बुधवार, 24 अगस्त 2016

रामोजी फिल्म सिटी / दुनिया का सबसे बड़ा स्टूडियों


मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से


रामोजी फिल्म नगरी का प्रवेशद्वार

रामोजी फिल्म सिटी (तेलुगू:రామోజీ ఫిలిం సిటీ) दुनिया का सबसे बङा फिल्म स्टूडियो परिसर माना जाता है। यह भारत के राज्य आंध्र प्रदेश की राजधानी हैदराबाद से २५ किलो मीटर दूर नल्गोंडा मार्ग मे स्थित है। यह स्टूडियो 2000 एकड़(8.2वर्ग किलोमीटर) से भी अधिक क्षेत्रफल में फैला हुआ है। इस स्टूडियो में ५० शूटिंग फ्लोर है। इस स्टूडियो का शुरुवात १९९६ में हुआ था। यहाँ एक साथ १५ से २५ फिल्मों की सकती है। आरएफसी में फिल्म की प्री-प्रोडक्शन से पोस्ट प्रोडक्शन तक की तमाम सुविधाएं एक जगह मौजूद हैं यानी फिल्म का आइडिया लेकर आइये और फिल्म कैन करके जाइये.फिल्म-निर्माण के अलावा रामोजी फिल्म सिटी एक प्रसिद्ध पर्यटन केंद्र भी है, जहां हरसाल दस लाख से भी ज्यादा लोग आते हैं। आरएफसी को मानव-निर्मित आश्चर्य की श्रेणी में भी रखा जा सकता है।

अनुक्रम

इतिहास

दक्षिण के मशहूर फिल्म निर्माता और मीडिया बैरॉन रामोजी राव ने सन 1996 में रामोजी फिल्म सिटी की स्थापना की। रामोजी ग्रुप की ईकाई उषा किरण मूबीज लिमिटेड हिंदी, मलयालम, तेलुगु, तमिल, कन्नड़, मराठी और बांग्ला में अस्सी से भी ज्यादा फिल्में बना चुकीहै। उषा किरण मूवीज लिमिटेड ने भारतीय फिल्माकारों की फिल्मी कल्पना के मुताबिक इस फिल्म सिटी का निर्माण किया।

स्टूडियो की विशेषता

रामोजी फिल्म सिटी पूर्व-निर्माण, निर्माण और पश्च-निर्माण की तमाम सुविधाएं मुहैया कराती है। इसमें 500 से ज्यादा सेट लोकेशन हैं। सैंकड़ों उद्यान, पचास के करीब स्टूडियो फ्लोर, अधिकृत सेट्स, डिजिटल फिल्म निर्माण की सुविधाएं, आउटडोर लोकेशन, उच्च-तकनीक के लैस प्रयोगशालाएं, तकनीकी सहायता सभी मौजूद है। फिल्म की आधारभूत संरचना में कॉस्ट्यूम डिजाइन लोकेशन, मैक-अप, सेट-निर्माण, तैयार साज-सज्जा, कैमरा, फिल्म निर्माण उपकरण, ऑडियो प्रोडक्शन, डिजीटल पोस्ट प्रोडक्शन और फिल्म प्रोसेसिंग की व्यवस्था भी शामिल हैं। रामोजी फिल्म सिटी में एक साथ बीस विदेशी फिल्म और चालीस देशी फिल्में बनाई जा सकती हैं। रामोजी फिल्म सिटी में न सिर्फ देशी, बल्कि विदेशी फिल्म निर्माता भी आते हैं।

पर्यटन

रामोजी फिल्मनगरी में मैसूर के वृन्दावन उद्यान की प्रतिकृति
फिल्म सिटी में हर साल करीब दस लाख पर्यटक आते हैं। फिल्म स्टूडियों इन पर्यटकों के लिए खास आकर्षण होते हैं। इससे फिल्म सिटी को अरबों की आमदनी होती है। पर्यटकों के लिए विशेष प्रकार का खुला कोच होता है। फिल्म सिटी के प्रवेशद्वार पर एक तीन-सितारा होटल तारा और पंच सितारा होटल सितारा फिल्म स्टूडियो की सुंदरता में चार चांद लगाती है। ये होटल पर्यटकों और फिल्म निर्माण से जुड़े लोगों को आरामदेह ठहराव देता है। होटल के एक ओर हवा महल है जहां से फिल्म सिटी का विहंगम स्वरूप देखा जा सकता है। फिल्म सिटी नवविवाहित जोड़ों के लिए हनीमून पैकेज भी देती है। जापानी गार्डन, ईटीवी प्लेनेट, ताल, कृत्रिम जलप्रपात, हवाई अड्डा, अस्पताल, रेलवे स्टेशन, चर्च, मस्जिद, मंदिर, शॉपिंग कॉपलेक्स, खूबसूरत इमारतें, देहाती दुनिया, स्लम, राजपथ आदि इस फिल्म सिटी के दर्शनीय स्थल हैं। फिल्म सिटी के कोच पर पर्यटन गाइड भी होता है। यहां के कुछ सेट प्राचीन राजा-महाराजाओं के किलों की याद दिलाते हैं तो कुछ देश में बॉलीवुड का दर्शन कराते हैं। इन खूबसूरत सेटों का निर्माण किया है-बिद्युतकेश पांडा ने.

कैसे पहुंचें

हैदराबाद आंध्र प्रदेश की राजधानी है एवं भारत के सभी बडे शहरों एवं कई वैश्विक नगरों से वायु मार्ग द्वारा सीधे जुडा है। भारतीय रेल की सेवाओं द्वारा रेलमार्ग से एवं आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, तमिलनाडु एवं केरल की सरकारी एवं गैर सरकारी बस सेवा द्वारा स्थल मार्ग द्वारा आप हैदराबाद पहुंच सकते हैं। रामोजी फिल्म सिटी विजयवाड़ा मार्ग (एनएच-09) पर हैदराबाद के करीब पच्चीस किलोमीटर दूरी पर स्थित है।

इन्हें भी देखें

बाहरी कड़ियाँ

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें