रविवार, 18 दिसंबर 2011

ब्लॉगप्रहरी नेटवर्क ने खोले संभावनाओं के नये द्वार

हिंदी दिवस पर खास

Published on September 14, 2011 by VICHARMIMANSA DESK   ·   5 Comments  ·   Post Views  81 views
नई दिल्ली. ब्लॉगप्रहरी नेटवर्क द्वारा हिंदी दिवस के इस विशेष मौके पर एक नयी योजना की शुरुआत की गयी है. ब्लॉगप्रहरी न्यूज नेटवर्क नाम से संचालित इस योजना के अंतर्गत भारत के हर प्रमुख शहर के लिए शहर-विशेष खबरों पर आधारित न्यूज पोर्टल बनाया जायेगा. इसके लिए हर शहर से एक न्यू मीडिया प्रतिनिधि को सिटी-एडिटर के तौर पर चुना जायेगा , जिसके लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू हो चुकी है. कोई भी व्यक्ति, जिसकी उम्र २३ साल से अधिक है , निःशुल्क आवेदन कर अपने शहर के लिए न्यूज पोर्टल  प्राप्त कर सकता है. ब्लॉगप्रहरी द्वारा उस शहर से प्राप्त समाचार का चयन और संपादन की पूरी स्वतंत्रता सिटी एडिटर के हाथ में सौंप दी जायेगी. इस पूरे नेटवर्क के लिए आर्थिक मॉडल भी बनया गया है, जिसमे शहर-विशेष पोर्टल से हुए आय का 79%  हिस्सा सिटी-एडिटर के साथ बांटा जायेगा.
BNN हिंदी दिवस पर ब्लॉगप्रहरी नेटवर्क ने खोले संभावनाओं के नये द्वार
ब्लॉगप्रहरी न्यूज नेटवर्क
 ब्लॉगप्रहरी द्वारा इस मॉडल को आर्थिक लाभ की आस लगाये हिंदी ब्लॉग लेखकों और हिंदी वेबसाइट्स संचालकों के लिए एक अभूतपूर्व शुरुआत बताया जा रहा है. निश्चित तौर पर यह विश्व का पहला नागरिक-पत्रकारिता आधारित हाइपर-लोकल न्यूज पोर्टल है.
समर्पित हिंदी ब्लॉग लेखक इस मोडल का लाभ उठा धन भी कम सकते हैं और साथ ही, न्यू मीडिया के विकेन्द्रीकरण द्वारा अपनी पैठ जिला स्तर पर मजबूत बना सकते हैं.
बतौर कनिष्क कश्यप न्यू मीडिया को जन अभिव्यक्ति के क्रांति के रूप में देखा जा रहा है. ऐसे में हमारा प्रयास होना चाहिए की हम मुख्यधारा के समक्ष, एक ऐसा समप्रभावी  मॉडल तैयार करें जो हमें आर्थिक स्वतंत्रता के साथ-साथ विशिष्ट पहचान देने में मददगार बने.  कनवर्जेन्स के इस युग में अलग-थलग हो कर मुख्यधारा के सामने एक वैकल्पिक सूचना तंत्र को स्थायी नहीं बनाया जा सकता. एक व्यक्ति द्वारा संचालित वेब-साइट्स और ब्लॉग की अपनी सीमाएं होती है. वह समग्र सूचना नहीं दे सकते. खबरों की बहुलता नहीं हो कर खबरों के डायमेंशन और उसके पूर्णता ही एक बड़ा चैलेन्ज है. जब तक एक सामूहिक प्रयास इस दिशा में नहीं होगा , ऐसा कोई भी मंच नहीं उभर सकता जहाँ जा कर आपको यह अहसास हो कि अब तक की सभी अपडेट, सभी क्षेत्र से हमें मिल गयी. और यह व्यक्ति केंद्रित नहीं हो सकता.
इसलिए हमने सब-आओ , सब पाओ की निति लगाकर आमदनी का एक बड़ा हिस्सा शेयर करना उचित समझा बजाप्ते की आप सदस्यों द्वारा मनवांछित अंतराल पर लिखे गए लेखों पर आश्रित हो कर एक वैकल्पिक मीडिया की स्थापना की सोचें.
ब्लॉगप्रहरी हिंदी वेब दुनिया का ऐसा नाम है जो अपने वृहत सुविधाओं के कारण लगातार चर्चा में रहा है. हाल में ही फेसबुक के सुविधाओं के संपूर्ण एकीकरण के बाद यहाँ सदस्यों की सक्रियता में जबरदस्त उछाल आया है. विश्वस्तरीय सुविधाओं, जैसे ट्वीटर जैसी माइक्रो ब्लोगींग की सुविधा के साथ-साथ, फेसबुक के ग्रुप निर्माण, लाइव चैट के आलावा डिग्ग जैसी सोशल बुकमार्किंग सेवा को समेटे हुए है. कुल मिलकर यह हिंदी नेटिजन की आवश्यकताओं को केन्द्र में रखकर बनाया गया एक ऐसा समग्र सोशल नेटवर्क है , जो भावी समय में हिंदीभाषी पाठकों के लिए सुविधाओं के नये द्वारा खोलेगा.
न्यू मीडिया विशेषज्ञ, कनिष्क कश्यप का कहना है, “ हमने ब्लॉगप्रहरी की देखभाल और भावी विकास के लिए चार लोगों की एक समिति बनायीं है जो हिंदी पाठकों और उनकी आवश्यकतों की जरूरत पर लगातार नज़र बनाये रखता है.” ब्लॉगप्रहरी का उद्धेश्य हिंदी भाषा को अनतर्जाल पर समृद्ध करना, हिंदी भाषा के विकास के लिए मुक्त स्त्रोत सोफ्टवेयर का विकास और अनुवाद और हिंदी के लिए समर्पित वेबसाइट्स को शत-प्रतिशत निःशुल्क सेवाएं देना है. ऐसी किसी भी वेबसाईट जिसकी आयु दो वर्ष से ज्यादा है , तथा उसने हिंदी के लिए लगातार कार्य किया है और जिसकी आर्थिक स्थिति कमजोर है वह इस विशेष सहयोग के लिए अपनी वेबसाईट का नाम प्रस्तावित कर सकती है.”
हाइपर लोकल न्यूज मॉडल के सभी पहलुओं को समझाते हुए , एक पन्ना ब्लॉगप्रहरी की मुख्य वेबसाइट पर उपलब्ध है.
आवेदन की आखिरी तारीख

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें