बुधवार, 29 मार्च 2017

इलेक्ट्रॉनिक मीडिया








प्रस्तुति- अलका सिन्हा









प्रस्तुति-  अलका सिन्हा

भारत में इलेक्ट्रोनिक मीडिया पिछले 15-20 वर्षों में घर घर में पहुँच गया है फिर चाहे वह शहर हो या ग्रामीण क्षेत्र। इन शहरों और कस्बों में केबिल टीवी से सैकड़ो चैनल दिखाए जाते हैं। एक सरकारी रिपोर्ट के अनुसार भारत के कम से कम 80 प्रतिशत परिवारों के पास अपने टेलीविजन सेट हैं और मेट्रो शहरों में रहने वाले दो तिहाई लोगों ने अपने घरों में केबल कनेक्शन लगा रखे हैं। इसके साथ ही शहर से दूर-दराज के क्षेत्रों में भी लगातार डीटीएच-डायरेक्ट टु होम सर्विस का विस्तार हो रहा है।
प्रारम्भ में केवल फिल्मी क्षेत्रों से जुड़े गीत, संगीत और नृत्य से जुड़ी प्रतिभाओं के प्रदर्शन का माध्यम बना एवं लंबे समय तक बना रहा, इससे ऐसा लगने लगा कि इलेक्ट्रॉनिक मीडिया सिर्फ़ फिल्मी कला क्षेत्रों से जुड़ी प्रतिभाओं के प्रदर्शन के मंच तक ही सिमटकर रह गया है, जिसमे नैसर्गिक और स्वाभाविक प्रतिभा प्रदर्शन के अपेक्षा नक़ल को ज्यादा तवज्जो दी जाती रही है। कुछ अपवादों को छोड़ इलेक्ट्रॉनिक मीडिया की यह नई भूमिका अत्यन्त प्रशंसनीय और सराहनीय है, जो देश की प्रतिभाओं को प्रसिद्धि पाने और कला एवं हुनर के प्रदर्शन हेतु उचित मंच और अवसर प्रदान करने का कार्य कर रही है। मेदिअ कभि कभि बहोउत नुक्सान पहुचाता है।

मीडिया

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से

यह एक बहुविकल्पी शब्द का पृष्ठ है: यानि समान शीर्षक वाले लेखो की सूची। यदि आप यहां किसी विकिपीडिया की कड़ी के द्वारा भेजे गए है, तो कृपया उसे सुधार कर सीधे ही सम्बन्धित लेख से जोड़े, ताकि पाठक अगली बार सही पृष्ठ पर जा सकें।
मीडिया के निम्न अर्थ हो सकते हैं:

अनुक्रम


संचार

मीडिया का सामान्य अर्थ "सन्चार माध्यम" होता है।

कंप्यूटिंग

फाइन आर्ट

जीव विज्ञान

इन्हें भी देखें



3

इलेक्ट्रॉनिक मीडिया

महेंद्र नारायण सिंह यादव। आज के इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के युग में इलेक्ट्रॉनिक मीडिया से सामान्य तात्पर्य टीवी चैनल ही हो गया है, लेकिन वास्तव में रेडियो भी इसका अभिन्न प्रकार है। सच तो यह है कि टीवी चैनलों का युग शुरू होने से पहले इलेक्ट्रॉनिक मीडिया का मतलब रेडियो ही ...

Recent Posts

पेड न्यूज़ और निर्भीक पत्रकारिता का दौर

डेडलाइन को ध्यान में रखकर लिखना

ग्रामीण पत्रकारिता: हर गांव एक खबर होता है

संचार के दायरे को तोड़ता सोशल मीडिया

टीवी न्यूज ऐंकरिंग के लिए जरूरी हैं यह बातें



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें