सोमवार, 14 जून 2021

धमकी, राजद्रोह और कोर्ट कचहरी झेलते पत्रकारिता की यात्रा जारी : अनिल

 नभछोर में आज सायं :  मिलिए दिव्य हिमाचल के संपादक अनिल सोनी से


##धमकी, राजद्रोह और कोर्ट कचहरी झेलते पत्रकारिता की यात्रा जारी : अनिल सोनी


-कमलेश भारतीय


धमकी, राजद्रोह के केस और कोर्ट कचहरी के चक्करों के बीच मेरी पत्रकारिता यात्रा जारी है । फिर भी आने वाला जमाना जब कंटेंट को महत्त्व देने लगेगा तब पत्रकारिता का स्वर्ण युग लौट आयेगा । यह कहना है हिमाचल के धर्मशाला से प्रकाशित दैनिक दिव्य हिमाचल के संपादक अनिल सोनी का । वे मेरे निजी मित्र भी हैं और देखते देखते दिव्य हिमाचल को एक प्रमुख समाचारपत्र ही नहीं बना दिया बल्कि इसे टीवी और डिजिटल रूप भी प्रदान किये । मूल रूप से धर्मशाला के ही निवासी अनिल सोनी की शिक्षा चंडीगढ़,धर्मशाला और जयपुर में हुई । पंजाब यूनिवर्सिटी से पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन में एम ए , राजस्थान से जर्नलिज्म , टूरिज्म और होटल मैनेजमेंट में डिप्लोमा । दो साल पहले सपरिवार धर्मशाला गया था तब डाॅ प्रत्यूष गुलेरी के साथ इनको मिला दिव्य हिमाचल के कार्यालय में और तब भी पत्रकारिता पर बातचीत हुई । मेरे अनेक लेख दिव्य हिमाचल में स्थान पा चुके हैं ।

-पत्रकारिता में रूचि कैसे?

-बचपन से ही । पापा ओमप्रकाश सोनी एक शिक्षा अधिकारी थे और खुद लेखक । घर में अनेक पत्र पत्रिकायें आती थीं । पापा इम्प्रिंट में लिखते भी थे । अपनी डायरी भी लिखते । इस तरह लिखने पढ़ने की आदत व संस्कार  उन्हीं से मिले । 

-शुरूआत कैसे हुई ?

-संपादक के नाम लिखे पत्रों से । वीरप्रताप , ट्रिब्यून और एक्सप्रेस में पत्र प्रकाशित होते रहे ।

-फिर जाॅब कहां कहां ?

-ओबराॅय व ताज होटल्ज में लेकिन यह काम ज्यादा रूचिकर नहीं लगा । वैसे फ्रीलांसर के तौर पर  दिल्ली प्रेस , वीर प्रताप और ट्रिब्यून में खूब लिखता रहा । तब हिमाचल में कोई अखबार नहीं था । तीन चार साप्ताहिक ही निकलते थे । टूरिज्म और ट्रैवल पर खूब लिखा ।

- फिर सीधे अखबार में कैसे और कब लगे ?

-बरेली का अखबार था विश्व मानव । इसने करनाल से भी इसका प्रकाशन शुरू किया तो ट्रेनी सब एडिटर के  रूप में ज्वाइन किया और छह माह बाद बाद ही इसका न्यूज एडिटर बना दिया गया । फिर इसे हरियाणा के मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला ने ले लिया और इसका नाम रखा जनसंदेश । तब हमें दिल्ली ऑफिस भेजा गया पर एक साथ 37 लोगों ने इससे रिजाइन कर दिया जिनमें मैं भी एक था ।

-फिर आगे कहां ?

-तरूण भारत में जो सीधे आर एस एस का पत्र था । यानी एक विचारधारा का प्रतिबद्ध अखबार । यहां चार साढ़े चार साल तक काम किया । बाबरी मस्जिद के घटनाक्रम के दिनों में उसी में थे । तब हमें एक विशेष समाज की ओर से धमकियां भी मिलीं । पर मैंने अग्रलेख लिखा इस प्रकरण पर और हमारे न्यास में शामिल मराठवाड़ा के एक प्रोफेसर ने  इस पर आपत्ति करने की कोशिश भी की । पर हम स्वतंत्र रहे पत्रकारिता में  । 

-इससे आगे ?

-तरूण भारत से रिजाइन और ऑफर मिला औरंगाबाद के लोकमत समाचार से और वहां चार साल तक काम किया । वे टीवी से जुड़ने की प्रक्रिया में थे । इतने में दिव्य हिमाचल   शुरू हो गया और ऑफर मिला न्यूज डायरेक्टर का । तब राधेश्याम शर्मा और वी आर जेटली भी इससे जुड़े थे । बाद में सन् 1997 में मुझे संपादक बना दिया गया ।

-इन चौबीस सालों का सफर कैसा रहा?

-इन सालों में आज भी ऐसा लगता है जैसे आज ही सफर शुरू किया हो । पर अखबार के साथ टी वी , वेबसाइट और डिजिटल भी कर दिया और फिल्म निर्माण भी किया । 

-क्या कर पाये आप ?

-हिमाचल प्रदेश की आवाज़ बनने की कोशिश ।  पत्रकारिता के उच्च मानदंडों को बनाये रखने की कोशिश , कलुषित राजनीति का चेहरा दिखाने और लोगों का विजन बदलने की कोशिश जारी है । हम राज्य का गौरव बनें , सामजिक सांस्कृतिक गतिविधियों की जानकारी दे सकें और पत्रकारिता के मूल्यों को बनाये रखने की निरंतर कोशिश ।

-कोई पुस्तक?

-पुस्तक तो नहीं लिखी लेकिन महाराष्ट्र में रहते एक काॅलम लिखता था -आखिरी तीर । इसमें जिन्ना की कोठी पर लिखे मेरे व्यंग्य को मराठी नाट्य रूपांतरित किया गया जो बहुत पसंद किया गया । इसी तरह महात्मा गांधी की किताब पर मेरे लेखों पर आधारित गुजराती और  मराठी में नाटक बनाये गये । 

-आज की पत्रकारिता पर क्या कहेंगे?

-देखिए जब जनसंदेश और तरूण भारत में काम किया तब भी ऐसे प्रतिबंध महसूस नहीं हुए । हिमाचल में अपने राज्य में रहते पांच पांच मुख्यमंत्री देखे और राजद्रोह के केस भी झेले । एक समाज की ओर से धमकियां भी मिलीं और कोर्ट कचहरी भी हुई । मजेदार बात कि हिमाचल में कोर्ट कचहरी की नौबत ज्यादा आती है । इसके बावजूद अब लगता है कि इलेक्ट्रानिक मीडिया तो पूरी तरह ध्वस्त  हो चुका है । डिजिटल युग शुरू हो चुका है । यूट्यूब चैनल का जमाना आ रहा है । इस पर यानी सोशल मीडिया पर भी अंकुश लगाने के प्रयास किये जा रहे हैं।  

-हल क्या ?

-जिस दिन कटेंट की ओर पाठक /दर्शक ध्यान देने लगेंगे स्वर्णिम युग लौट आयेगा।  

-पत्नी?

-स्मिता सोनी जो प्रिंसिपल रहीं । अब रिटायर ।

-बच्चे ?

-एक बेटा अबीर सोनी जो एमबीए कर रहा है ।

-लक्ष्य?

-जर्नलिज्म में सीखते जाना है ।  कोविड ने डेढ़ वर्ष तक काफी प्रभावित किया और इन दिनों हमारा डिजिटल नौ करोड़ लोगों तक पहुंचा । संतोष इस बात का कि इन सालों में पत्रकारिता के परिदृश्य में कुछ बेहतरीन नगीने चुन पाया , जिनमें से कई इस समय संपादक के पद पर सुशोभित हैं, लेकिन मौजूदा दौर में युवा प्रतिभा को खोजना कठिन हो रहा है।

हमारी शुभकामनाएं अनिल सोनी को ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें