रविवार, 12 जुलाई 2020

सावधान, बाहर निकलने से पहले की सावधानी




☠️ *कोरोना को हल्के में लेते हुए लॉक डाऊन में बाहर निकलने वालों का हश्र . . .*


 *1 - एक दिन अचानक बुख़ार आता है !*
 *2 - गले में दर्द होता है !*
 *3 - साँस लेने में कष्ट होता है !*
 *Covid टेस्ट की जाती है..._*
 *1 दिन तनाव में बीतता हैं... अब टेस्ट + ve आने पर रिपोर्ट नगर पालिका जाती है !*
 *4 - रिपोर्ट से हॉस्पिटल तय होता है !*
 *5 - फिर एम्बुलेंस कॉलोनी में आती है !*
 *6 - कॉलोनीवासी खिड़की से झाँक कर तुम्हें देखते हैं !*
 *7 - कुछ लोग आपके लिए टिप्पणियां करते है !*
 *8 - कुछ मन ही मन हँस रहे होते हैं !*
 *9 - एम्बुलेंस वाले उपयोग के कपड़े रखने का कहते हैं !*
 *10 - बेचारे घरवाले तुम्हें जी भर कर देखते हैं...* *टेन्सन में आ जाते है और सोचने लगते है कि अब किसका नम्बर है !*
 *तुम्हारी आँखों से आँसू बोल रहे होते हैं...* *तभी प्रशासन बोलता है...* *चलो जल्दी बैठो आवाज़ दी जाती है ...*
 *11 - एम्बुलेंस का दरवाजा बन्द . . सायरन बजाते रवानगी !*
 *12 - फिर कॉलोनी वाले बाहर निकलते है ..*
 *13 - फिर कॉलोनी सील कर दी जाती है !*
 *14 - 14 दिन पेट के बल सोने को कहा जाता है . . .!*
 *15 - दो वक्त का जीवन योग्य खाना मिलता है !*
 *16 - Tv, Mobile सब अदृश्य हो जाते हैं !*
 *17 - सामने की खाली दीवार पर अतीत और भविष्य के दृश्य दिखने लगते.. ओर वहा पर बुरे बुरे सपने आने लगते है..!*
 *अब आप ठीक हो गए तो ठीक . . .वो भी जब 3 टेस्ट रिपोर्ट नेगेटिव आ जाएँ तो घर वापसी !*
 *_लेकिन इलाज के दौरान यदि आपके साथ कोई अनहोनी हो गई तो . . .?_*
 *18 - तो आपके शरीर को प्लास्टिक के कवर में पैक कर सीधे शवदाहगृह . . .*
 *19 - शायद अपनों को अंतिमदर्शन भी नसीब नहीं !*
 *20 - कोई अंत्येष्टि क्रिया भी नहीं . . .!*
 *21 - सिर्फ परिजनों को एक डेथ सर्टिफिकेट..*
 *_वो भी इसलिए कि वसीयत का नामांतरण करवाने के लिए..* *और खेल खत्म...* *बेचारा चला गया . . .* *अच्छा था.._*
 *इसीलिए बेवजह बाहर मत निकलिए . . .*  *घर में सुरक्षित रहिए .*  *बाह्य जगत का मोह और हर बात को हल्के में लेने की आदतें त्यागिए . . .*
 *2020 काम धंधे का , कमाई करने का नहीं है ..* *पिछले वर्षों में कमाया उसे खर्च करिये ..*
 *_मार्च 20 से दिसम्बर 20 तक 10 माह कमाने का वर्ष नही है..* *जीवन बचाने का वर्ष है .._*
 *जीवन अनमोल है ....* *कड़वा है किंतु यही सत्य है !*
 *Lockdown में छूट सरकार ने दी है,* *कोरोना ने नही...*
 **सरकार ने तो*
 *लॉकडाउन खोल दिया**
 *लेकिन आप सावधान रहिये,* *क्योंकि आप सरकार कि नजर में मात्र एक संख्या हैं*
 *लेकिन अपने परिवार के लिये आप पूरी दुनिया हैं !*
 *आपका जीवन अनमोल है !*
 *Be Safe🙌 😢* *क्षमा याचना सहित कड़वा हैं पर सच यहीं हैं* 😢😢 *आपका जीवन अनमोल है* !***आपका जीवन अनमोल है* !**

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कितनी बदल गयी दिल्ली / विवेक शुक्ला

 दिल्ली 1947- 2021 कितनी बदली   साउथ दिल्ली के सफदरजंग एन्क्लेव के करीब हुमायूंपुर में मिजो फूड तथा मयूर विहार में मलयाली रेस्तरांओं के साइन...