रविवार, 26 जुलाई 2020

तीस हज़ारी की हज़ार बाते

तीस हजारी, एक भूली बिसरी कहानी

मुगलों के जमाने में यह छायादार पेड़ों वाला एक खुला मैदान होता था, जहां कश्मीर जाने वाले कारवां दिल्ली का शहर छोड़ने के बाद अपना डेरा डालते थे। इसी तरह बाहर से सफर करके आने वाले यात्रियों के दल षहर में घुसने से पहले ठहरते थे। इसी वजह से, जिस दरवाजे से होकर ये तमाम मुसाफिर और कारवां गुजरते थे, उसे कश्मीरी दरवाजा (गेट) के नाम से जाना जाता था।
यह शाहजहां के बसाए शहर शाहजहाँनाबाद के परकोटे के करीब बनाई गई विशाल दीवार में निर्मित दस दरवाजों में से एक था। उन दिनों में तीस हजारी में ऊंट, घोड़े और यहां तक हाथी भी देखे जा सकते थे। इसके अलावा बैलगाडि़यां और दूसरी पशु गाडि़यां भी नजर आती थी।
जहां पर अनेक व्यापारी भी अपना डेरा डालते थे, जिनमें से एक बड़ी संख्या कश्मीरियों की होती थी। यहां कई छायादार पेड़ थे, जिनकी छांव में माल रखा जाता था और काफिले के पशु और आदमी पल भर आराम कर लेते थे।
इस ठहराव स्थल वाले मैदान में कुत्ते, चील-कौवे और जंगली जानवरों सहित चोर तथा लुटेरे अपने-अपने कारण से जमा होते थे। यहां रात में छापे के डर से गुर्जरों का खासा आतंक था।

https://nalin-jharoka.blogspot.com/2016/01/tis-hazari-forgotten-chapter-of-capital.html

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें