शनिवार, 21 मार्च 2020

कोरोना से बचाव का अपील / दिनेश श्रीवास्तव




अपील / दिनेश श्रीवास्तव
              -----------

सुन सारे!कहाँ से आवत हवे रे घूम के?
जब मना बा त का जरूरत बा एने वोने घुमला के।बुझात नइखे का।पूरा देश परेशान बा आ तोहार मटरगस्ती चालू बा।।


सुन ले सुमेरवा!कान खोल के-
थेथरई मत कर न त टास्क फोर्स पकड़ लेई तब का करबे?घरवे में बैठला के काम बा।



पो सभे कान खोल के सुन लेयीं और गाँठ बाँध लेयीं-


लबर लबर कर के समान  नहीं खरीदिये।दुकान भागल नहीं जा रहा है।

बढ़िया से हाथ गोड धो के बिस्तर पर पड़े रहिए।हाथ त कई बार सबुनाइये।मन घबराए त बी बी सी लंदन घरहि में बैठ के सुन लीजिए नाहीं त घरवे में जोगीरा गाईये।बहरा जायके कौनो काम नइखे।


घर के लईकन आ बुढ़ऊ क हाथ पैर बांध के घरहि में रखिये।

भोरे खरिहान जाना है त अकेलही जाईये।

खयिनी अकेलहिं ठोकिये और अकेलही खाइये।केहुसे न त माँगिये और न दीजिए।

कोरोना भुतहा रोग नहीं है।केहू ओझा सोखा के पास मत जाइए।

बुखार खाँसी सर्दी ज़ुकाम पहिलहुँ होखे।घबराए के नइखे।हँ कई दिन से होखे त डॉक्टर बाबू के पास जरूर जाईये।

बाकी भगवान पर भरोसा रखिये।कुछु ना होई।


हाँ, मोदी क कहना मान के एक दिन 22 के घरहि में अपने को बंद कर लीजिए।

         
 🙏

             
 दिनेश श्रीवास्तव






1 टिप्पणी:

  1. सड़क के गरीब घबरायेंं नहीं ना दौड़ लगायें ना पहाड़ से कूदें। हमको तो घर में रहना ही है। भगवान भरोसे हैं ही। :)

    जवाब देंहटाएं