सोमवार, 25 जनवरी 2021

स्ट्रीट की लड़कियां / कल्पना सिंह

 जनवरी का महीना अमेरिका में  National Human Trafficking and Slavery Prevention Month को समर्पित होता है. पर Human Trafficking और Slavery पूरे विश्व में होता रहा है, और हर रोज होता है.

इस विषय पर भारत में लिखी मेरी एक कविता "स्ट्रीट की लड़कियां" (तफ़्तीश जारी है, १९९३ से) - कल्पना सिंह 


स्ट्रीट की लड़कियां


वे चौराहें थीं,

जहां तक सभी दिशाओं से

आने के मार्ग तो निर्धारित थे

पर वे स्वयं कोई मार्ग या

गंतव्य नहीं थीं।


कोई राह चलता मुस्कुराता

उनका पता बताता

तो वे जैसे लड़कियों से सहसा पौध,

और फिर पौध से सहसा

वृक्षों में बदल जातीं


तीव्रगंधा, पुष्पोंवाली,

जो सारा दिन देखती हैं

अपने दरीचों और मुंडेरों पर बीतता सूरज,

और जगमगाती हुई रोशनी से निकलकर

अपनी सीढ़ियों पर चढ़ती रात, हर रात।


रात बीतती है,

पर चुकती नहीं,

सूरज डूबता है

पर मरता नहीं,

बस हर सांझ 

दुबक जाता है वहीँ कहीं, 


उनके आसपास,

या किसी लड़की के 

ज़ाफ़रानी दुपट्टे के पीछे

उसके धड़कते सीने में,

फिर रात भर

तिलमिलाता है।


रात थकती है,

सूरज तिलमिलाता है,

और लड़कियां...?

किसी थके हुए एक लम्हें में देखती हैं

अपने थकते पांव,


और तब,

उनकी आंखों में उतर आता है

उनका शहर, 

अथवा गांव,

और अपने घर की

एक धुंधली सी याद।


आंगन में बैठ कर मां ने कभी,

उनकी खनकती हुई हंसी सी

एक पायल पहनाई थी 

उनके पावों में,

याद आता है उन्हें,


उस पायल के नन्हें नूपुर

अब कितने विकसित हो गए हैं

क्या पता होगा माँ को?

उसकी करुण आंखें तो

अब भी ताकती होंगी द्वार


नन्हें-नन्हें नूपुर बंधे

नन्हें पावों की प्रतीक्षा में...

पर उससे आगे भला कब,

कहां सोच पाईं लड़कियां?

जब भी सोचना चाहा -


हर बार एक बहस 

उनके इर्द-गिर्द

तेज होती चली गई

हर बार, 

एक अधूरी रह जानी वाली बहस!


अपने औचित्य और 

अनौचित्य के हिंडोले पर,

एक बार फिर जाकर 

झूलने लगती हैं लड़कियां,

तेज, और तेज, खूब तेज


कहकहों के आतिश में

झुलसती चली जाती हैं लड़कियां

हर रात खुद पर से

एक नया पतझड़

गुजार देने के लिए!


ईश्वर जाने,

कि हर सुबह,

पतझड़ के मारे उनके पत्तों की जगह

फिर कोई नया पत्ता 

कैसे उग आता है?


कि उनका हर जख़्म

बगैर किसी मरहम के ही 

कैसे भर जाता है?


अभिशाप होती हैं ये लड़कियां

या वरदान होती हैं ये लड़कियां?

होती हैं पुतलियां,

या सामान होती हैं ये लड़कियां?


चीखती हैं फिर क्यों 

हमारी तरह ये?

कोई भी तो नहीं कहता,

इंसान होती हैं ये लड़कियां?


© कल्पना सिंह 


Photo: © Dazzle Jam

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें