बुधवार, 8 जुलाई 2020

अब ऐसे नेता कहाँ मिलेंगे भला / राय तपन भारती




यादों के झरोखे में

 (When a young journalist took the interview of Home minister)
....................................................................


यह 31 साल पुरानी मेरी एक यादगार तस्वीर है।

1984 में इंदिरा गांधी शासनकाल के तत्कालीन केंद्रीय गृह मंत्री प्रकाश चंद्र सेठी रांची दौरे पर आए थे (शायद मई महीने में)। तब मैं दैनिक रांची एक्सप्रेस का उभरता रिपोर्टर था। उस वक्त केवल अखबारों का ही जलवा हुआ करता था।थोड़ी से मशक्कत के बाद सेठी मुझे 20 मिनट का इंटरव्यू देने को तैयार हो गए।

मैं खुश होकर उस वक्त की प्रधानमंत्री के बाद सबसे कद्दावर नेता सेठी का इंटरव्यू लेने रांची सर्किट हाउस जा पहुंचा। तब मैंने उनसे पंजाब में भिंडरावाले के खतरनाक हो चले खालिस्तान आंदोलन, बिहार-मध्यप्रदेश के नक्सली आंदोलन समेत कई आंतरिक समस्याओं पर इतनी डिटेल बातचीत की कि यह इंटरव्यू 30 मिनट तक चल गया। हमारे संपादक बलवीर दत्त जी ने सेठी से मेरी बातचीत को पहले पेज पर छापा।


इंदौर से लोकसभा सीट का चुनाव लड़ने वाले पीसी सेठी 1982 में केंद्रीय मंत्री बनने के पहले 1972 से 1975 तक अविभाजित मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री भी रहे। सेठी ने रांची में मुझसे कहा था, दिल्ली आकर मिलना पर मेरे एनसीआर में बसने के पहले ही वे1996 में गुजर गए।

नोट- यह तस्वीर रांची के सीनियर फोटो पत्रकार कुलदीप सिंह दीपक ने ली। अभी रांची में उनका दीपक स्टुडियो  है जो उस शहर का प्रतिष्ठित स्टुडियो  माना जाता है।


-राय तपन भारती (पत्रकारिता का सफरनामा)



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कितनी बदल गयी दिल्ली / विवेक शुक्ला

 दिल्ली 1947- 2021 कितनी बदली   साउथ दिल्ली के सफदरजंग एन्क्लेव के करीब हुमायूंपुर में मिजो फूड तथा मयूर विहार में मलयाली रेस्तरांओं के साइन...