गुरुवार, 15 दिसंबर 2011

नए टीवी चैनलों के लांच की डगर कठिन



Source: बिजनेस भास्कर नई दिल्ली   |   Last Updated 02:52(08/10/11)
विज्ञापन
फिल्टर:- नॉन न्यूज चैनलों के अप लिंकिंग और डाउनलिंकिंग के लिए नेटवर्थ को 1.5 करोड़ रुपये से बढ़ा कर 5 करोड़ रुपये किया जा रहा है। अतिरिक्त चैनलों के लिए कंपनी को हर चैनल के लिए 2.5 करोड़ रुपये का नेटवर्थ होना जरूरी होगा।

मैदान में:- 31 अगस्त 2011 तक सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने कुल 745 टीवी चैनलों को अनुमति दी। इसमें से 366 टीवी चैनलों को न्यूज एंड करंट अफेयर्स श्रेणी में जबकि 379 चैनलो को नॉन न्यूज श्रेणी में अनुमति मिली है।


नया टीवी चैनल लांच करना अब पहले जैसा आसान मामला नहीं रहेगा। इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के क्षेत्र में गैर-जिम्मेदार खिलाडिय़ों के प्रवेश को रोकने के लिए सरकार ने कई नए कदमों की घोषणा कर दी है। इसके तहत निजी टीवी चैनलों के अप लिंकिंग और डाउनलिंकिंग से संबंधित नीति के संशोधन संबंधी सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के प्रस्ताव का अनुमोदन कर दिया गया है। प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल की शुक्रवार को यहां हुई बैठक में यह निर्णय लिया गया।


सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने टेलीकाम रेगुलेटरी अथारिटी आफ इंडिया (ट्राई) के साथ विस्तृत सलाह मशविरे के बाद यह प्रस्ताव तैयार किया है। नीति में संशोधन के बाद भारत में सिर्फ वही कंपनियां या संस्थाएं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में प्रवेश कर सकेंगी, जो इस क्षेत्र में काम करने के लिए गंभीर होंगी।वर्तमान में टीवी चैनलों के लिए दो गाइडलाइन हैं।

एक में विदेशी चैनल जो कि विदेशों से अप लिंक कर भारत में कार्यक्रम दिखाते हैं। दूसरा उन देशी चैनलों के लिए है जो कि देश में ही अप लिंक करते हैं। पहली गाइडलाइन 11 नवंबर 2005 को अधिसूचित हुई जबकि दूसरी गाइडलाइन दो दिसंबर 2005 को अधिसूचित हुई। इसके बाद देश में चैनलोंं का व्यापक विस्तार हुआ। 31 अगस्त 2011 तक सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने कुल 745 टीवी चैनलों को अनुमति दी।

इसमें से 366 टीवी चैनलों को न्यूज एंड करंट अफेयर्स श्रेणी में जबकि 379 चैनलो को नॉन न्यूज श्रेणी में अनुमति मिली है। जिस नीति को मंत्रिमंडल की अनुमति मिली है, उसके मुताबिक नॉन न्यूज चैनलों के अप लिंकिंग और डाउनलिंकिंग के लिए नेटवर्थ को 1.5 करोड़ रुपये से बढ़ा कर 5 करोड़ रुपये किया जा रहा है। यह उस कंपनी के पहले चैनल पर लागू होगा। अतिरिक्त चैनलों के लिए कंपनी को हर चैनल के लिए 2.5 करोड़ रुपये का नेटवर्थ होना जरूरी होगा।


न्यूज चैनल के अप लिंकिंग के लिए नेटवर्थ तीन से बढ़ा कर 20 करोड़ किया जा रहा है। अतिरिक्त चैनलों के लिए पांच करोड़ रुपये प्रति चैनल होगा। टेलीपोर्ट के लिए नेटवर्थ क्राइटेरिया को एकसमान कर दिया गया है। इसी के साथ टीवी चैनलों को अनुमति लेने के एक वर्ष के अंदर काम शुरू करना होगा। इ

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें