सोमवार, 5 अक्तूबर 2015

भोकाल मीडिया का मोदीकरण


       



मीडिया का मोदी इफेक्ट vs  मोदी का मीडिया इफेक्ट


अनामी शरण बबल 

धरती ने ली अंगडाई और हजारों ने जान गंवाई यानी भूकंप का असर मंद पड चुका है, मगर इसी के साथ मोदी पुराण का एक औरअध्याय प्रस्तुतहै, जिसमें मोदी जी ने मीडिया का मनचाहा प्रयोग किया। गुजरात सुपुत्र दबंग नरेन्द्र दामोदर मोदी जब भारत के प्रधान सेवक (? )  बने तो देश की अंधिकांश भोकाली मीडिया के मालिकों संपादको नें मोदी पुराण राग अलापना चालू करके मोदी का सबसे बडा भोंपू ( hmv)  साबित करने दिखाने और बनने की होड में जुट गए। चूंकि मोदीकी इमेज जरा सख्त थी, इस कारण तमाम मीडिया भांपने के अंदाज में मोदी के पास मंडरा रही थी। मोदी पर मीडिया इफेक्ट का क्या असर हुआ यह अभी साफ नहीं हो पाया कि मोदी प्रेम में आकंठ तरबतर मीडिया अभी एक साल  के बाद भी मोदी प्रेम में ही है, पर मोदी के मैनेजरों ने मीडिया और खासकर भोकाली मीडिया पर इस तरह का शिकंजा कसा जिससे भोकाली मीडिया पर मोदीकरण इस तरह हुआ कि यह अपनी भाषा ही भूल गयी। कमलिया पुराण के अनुसार चाल चलन चरित्र चेहरा और चंचलता को बिसरा कर मोदी के लिए भोकाली मीडिया मोदी इमेज  डेवलपमेंट कंपेन में बिजी हो गए।
बराक भले ही अमरीका के मुखिया हो पर अपन मोदी जी भी एशिया के ( मान न मान मैं तेरा प्रधान) मुखिया मान कर ही काम कर रहे है। अभी नेपाल में ङरती ने क्या ली अंगडाई कि लाखों की जान पे बन आई है। इस विपदा पर कुछ भी कमेंट्स करना सवाल उठाना संदेह करना गोर पाप है. मैं खुद को पापी नहीं मानता कि संसद में जब धुर विरोधी भी जब तारीफ करते न थके हो, या देश की घर गृहस्थी देख रहे राजनाथ भी जब तारीफ करते हुए गंगा जल बहाने लगे हो तो मैं श्रीमान प्रधानसेवर पर कोई संदेह करूं। फिर जिस त्तत्परता और सजगता के साथ सेवक जी ने दामन थामा वह भी नौकरशाहों के लिए एक नसीहत ही है। नेपाल की पीडा से मेरा दिल भी किसी कमली नेता या विरोधी नेता से कम दुखी नहीं है, पर भूकंप के नाम पर की जा रही साईलेंट पोलटिक्स और खबरों को छिपाने दबाने की कुचेष्टा से प्रधानसेवक एंड कंपनी की नीयत पर एकबडा सवाल खडा हो जाता है।
भोकाली मीडिया की नजर में देश एक हंसता खेलता गाता पीता खुशहाल देश है। शक्तिमान  बनने के करीब है और इतना सक्षम है कि बस वो दूसरों को भी बहुत कुछ दे सकती है।
नेपाल के साथ भारत के खडा होने और अरबों की मदद करने पर भी कोई आपति नहीं है । दुनिया के ज्यादातर देश एक दूसरों से मिलजुल कर ही काम चलाते निकालते और एक दूसरों को बनाते है। पर मीडिया मेंकाम से ज्यादा प्रचार और ध्यान खींचने में माहिर सेवक एंड कंपनी की इस नीयत पर भी इस समय मेरा मन सवाल उठाने का नहीं है।य़ मैं इस समय भोकाली मीडिया के मोदी मीडिया या कमलिया मीडिया बन जाने या फिर एक दूसरे से बडा चंपू बनन ेकी प्रवृति पर चिंचिच हूं।  सरकारी रहमोकरम पर मीडिया के नेपाल टूर को देखकर मेरी परेशानी और बढ गयी है। नेपाव त्रासदी की ज्यादा से ज्यादा खबरों को देखकर नेपाल की पीडा से मन आहत है, मगर नेपाल के दुरस्थ में जाकर भी भओकाली रिपोर्टरों की खबरऔर चानलों पर बार बार पत्रकारों को दिखाकर अपनी इमेज चमकाया जा रहा है । मगर दिल्ली से लगे मेरठ हाथरस शामली मेवात झज्जर बागपत की तो बात भऊल जाइए दिल्ली में ही पूरी तरह दिल्ली की खबर कवर ना करने वाले भोकालियों के नेपाल प्रेम पर मन अभी तक संशंकित ही है।
. अपने अंशकालिक रिपोर्टरों को हर खबर पर 500 रुईया देने में 500 दिन लगाने वाले यही भोकाल मीडिया के लोग नेपाल से या भूकंप से इतने द्रवित क्यों हो गए कि फटाफट ( टीवी लैंग्वेज) अपने जिन रिपोर्टरों को बाहर नहीं भेजा सबको नेपाल भेज दिया। नेपाल गए तमाम धुरंधर मन लगाकर काम कर रहे है और एक से बढकर एक मार्मिक खबर भेज भी रहे है। इन खबरों को देखकर तो मन आहत है, पर मोदी जी ने अपनी ताकत नजाकत भाषाई शराफत से भारतमें इसी त्रासदी से प्रभावित इलाकों की खबर को ही भोकाली मीडिया के रूपहले पर्दे से लापता कर दिया। बिहार बंगाल यूपी सेवेन सिस्टर्स स्टेट समेत देश के कई हिस्सों में इसी विपदा से जूझ रहे हजारों लोगों को खबर बनने पर ही (अघोषित) पाबंदी लगा दी। देश के विभिन्न इलाकों में इस त्रासदी का क्या हाल है इसको जानने का मीडियाई अधिकार से भी ज्यादातर लोग वंचित है, क्योंकि नेपाल के ही इतने फूटेज और स्पेशल स्टोरी है कि इंडिया को कौन पूछे।
वेतन की कटौती या बिन बुलाए फोन पर ही दफ्तर न आने का फरमान सुनाकर नौकरी खत्म करने वाले भोकालियों के पास केवल एक ही रटा रटाया कुतर्क है कि एड नहीं है लाभ नहीं है भोकाल मास्टर घाटे में है लिहाजा बलि देनी पड रही है या मजबूरी है। दरिद्र राग के भोकाल गायकों के पास एकाएक करोडों रूपईया कहां से टपक पडा या टीआरपी रेटिंग में अईसा क्या उछाल मारा कति कुबेर अवतरित हुए और एक ही साथ आठ आठ रिपोर्टर यानी इतने ही कैमरामैन और हर टीम के साथ एक सहायक भी दें तो करीब 20-22 लोगों को नेपाल ता दौरा कराना और तमाम सुविधा प्रदान कराने का न्यूनतम खर्चा 25 -30 लाख तो आएगा ही (मन को दबाकर खर्चा लिख रहा हूं अन्यथा मार्केट की गरमी का अहसास मोदीजी जेटलीजी शाहजी आदि नेताओं से कम ज्ञान नहीं होने का दावा है) यह खर्च दोहरा होने से कतई कम नहीं होगा। खैर
पिछले साल मोदीजी अमरीका गए थे, मगर मोदी जी से एक सप्ताह पहले इंडियन भोकाली मीडिया के ज्यादातर स्मार्ट भोकालों को एक सप्ताह पहले ही भेज दिया गया था। इन भोकालों ने अमरीका में जाकर अईसा भोकाल मचाया कि बेचारका ओबामा भी दंग हैरान रह गए।य़ अमरीका में मोदी जी ने अईसा रोडशो किया कि अमरीकी भी मोदी मैजिक में खुद को भूला बैठे। भारतीय मूल के अमरीकी तो सही मायने में मोदी प्रेम में थोडा तोडा पगला से गए। मगर मोदी मैजिक और मोजी सेंस तो इस पर भारी है ही, मगर मीडिया को चाकर बनाकर अपने साथ घूम रहे प्रधानसेवक के काम और नाम का यह नजाकतभी कम नहीं रै। जापान भूटान पाकिस्तान भी गए मगर मीडिया को सरकारी मीडिया बनाकर ले गए , मगर अमरीका तो मोदी इमेज डेवलपर्स की तरह भोकालो ने भोकाल मचाया। मोदी द्वारा मीडिया के उपयोग पर समूचा विपक्ष हैरान पस्त त्रस्त है पर अपने लिए किसी को बताए बिना ही अपना बनाकर यूज कर लेना भी कोई सरल काम नहीं है कि धरना देने वाले सांसद एक बार में ही इस गूर को सीखले।
   
तो दोस्तों भारतीय त्रासदी को भारत से ही लापता रखने या कम दिखाने की यह मीडियाई चरित्र पर विचार होना जरूरी है।  यदि अपने काम काज पर नजप डाले तो ( यदि समय हो तो ) मोदीजी आप खुद अपने आप अपना मूल्यांकन करे काम काज की समीक्षा करे और 11 माह की उपलब्धियों पर गौर करे तथा खुद ही बताइए कि कि इंडिया में कौन सी क्रांति आ गयी। देश कौन सा खुशहाल हो गया। देश बातों  से आगे बढता तो 21वी सदी का सपना उछालने वाले दिवंगत प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने तो यह जुमला तभी उछाल दिया था जब आपके भगवाकरण का सही मायने में राजनीतिकभविष्य ही तय नहीं हो पाया था।
बहरहाल विविधताओं से भरे इस भारत देश में मोदी समान बहुत लोग ऐए और बहुत लोग आएंगे मगर देश और मीडिया का कैरेक्टर समान होना डरूरी है। खासकर भोकाली मीडिया के भोकालों को यह सोचना होगा कि वे अपनी ब्राडिंग के चक्कर में अपनमी साख और विश्वसनीयता पर ज्यादा जोर देना होगा , तभी मीडिया के प्रति लोग यकीन करेंगे, जिसपर लोग सवाल उठा रहे है? भोकाली मीडिया के मालिकों से ज्यादा भोकाल पत्रकारों की मौजूदा पीढी है जो सत्ता सरकार स्वयंभू मालिक और दर्शकों को एक साथ नाथने के फिराक में खुद कोल्हू का बैल बना खट रहाहै ौर मीडिया की साख रसातल में चली गयी, इस पर विचार करने का मौका भी नहीं , क्योंकि हाजिरी बचाते 2 खुद परिदृश्य से लापता हो चुका है मीडिया को जनता की नजर सि गिराकर.



बीबीसी में खोजें  
Hindi navigation
•    होम पेज
•    भारत
•    विदेश
•    मनोरंजन
ब्रिटेन में भारत के तत्कालीन उच्चायुक्त कृष्णा मेनन ने बीबीसी हिंदी सेवा का उद्घाटन किया
पचहत्तर साल पहले खरखराते और भारी-भरकम रेडियो सेट पर आज ही के दिन बीबीसी हिंदुस्तानी का प्रसारण शुरू हुआ था.
आपमें से ज़्यादातर लोग इस लेख को मोबाइल पर पढ़ रहे होंगे. बहुत-सी दुनिया बदली इस बीच, बीबीसी और आप भी बदले.
लेकिन विश्वसनीयता वह बारीक़ और मज़बूत डोर है जिसने इस पूरे सफ़र में हमें और आपको जोड़े रखा.
भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरु के साथ बीबीसी के रत्नाकर भारती
इस मुक़ाम पर बीबीसी हिंदी की तरफ़ से ये कहना ज़रूरी है-
हम चार या पाँच पीढ़ियों पहले आपके पास भारत और दुनिया भर की ख़बरें लेकर आते थे, आगे भी लाते रहेंगे. अधिक तत्परता, अधिक विश्वास, अधिक ज़िम्मेदारी के साथ. सलीक़े से सहेज कर. और दिलचस्प. और उपयोगी. आपको केंद्र में रखते हुए.
बीबीसी हिंदी शुरू में बहुत सालों तक सिर्फ़ शॉर्ट वेव रेडियो पर थी, अब भी है. पर अब वह टीवी पर भी है, वेबसाइट पर, मोबाइल फ़ोन, चैट एप्स, सोशल मीडिया और ऑडियो, वीडियो साइट्स पर भी. आप तक पहुँच आसान करने के लिए हमसे जो हो सकेगा, करते रहेंगे, ज़्यादातर डिजिटल तरीक़ों से.
दुनिया का सबसे बड़ा समाचार संगठन होने के नाते हमारी हमेशा कोशिश रहेगी कि इस बहुत तेज़ी से बदलती दुनिया की ख़बरें आप तक सबसे पहले पहुँचा सकें. आपकी व्यस्तता और सुविधा ध्यान में रखककर.
हिंदी के बहुत बड़े होते जाते मीडिया संसार में बीबीसी हिंदी की हमेशा कोशिश होगी कि हम सवालों को संतुलित और निष्पक्ष तरीक़े से उठाएँ, जिनकी बुनियाद हमेशा तथ्यों पर टिकी हो.
जैसा बीबीसी के डायरेक्टर न्यूज़ जेम्स हार्डिंग ने अपने दस्तावेज़ 'फ्यूचर ऑफ़ न्यूज़' में कहा है, बीबीसी का काम गुणवत्ता के साथ पत्रकारिता करना है, कवरेज में ये बताना है कि असल में चल क्या रहा है, असल में उसका महत्व क्यों है, असल में उसका मतलब क्या है ?
और ये भी कि उन ख़बरों और घटनाक्रमों की पेचीदगियों को जितना बन पड़े, आपके लिए आसान कर सकें. आपके लिए उस ख़बर का क्या मतलब है और क्यों ज़रूरी है आपके लिए उसे जानना, ये बता सकें.
हाल ही में अभिनेत्री नंदिता दास बीबीसी स्टूडियो आईं और इकबाल अहमद ने उनसे इंटरव्यू किया
हमारा मक़सद रोशनी फैलाना है न कि सनसनी. लोकप्रियता की होड़ और ध्यान खींचने के शोर में बीबीसी हिंदी ने पत्रकारिता के बुनियादी उसूलों के साथ समझौता न पहले किया था, न आगे ऐसा होगा.
हम ख़बरों, कार्यक्रमों और विश्लेषणों के ज़रिए प्रबुद्ध हिंदी मानस का ज़िम्मेदार और भरोसेमंद हिस्सा बने रहना चाहते हैं.
हिंदी में हम ख़ुद को संवाद के सूत्रधार की तरह देखते रहेंगे. उन सवालों के साथ जिनका पूछा जाना ज़रूरी है और जिनका जवाब ढूँढने की ईमानदार कोशिश करना भी.
पत्रकारिता का ग्राउंड ज़ीरो वहीं होता है, जहाँ ख़बरें घट रही होती हैं, हम भारत और दुनिया की उन जगहों से वहाँ का सच आपके पास लेकर आते रहेंगे. चाहे वह कश्मीर में हो रहा हो या फिर माओवाद वाले इलाक़ों में.
राजनीति हिंदी समाचार संसार का बहुत बड़ा हिस्सा है, पर हमारे लिए और भी पक्ष महत्वपूर्ण हैं, जिन पर हम ध्यान देते रहेंगे, चाहे वह स्त्री विमर्श हो, या विकास के विषय, या फिर क़तार के आख़िर में खड़े लोग. एक ग्लोबलाइज्ड दुनिया का क्या असर है पर्यावरण पर, लोगों पर, अर्थव्यवस्था पर, हम लगातार उन्हें जगह देते रहेंगे.
जवाबदेही और पारदर्शिता हमारे न्यूज़रूम की संस्कृति का बड़ा हिस्सा है. आपके परामर्श, आपकी शिकायतें, आपके सवाल हमेशा मददगार रहे हैं, भरोसा है ये भागीदारी आगे भी देखने को मिलेगी.
इस सफ़रनामे की सार्थकता और अहमियत आप यानी बीबीसी हिंदी के श्रोताओं, पाठकों और दर्शकों के कारण है, जो न सिर्फ़ हमें सुनते/ देखते/ पढ़ते रहे हैं, बल्कि सजगता के साथ सवाल भी खड़े करते हैं.
आपके स्नेह, सहयोग और भागीदारी के लिए बीबीसी शुक्रगुज़ार है. आपके बिना ये सफर मुमकिन न था. आगे आपका साथ पहले से ज़्यादा मिलेगा, ऐसी उम्मीद है.
इस साल हम आपसे इस सफ़रनामे के महत्वपूर्ण हिस्से, अपना इतिहास, बीबीसी की हस्ताक्षर आवाज़ें साझा करते रहेंगे.
आपसे भी पूछते रहेंगे अब तक के हमारे काम का हिसाब. और ये भी कि क्या हम अपना काम ठीक से कर पा रहे है? क्या हम जो कर रहे हैं, उससे कोई फ़र्क़ पड़ा?
क्या हम आपके ठीक से काम आ सके? क्या आप हमसे कुछ नया जान सके? क्या हम आपकी बातचीत को आगे बढ़ा सके?
(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं. )
इस खबर को शेयर करें शेयरिंग के बारे में
•    ईमेल
•    Facebook
•    Twitter
•    Google+
सबसे ऊपर चलें
संबंधित समाचार
•   
75 साल की बड़ी ख़बरों के 15 चुनिंदा बीबीसी ऑडियो
11 मई 2015

•   
बांग्लादेश में है बीबीसी बाज़ार
12 फरवरी 2015

•   
बच्चों के कार्टून पर चलती 'क़ैंचियां'
18 अगस्त 2013

•   
मेक इन इंडिया और 'मेक इन अमरीका' एक साथ?
27 जनवरी 2015

अधिक भारत की खबरें
नजीब जंग के साथ केजरी की अजीब जंग
•    1 घंटा पहले
नजीब जंग के साथ केजरी की अजीब जंग
मोदी ने किया भारत का 'अपमान'?
•    1 घंटा पहले
मोदी ने किया भारत का 'अपमान'?
81 साल के हुए रस्किन बॉ़न्ड
•    2 घंटे पहले
81 साल के हुए रस्किन बॉ़न्ड
टॉप स्टोरी
चीनी अखबारों में मिठास की कमी
15 मिनट पहले
नजीब जंग के साथ केजरी की अजीब जंग
1 घंटा पहले
जिस्म अफ़ग़ान का, हाथ हिंदुस्तान का..
3 घंटे पहले

ज़रूर पढ़ें



नियम तोड़कर करोड़पति बने




बीसीसीआई के सामने 80 सवाल




अलीबाबा पर क्यों हुआ मुकदमा?




'ज़रूरत- सिर कलम करने वालों की'




बिग बी की मदद भी काम न आई




राष्ट्रपति ओबामा आए ट्विटर पर




बिना ट्यूशन,किसान का पुत्र अव्वल




'अच्छे दिन ज़रूर आएँगे'




कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें