शुक्रवार, 16 अक्तूबर 2015

दुनिया में सबसे तेज़ हवाएँ कब और कहां कहां चली हैं ?



  • 15 अक्तूबर 2015
Image copyright Robert Mora Alamy Stock Photo
 
प्रस्तुति- स्वामी शरण दीपा शरण
 
जब कभी आपको तूफ़ान के दौरान तेज़ हवाओं का एहसास होता है तब क्या आप कभी सोचते हैं कि दुनिया में सबसे तेज़ हवाएं कहां बहती हैं.
शायद न सोचा हो. वैसे यदि आप ऐसा सोचें तो आपको ये जानकर अचरज होगा कि इस होड़ में कई शहर और क्षेत्र शामिल हैं.

बैरो आइलैंड

इस सूची में अव्वल नंबर पर स्थित है बैरो आइलैंड. ऑस्ट्रेलिया के उत्तर-पश्चिमी तट पर स्थित यह द्वीप तेज़ हवाओं के लिए मशहूर रहा है. 10 अप्रैल, 1996 को यहां के वेदर स्टेशन ने क़रीब 408 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ़्तार से चलने वाली हवाओं को रिकॉर्ड किया था.
विश्व मौसम विज्ञान संस्था (डब्ल्यूएमओ) के मुताबिक़ यह सबसे तेज़ हवाओं का रिकॉर्ड है. इस तेज़ हवा की वजह ओलिविया नामक ट्रॉपिकल साइक्लोन (उष्णकटिबंधीय चक्रवात) था.
Image copyright Suzanne Long Alamy Stock Photo
ट्रॉपिकल साइक्लोन (उष्णकटिबंधीय चक्रवात) तब उठता है कि जब समुद्र की सतह पर वाष्प कम दबाव का क्षेत्र बनाते हैं. यह विषुवत्त रेखा की ओर सफ़र करती है.अगर यह तूफ़ान दक्षिण प्रशांत महासागर से उत्पन्न होती हैं तो इन्हें साइक्लोन कहते हैं. अगर यह उत्तरी प्रशांत महासागर में उत्पन्न होते हैं तो इन्हें टायफून कहते हैं और अगर यह अटलांटिक महासागर में उत्पन्न होते हैं तो हरिकेन कहते हैं.
साइक्लोन ओलिविया के दौरान हवा के एक तेज़ झोंके ने ज़रूर रिकॉर्ड बना दिया, लेकिन इस साइक्लोन को सबसे ख़तरनाक साइक्लोन नहीं माना जाता है.
विश्व मौसम विज्ञान संगठन के मुताबिक़, इस मामले में चैंपियन 1961 का टायफून नैंसी है, जो प्रशांत महासागर में उत्पन्न हुआ था, इसके जापान के तट से टकराने पर 170 लोगों की मौत हो गई थी.
नैंसी जब जापान के समुद्री तट से टकराया था, तब उसकी गति 346 किलोमीटर प्रति घंटा थी. हालांकि मौसम वैज्ञानिकों के मुताबिक़ यह बढ़ाचढ़ा कर पेश किया गया आंकड़ा हो सकता है.

ओकलाहोमा

वैसे इससे भी तेज़ हवाएं टॉरनेडो में उत्पन्न होती है, ऐसे में दुनिया में सबसे तेज़ हवा वाला इलाक़ा अमरीका के मध्य में हो सकता है.
टॉरनेडो में हवा तेज़ी से ज़मीन से उठती है और थंडरस्टॉर्म का रूप लेती है. तेज़ी से घूमती हुई हवा कॉलम के रूप में होती है, जब यह पानी के संपर्क में आता है तब झरने की तरह पानी गिरना शुरू हो जाता है, जिसे वॉटरस्पाउट कहते हैं.
टॉरनेडो सबसे ख़तरनाक और हिंसक वायुमंडलीय तूफ़ान होता है.
अमरीका के नॉर्मन ओकलाहोमा स्थित नेशनल स्वीयर स्टॉर्म्स लेबोरेटॉरी के मुताबिक़ टॉरनेडो सबसे ख़तरनाक वायुमंडलीय तूफ़ान है.वैसे तो टॉरनेडो दुनिया भर में आते हैं लेकिन अमरीका में ये तूफ़ान सबसे ज़्यादा आते हैं. 27 अप्रैल, 2011 को अमरीका के दक्षिण पूर्वी राज्यों में 24 घंटे के अंदर 207 टॉरनेडो तूफ़ान आए. इस इलाके को टॉरनेडो एले के नाम से जानते हैं.
ओकलाहोमा में सबसे तूफ़ानी टॉरनेडो आया था. विश्व मौसम विज्ञान संस्थान के मुताबिक़ 3 मई 1999 को ब्रिज क्रीक के निकट आए टॉरनेडो तूफ़ान की गति 302 मील प्रति घंटा थी.
ये तूफ़ान निश्चित तौर पर ख़तरनाक होते हैं, लेकिन ज़्याद समय तक रहते नहीं. लेकिन एक जगह ऐसी है जहां सालों तूफ़ानी हवाएँ चलती हैं.

दक्षिणी समुद्र

Image copyright Gavin Newman Alamy Stock Photo
विषुवत्त रेखा के 30 डिग्री उत्तर और दक्षिण में काफी तेज़ हवा बहती है. इस इलाके में सूर्य की गर्मी पृथ्वी की सतह पर असमान रूप से पड़ती है.बहरहाल, दुनिया की सैर करने वाले किसी भी नाविक से आप पूछेंगे कि सबसे तेज़ हवाओं वाले समुद्र कौन से हैं तो वे दक्षिणी समुद्र का ही नाम लेंगे.
इन्हें इन अक्षांशों के नाम से जाना जाता है - रोरिंग 40, फ्यूरियस 50 और स्क्रीमिंग 60. इन इलाकों में महाद्वीपों की मौजूदगी से भी तेज़ हवाओं पर असर नहीं होता. औसतन हवा की गति 100 मील प्रति घंटे होती है.
एक शताब्दी पहले इनके दक्षिण में स्थित एक जगह की पहचान सबसे तेज़ हवा वाली जगह के तौर पर हुई.

अंटार्कटिका

Image copyright Atomic Alamy Stock Photo
अंटार्कटिका में तेज़ हवाओं का झोंका चलता रहता है जिसे काटाबाटिक हवाएँ, या नीचे की ओर बहने वाली हवाएं भी कहते हैं. यह काफी हद तक ठंडे जलवायु पर निर्भर होती हैं.ब्रिटेन में केंब्रिज स्थित ब्रिटिश अंटार्कटिक सर्वे के जॉन किंग बताते हैं, "सतह के लगातर ठंडे होने से ख़ासकर अंटार्कटिक विंटर में, जब सूर्य हमेशा क्षितिज से नीचे होता है, तेज़ हवा की एक लेयर बन जाती है."
Image copyright Design Pics Inc Alamy Stock Photo
फरवरी, 1912 से लेकर दिसंबर, 1913 तक वैज्ञानिकों ने केप डेनिसन में हवा की स्पीड को मापने का इंतजाम पूर्वी अंटार्कटिका के कॉमनवेल्थ बे में किया.6 जुलाई, 1913 को यहां हवां की गति थी 153 किलोमीटर प्रति घंटा. केप डेनिसन अभियान दल के सर डगलस माउसन ने कहा, "साल भर यहां की जलवायु बर्फीले तूफ़ान वाली रहती है. सप्ताहों तक हरिकेन तूफ़ान शोर करता रहता है."
काफी तेज़ हवाओं के चलने और शून्य से कम तापमान के चलते काटाबाटिक हवाओं की गति को मापना ख़ासा मुश्किल है. ऐसी स्थिति में गति मापने वाले यंत्र भी कई बार नष्ट हो जाते हैं.
तो फिर सबसे तेज़ हवाओं वाली जगह कौन सी है? ऊपर दी गई जानकारी से स्पष्ट है कि ये इस बात पर निर्भर करता है कि आप किस मापदंड से और किन भूगोलिक परिस्थितियों में ये तय कर रहे हैं.
अंग्रेज़ी में मूल लेख यहां पढ़ें, जो बीबीसी अर्थ पर उपलब्ध है.
(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें