्ष
  • ध्वनि प्रारूप (डिजाइन), माइक्रोफोन, सेट एं प्रकाश व्यवस्था
  • उपग्रह, केबिल टेलीवजन, कंप्यूटर, माइक्रोचिप

Unit-9
  • विज्ञापन
  • विपणन
  • विज्ञापन कापी एवं प्रारूप
  • जनसंपर्क
  • जनमत
  • प्रोपेगंडा

Unit-10

1 टिप्पणी: