मंगलवार, 1 सितंबर 2020

मेरा दरद ना जानो कोय

 ● पीड़ा पुरुष की..!!!

मैं पुरुष हूँ, और मैं भी प्रताड़ित होता हूँ, मैं भी घुटता हूँ, पिसता हूँ, टूटता हूँ, बिखरता हूँ, भीतर ही भीतर रो नहीं पाता, कह नहीं पाता पत्थर सा हो चुका हूं, तरस जाता हूँ पिघलने को, क्योंकि मैं पुरुष हूँ !

मैं भी सताया जाता हूँ, जला दिया जाता हूँ, उस “दहेज” की आग में जो कभी मांगा ही नहीं था, स्वाह कर दिया जाता है, मेरे उस मान सम्मान को तिनका तिनका कमाया था, जिसे मैंने मगर आह भी नहीं भर सकता क्योंकि पुरुष हूँ ! मैं भी देता हूँ आहुति 

“विवाह” की अग्नि में अपने रिश्तों की

हमेशा धकेल दिया जाता हूँ, रिश्तों का वज़न बांध कर ज़िम्मेदारियों के उस कुँए में जिसे भरा नहीं जा सकता मेरे अंत तक भी कभी दर्द अपना बता नहीं सकता, किसी भी तरह जता नहीं सकता, बहुत मजबूत होने का

ठप्पा लगाए जीता हूँ, क्योंकि मैं पुरुष हूँ ! हाँ मेरा भी होता है “बलात्कार” कर दी जाती है इज़्ज़त तार तार रिश्तों में, रोज़गार में महज़ एक बेबुनियाद आरोप से कर दिया जाता है तबाह मेरे आत्मसम्मान को बस उठते ही एक औरत की उंगली उठा दिये जाते हैं, मुझ पर कई हाथ बिना वजह जाने, बिना बात की तह नापे बहा दिया जाता है, सलाखों के पीछे कई धाराओं में क्योंकि मैं पुरुष हूँ !

सुना है जब मन भरता है, तब वो आंखों से बहता है।

 “मर्द होकर रोता है”

 “मर्द को दर्द कब होता है”

टूट जाता है मन से आंखों का वो रिश्ता

ये जुमले जब हर कोई कहता है, तो सुनो सही गलत को एक ही पलड़े में रखने वालों हर स्त्री श्वेत वर्ण नहीं और न ही हर पुरुष स्याह “कालिख” क्यों सिक्के के अंक छपे पहलू से ही उसकी कीमत हो आंकते, मुझे सही गलत कहने से पहले मेरे हालात नहीं जांचते?

जिस तरह हर बात का दोष हमें दे देते।

मैं क्यूँ पुरुष हूँ? हम खुद से कह कर

अब खुद को हैं कोसते..!!!

ये स्त्रियां पुरुष के लिए आकर्षक क्यों बनना चाहती हैं, जबकि वे पुरुषों की कामुकता को तो जरा भी पसंद नहीं करतीं ?

    इसके पीछे राजनीति है। स्त्रियां आकर्षक दिखना चाहती हैं, क्योंकि उसमें उन्हें ताकत मालूम होती है। वे जितनी आकर्षक होंगी उतनी पुरुष के आगे ताकतवर सिद्ध होंगी। और कौन ताकतवर बनना नहीं चाहता ? सारी जिंदगी लोग ताकतवर बनने के लिए संघर्ष करते हैं। तुम धन क्यों चाहते हो ? उससे ताकत आती है। तुम देश के प्रधानमंत्री या राष्ट्रपति क्यों बनना चाहते हो ? 

 उससे ताकत मिलेगी, तुम महात्मा क्यों बनना चाहते हो ? उससे ताकत मालूम होगी।

लोग अलग-अलग उपायों से ताकतवर बनना चाहते हैं। तुमने स्त्रियों के पास, ताकतवर बनने का और कोई उपाय ही नहीं छोडा़ है। उनके पास एक ही रास्ता है..उनका शरीर, इसलिए वे निरंतर अपना आकर्षण बढा़ने की फिक्र में होती हैं।

क्या तुमने एक बात देखी है, कि आधुनिक स्त्री आकर्षक दिखने की फिक्र नहीं करती, क्यों ? क्योंकि वह और तरह की सत्ता - राजनीति में उलझ रही है, आधुनिक स्त्री पुराने बंधनों से बाहर आ रही है, वह विश्वविद्यालयों में पुरुष से टक्कर देकर डिग्री प्राप्त करती है। वह बाजार में, व्यवसाय में, राजनीति में पुरुष के साथ संघर्ष करती है। उसे आकर्षक दिखने की बहुत फिक्र करने की जरूरत नहीं है।

पुरुष ने कभी आकर्षक दिखने की फिक्र नहीं की क्यों ?

उनके पास ताकत जताने के इतने तरीके थे, कि शरीर को सजाना थोडा़ स्त्रेण मालूम पड़ता था। साज-सिंगार स्त्रियों का ढंग है।

यह स्थिति सदा से ऐसी नहीं थी, अतीत में एक समय था, जब स्त्रियां उतनी ही स्वतंत्र थी, जितने कि पुरुष तब पुरुष भी स्त्रियों की भांति आकर्षक बनने की चेष्टा करते थे। कृष्ण को देखो, खूबसूरत रेशमी वस्त्र, सब तरह के आभूषण, मोर मुकुट, बांसुरी उनके चित्र देखो,  वे इतने आकर्षक लगते हैं।

 वे दिन थे, जब स्त्री और पुरुष दोनों ही जो मौज हो, वैसा करने के लिए स्वतंत्र थे।

उसके बाद एक लंबा अंधकारमय युग आया जब स्त्रियां दमित हुई। इसके लिए ये मुगल, तथाकथित इस्लाम जिम्मेवार हैं।  वे स्त्रियों से भयभीत थे, इसलिए स्त्रियों को दबा दो जीवन में उतरने के,  प्रवाहित होने के उनके सारे उपाय छिन गए। फिर एक ही चीज शेष रह गई : उनका शरीर..!!!

और ताकतवर बनना कौन नहीं चाहता ?

बशर्ते कि तुम समझो कि ताकत दुख लाती है, ताकत हिंसक और आक्रामक होती है। यदि समझ पैदा होकर तुम्हारी ताकत की लालसा विलीन हो जाती है, तो ही तुम उसे छोड़ सकते हो अन्यथा सभी ताकत चाहते हैं। स्त्री की ताकत इसी में है कि वह तुम्हारे सामने गाजर की तरह झूलती रहे, कभी मिलती नहीं हमेशा उपलब्ध रहती है। इतनी पास लेकिन कितनी दूर यही उसकी ताकत है। यदि वह फौरन तुम्हारी गिरफ्त में आ जाती है तो उसकी ताकत चली गई, और एक बार तुमने उसके शरीर को भोग लिया, उसका उपयोग कर लिया तो बात खतम हो गई। फिर उसकी तुम्हारे ऊपर कोई ताकत नहीं होती। इसलिए वह आकर्षित करती है, और अलग खडी़ होती है। वह तुम्हें उकसाती है, उत्तेजित करती है, और जब तुम पास आते हो तो इनकार करती है।

 अब यह सीधा-सादा तर्क है। यदि वह हां करती है, तो तुम उसे एक यंत्र बना देते हो, उसका उपयोग करते हो और कोई नहीं चाहता कि उनका उपयोग हो, यह उसी सत्ता -राजनीति का दूसरा हिस्सा है। सत्ता का मतलब है, दूसरे का उपयोग करने की क्षमता और जब कोई तुम्हारा उपयोग करता है, तब तुम्हारी ताकत खो जाती है।

तो कोई स्त्री भोग्य वस्तु होना नहीं चाहती और तुम सदियों से उसके साथ यह करते आए हो प्रेम एक कुरूप बात हो गई है।

प्रेम तो परम गरिमा होना चाहिए लेकिन वह है नहीं। क्योंकि पुरुष स्त्री का उपयोग करता आया है, और स्त्री इस बात को नापसंद करती है, इसका विरोध करती है स्वभावतः वह एक वस्तु बनना नहीं चाहती।इसलिए तुम देखोगे कि पति पत्नियों के आगे पूंछ हिला रहे हैं, और पत्नियां इस मुद्रा में घूम रही हैं कि वे इस सबसे ऊपर हैं।  पाक, पवित्र स्त्रियां दिखावा करती रहती हैं कि उन्हें सेक्स में , घृणित सेक्स में जरा भी रस नहीं है। वस्तुतः उन्हें उतना ही रस है जितना कि पुरुष को लेकिन मुश्किल यह है कि वे अपना रस प्रकट नहीं कर सकतीं अन्यथा तुम तत्क्षण उनकी सारी ताकत खींच लोगे और उनका उपयोग करोगे। तो स्त्रियां बाकी बातों में रस लेती हैं।

वे आकर्षक बनेंगी और फिर तुम्हें इनकार कर देंगी। यही ताकत का आनंद है, तुम्हें अपनी औऱ खींचना, और तुम इस तरह, खिंचे चले आते हो जैसे कच्चे धागे से बंधे हो, और फिर तुम्हें 'ना' कहना, तुम्हें एक दम ताकत-विहीन बना देना। तुम कुत्ते की तरह दुम हिलाते हो और स्त्री अपनी ताकत का आनंद लेती है। यह पूरा मामला बडा़ कुरूप है। इसमें प्रेम सत्ता की राजनीति बनकर रह गया है। इसे बदलना होगा। हमें नई मनुष्यता और नया संसार निर्मित करना है, जिसमें प्रेम सत्ता का बिषय बिलकुल नहीं होगा। कम से कम प्रेम को तो इस राजनीति से बाहर करो वहां धन रहने दो, राजनीति रहने दो, सब कुछ रहने दो लेकिन प्रेम को वहां से बाहर निकाल लो..!!

प्रेम बहुमूल्य चीज है, उसे बाजार का हिस्सा मत बनाओ। लेकिन वही हुआ है, स्त्री हर प्रकार से सुंदर बनने की चेष्टा करती है,कम से कम सुंदर दिखने की चेष्टा तो करती ही है।एक बार तुम उसके जाल में फंस गए तो वह तुमसे बचने लगेगी सारा खेल यही है, अगर तुम उससे दूर भागने लगे तो वह तुम्हारे पास आएगी। वह तुम्हारा पीछा करेगी जैसे ही तुम उसके पीछे जाओगे, वह दूर भागेगी सारा खेल यही है। यह प्रेम नहीं है, यह अमानवीय है। लेकिन यही होता है, और युग-युग से यही होता रहा है, इससे सावधान रहना, प्रत्येक व्यक्ति की अपनी असीम गरिमा है और कोई भी व्यक्ति वस्तु बनकर नहीं रहेगा। पुरुष का सम्मान करो, स्त्री का भी सम्मान करो,वे सभी दिव्य हैं। सुंदर होना अच्छा है, सुंदर दिखना कुरूप है। आकर्षक होना अच्छा है, लेकिन आकर्षक होने का दिखावा करना असुंदर है। यह बनावटीपन है, चालाकी है, और लोग स्वाभाविक रूप से सुंदर हैं, किसी मेक अप की जरूरत नहीं है। सब मेक अप कुरूप होते हैं। वे तुम्हें कुरूप बनाते हैं, सादगी में, निश्छलता में सुंदरता है। स्वाभाविक होना, सहज होना सुंदर बनाता है। और जब तुम सुंदर हो जाओ तो उसका सत्ता की राजनीति के लिए उपयोग मत करना वह पाप है, अपवित्र है, सौंदर्य परमात्मा की देन है। उसे बांटो लेकिन किसी तरह अधिकार जताने के लिए दूसरे को वश करने के लिए उसका उपयोग मत करो तब तुम्हारा प्रेम प्रार्थना बनेगा और तुम्हारा सौंदर्य परमात्मा के लिए भोग बनेगा।

आखिर स्त्री की चाहत क्या है ?

   •┈┈┈•✦✿✦•┈┈┈•

एक विद्वान को फाँसी लगने वाली थी।

राजा ने कहा ~ तुम्हारी जान बख्श दूँगा, अगर मेरे एक सवाल का सही उत्तर बता दोगे।

प्रश्न था, कि ये स्त्री, आख़िर चाहती क्या है ? 

विद्वान ने कहा ~  अगर मोहलत मिले, तो पता कर के बता सकता हूँ।

राजा ने एक साल की मोहलत दे दी, विद्वान बहुत घूमा, बहुत लोगों से मिला, पर कहीं से भी कोई संतोषजनक उत्तर नहीं मिला।

आखिर में किसी ने कहा ~ दूर जंगल में एक भूतनी रहती है, वो ज़रूर बता सकती है। इस सवाल का जवाब, विद्वान उस भूतनी के पास पहुँचा, और अपना प्रश्न उसे बताया।

भूतनी ने कहा कि मैं एक शर्त पर बताउंगी, अगर तुम मुझसे शादी कर लो, उसने सोचा, सही जवाब न पता चला तो जान राजा के हाथ जानी ही है, इसलिए शादी की सहमति दे दी।

शादी होने के बाद भूतनी ने कहा ~ चूंकि तुमने मेरी बात मान ली है, तो मैंने तुम्हें खुश करने के लिए फैसला किया है कि 12 घन्टे मै भूतनी और 12 घन्टे खूबसूरत परी बनके रहूँगी। अब तुम ये बताओ कि दिन में भूतनी रहूँ ..या रात को ?

उसने सोचा यदि वह दिन में भूतनी हुई, तो दिन नहीं कटेगा, रात में हुई तो रात नहीं कटेगी, अंत में उस विद्वान व्यक्ति ने कहा ~

जब तुम्हारा दिल करे परी बन जाना, जब दिल करे ~ भूतनी बन जाना।

ये बात सुनकर भूतनी ने प्रसन्न हो कर कहा, चूंकि तुमने मुझे अपनी मर्ज़ी करने की छूट दे दी है, तो मैं हमेशा ही परी बन के रहा करूँगी, और यही ~ तुम्हारे प्रश्न का उत्तर है।

🙆🏻‍♀️  स्त्री हमेशा...  अपनी मर्जी का करना चाहती है। यदि स्त्री को अपनी मर्ज़ी का करने देंगे, तो वो परी बनी रहेगी, वर्ना भूतनी, फैसला आप का, ख़ुशी आपकी, अब थोड़ा ईमानदारी से बताओ, किसके घर में परी है ?

औऱ किसके में ....!!!

हमेशा स्नेह पूर्वक रहे, प्यार वही छुपा है, एक दूसरे का हर बात साथ दे, और हमेशा खुश रहे, मस्त रहे, मुस्कुराते रहे आपका मित्र बड़क साहब...✍️

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें