शनिवार, 18 जुलाई 2020

रहस्य्म


रहस्यमयी घटना - ट्यूनिशिया के रेगिस्तान में अचानक बन गई झील

पृथ्वी की भूगर्भीय उथल पुथल के कारण इस धरती पर समय समय पर कुछ रहस्यमयी और अचरज भरी घटनाएं घटती रहती है। ऐसी ही एक घटना हाल ही में ट्यूनिशिया के रेगिस्तान में घटी जब वीरान पड़े रेगिस्तान में रातो रात एक विशाल झील बन गई।

झील के बनने का कारण अभी स्पष्ट नहीं हो पाया है हालांकि भू-वैज्ञानिकों का मानना है कि ये एक भूकंपीय प्रक्रिया है। किसी गड़बड़ी या उथलपुथल के चलते जमीन के नीचे का पानी सतह पर आ गया। बाकी पूरी हक़ीक़त तो जांच के बाद ही सामने आएगी।


ऐसा कहा जाता है कि नेवाडा में लाल बाल वाले 12 फीट लंबे इंसान रहा करते थे। ये कहानी अमेरिकियों द्वारा एक गुफा में भीमकाय लोगों की हत्या से जुड़ी है। 1911 में खुदाई के दौरान ये मानव जबड़ा मिला है। तस्वीर में सामान्य व भीमकाय जबड़े को एकसाथ तुलना कर दिखाया गया है। इसके अलावा 1931 में दो मानव कंकाल भी मिले थे, जिनकी लंबाई 8 व 10 फीट थी।

इस धरती पर अब तक हुई पुरातात्विक खोजो में से इस खोज ने वैज्ञानिको को सबसे ज्यादा हैरान किया है। अमेरिका में सन 1934 में 140 मिलियन साल पुरानी लाइमस्टोन की चट्टानों में एक लोहे की हथोडी मिली। जब वैज्ञानिको ने इसका प्रयोगशाला मेंअध्यन्न किया तो वो दो कारणों से हैरान रह गए। पहला की हथौड़े में लगा हुआ लकड़ी का हैंडल अंदर से कोयल बन चूका था, यानी की वो कई मिलियन साल पुरानी थी। दूसरा हैरान करने वाला कारण लोहे की एक दम शुद्ध अवस्था थी। इतना शुद्ध लोहा धरती की किसी भी खदान से आज तक नहीं निकला है। लोहे की शुद्धता का अंदाज़ा इस बात से पता चलता है की 1934 में उसे चट्टान से निकलते वक़्त खरोच लगी थी पर 80 साल बाद आज तक भी उस पर जंग लगने के कोई लक्षण नहीं है। वैज्ञानिक इस हथौड़े का अनुमानित समय 145 से 60 मिलियन साल पूर्व मानते है यानी की करोडो साल पूर्व जबकि मानव जाती ने 10000 साल पहले ही इस तरह के औजार बनाना सीखा है।
__________________






कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कितनी बदल गयी दिल्ली / विवेक शुक्ला

 दिल्ली 1947- 2021 कितनी बदली   साउथ दिल्ली के सफदरजंग एन्क्लेव के करीब हुमायूंपुर में मिजो फूड तथा मयूर विहार में मलयाली रेस्तरांओं के साइन...