मंगलवार, 2 फ़रवरी 2021

चौरी-चौरा की घटना और गांधीजी


*चौरी-चौरा की घटना के साल भर पहले गोरखपुर आए थे गांधी*


*चौरी-चौरा की घटना के साल भर पहले का माहौल*

*बाले मियां के मैदान में उनको सुनने उमड़ पड़ा था जनसैलाब*

*मुंशी प्रेमचंद ने दे दिया था त्यागपत्र* *

*डिप्टी कलेक्टर बनने की बजाय विदेशी कपड़ों की होली जलाकर जेल जाना पसंद किया फिराक ने*

 *गांव-गांव बनीं समितियां, बनाए गए स्वयंसेवक*

*लखनऊ*


जंगे आजादी के पहले संग्राम (1857) में ब्रिटिश हुकूमत के खिलाफ पूर्वांचल के तमाम रजवाड़ों/जमीदारों (पैना,सतासी, बढ़यापार नरहरपुर, महुआडाबर)- की बगावत। इस दौरान हजारों की संख्या में लोग शहीद हुए। इस महासंग्राम में प्रत्यक्ष और परोक्ष रूप से शामिल आवाम पर हुक्मरानों ने अकल्पनीय जुल्म ढा़ए। बगावत में शामिल रजवाड़ों और जमींदारों को अपने राजपाट और जमीदारी से हाथ धोना पड़ा। ऐसे लोग आवाम के हीरो बन चुके थे। इनके शौर्यगाथा सुनकर लोगों के सीने में फिरंगियों के खिलाफ बगावत की आग लगातार सुलग रही थी। उसे भड़कने के लिए महज एक चिन्गारी की जरूरत थी। 


ऐसे ही माहौल में उस क्षेत्र में महात्मा गांधी का आना हुआ। 1917 में वह नील की खेती (तीन कठिया प्रथा)के विरोध में चंपारन आना हुआ था। उनके आने के बाद से पूरे देश की तरह पूर्वांचल का यह इलाका भी कांग्रेस मय होने लगा था। एक अगस्त 1920 को बाल गंगाधर तिलक की मृत्यु के बाद गांधीजी कांग्रेस के सर्वमान्य नेता बनकर उभरे। स्वदेशी की उनकी अपील का पूरे देश में अप्रत्याशित रूप से प्रभावित हुआ। चरखा और खादी जंगे आजादी के सिंबल बन गये। ऐसे ही समय 8 फरवरी 1920 को गांधी जी का गोरखपुर में पहली बार आना हुआ। बाले मिया के मैदान मेे आयोजित उनकी जनसभा काे सुनने और गांधी को देखने के लिए जनसैलाब उमड पड़ा था। उस समय के दस्तावेजों के अनुसार यह संख्या 1.5 से 2.5 लाख के बीच रही होगी। उनके आने से रौलट एक्ट और अवध के किसान आंदोलन से लगभग अप्रभावित पूरे पूर्वांचल में जनान्दोलनों का दौर शुरू हो गया। गांव-गांव समितियां स्थापित हुईं। वहां से आंदोलन के लिए स्वयंसेवकों का चयन किया जाने लगा। मुंशी प्रेम चंद्र तबके (धनपत राय) ने राजकीय नार्मल स्कूल से सहायक अध्यापक की नौकरी छोड़ दी। फिराक गोरखपुरी ने डिप्टी कलेक्टरी की बजाय विदेशी कपड़ों की होली जलाने के आरोप में जेल जाना पसंद किया। ऐसी ढ़ेरों घटनाएं हुईं।

इसके बाद तो पूरे पूर्वांचल में ब्रिटिश हुकूमत के खिलाफ माहौल बन चुका था। गांधी के आगमन के करीब साल भर बाद 4 फरवरी 1921 को गोखपुर के एक छोटे से कस्बे चौरी-चौरा में जो हुआ वह इतिहास बन गया। इस घटना के दौरान अंग्रजों के जुल्म से आक्रोशित लोगों ने स्थानीय थाने को फूंक दिया। इस घटना में 23 पुलिसकर्मी जलकर मर गए। इस घटना से आहत गाँधीजी ने आंदोलन वापस ले लिया। चौरी-चौरा के इस घटना की पृष्ठभूमि 1857 के गदर से ही तैयार होने लगी थी।


*भावी पीढ़ी में राष्ट्रवाद का अलख जगाएगी योगी की पहल*

लोग इस पूरी पृष्ठभूमि को जानें। जंगे आजादी के लिए आजादी के दीवानों ने किस तरह अपना सब कुछ न्यौछावर कर दिया। कितनी यातनाएं सहीं, इसी मकसद से चौरीचौरा के सौ साल पूरे होने पर योगी सरकार ज्ञात और ज्ञात शहीदों की याद में साल भर कार्यक्रम करने जा रही है। मंशा साफ है। भावी पीढ़ी भी आजादी के मोल को समझे। उन सपनों को अपना बनाएं जिसके लिए मां भारती के सपूतों ने खुद को कुर्बान कर दिया। खुद में देशप्रेम का वही जोश, जज्जबा और जुनूर पैदा करें जो उस समय के आजादी के दीवानों में था। श्रेष्ठ और सशक्त भारत के लिए यह जरूरी भी है।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें