बुधवार, 10 मई 2017

सिर्फ कहने के लिए ही मीडिया आजाद है ????




मीडिया की आज़ादी के मामले में भारत की हालत चिंताजनकः रिपोर्ट

प्रस्तुति-  प्रियदर्शी किशोर / अमन कुमार

नई दिल्ली। प्रेस की आज़ादी को लेकर जारी की गई एक अंतरराष्ट्रीय रिपोर्ट में भारत की हालत नाज़ुक बताई गई है। रिपोर्ट में भारत को पत्रकारिता के ‘मुश्किल परिस्थिति’ वाले देशों की फेहरिस्त में रखा गया है।
‘रिपोर्टर्स विदाउट बॉर्डर्स’ ने बुधवार को प्रेस की आज़ादी को लेकर 180 देशों की सूची जारी की। इस सूची में भारत पिछले साल के मुकाबले तीन पायदान नीचे आ गया है। अब भारत 136वें स्थान पर है। जबकि पड़ोसी देश पाकिस्तान अपने स्थान से 8 अंक ऊपर 139वें स्थान पर पहुंच गया है। वहीं चीन चीन ने इस सूची में अपना पुराना स्थान कायम रखा है।
इस सूची में नॉर्वे पहले और उत्तर कोरिया अंतिम स्थान पर है। छह सालों से पहले स्थान पर रहा फिनलैंड अब तीसरे नंबर पर पहुंच गया है। इस रिपोर्ट के मुताबिक प्रेस की आज़ादी के मामले में कई देशों का प्रदर्शन पिछले साल की तुलना में काफी कमजोर रहा है। ब्रिटेन, अमेरिका और चिली जैसे देश भी इस मामले में पिछड़ गए हैं।
रिपोर्ट के मुताबिक लोकतांत्रिक देशों के हालात और खराब हैं। ये देश प्रेस की आजादी के मामले में लगातार पीछे हो रहे हैं। भारत, रूस, चीन सहित 72 देशों में प्रेस की आजादी को लेकर हालात बहुत ही चिंताजनक है। इन देशों में मीडिया को निशाना बनाने की घटनाएं अब आम हो चुकी हैं। सोशल मीडिया के दौर में पत्रकारों पर साइबर हमलों की तादाद भी काफी बढ़ गई है।
ग़ौरतलब है कि रिपोर्टर विदाउट बॉर्डर्स एक अंतरराष्ट्रीय गैर-सरकारी संगठन है जो प्रेस की आज़ादी और सूचना की आज़ादी को बढ़ावा देता है। इस संगठन का मुख्यालय फ्रांस की राजधानी पेरिस में है।
#Freedom of Press #Reporters Without Borders #India in critical stage #Report on freedom of press

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें