बुधवार, 8 अप्रैल 2015

पत्रकारिता के महारथी

  • Lalit Surjan

    प्रस्तुति--  स्वामी शरण ,रिद्धि सिन्हा नुपूर


    6 hrs ·
    देशबंधु के संपादक मंडल के सदस्यों और स्थायी स्तंभकारों ने पिछले 56 वर्षों के दौरान लगभग 600 पुस्तकें प्रकाशित की हैं, जिसमें से अधिकांश सामग्री का प्रकाशन देशबंधु में ही हुआ है. (सत्तावन्वे स्थापना दिवस के पूर्व पाठकों की जानकारी के लिए)
  • Dilip Binzani Is uplabdhi per dher sari badhaee.
    6 hrs · Like · 2
  • Shakeel Akhtar बहुत- बहुत बधाईयां .... इस मुश्किल दौर में आपका काम साथियों को और हिम्मत देता है
    6 hrs · Like · 1
  • Amitabh Agnihotri बधाई हो।हमारी कामना है कि आपके सुरक्षित हाथो में देश बंधू और ऊचाई हासिल करे।
  • Anil Attri बधाई
  • Rajkumar Sahu सर, शुभकामनाएं.
  • Sandeep Pandey DESHBANDHU IS THE HERITAGE OF JOURNALISM WITH LITERAL VALUE.
  • Chandra Shekhar Singh सर जी !
    हार्दिक बधाई
    एवं
    ...See More
  • रीमा दीवान चड्ढा बहुत बहुत बधाई .
  • Sandeep Verma बधाई , और बहुत बढ़िया
    5 hrs · Like · 1
  • Sanjay Shrivastuva बधाई भैया
  • Pritpalsingh Arora बधाई,दरअसल हम देशबन्धु को अपनी "आवाज"मानते हैं.इसे और आगे बढ़ते हुए देखना चाहते हैं....
  • Anant Mital veer tum badhe chalo...........
  • शशिकांत गीते हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं सर।
  • Vinay Sharma Shubkamnay...
  • Virendra Patnaik देश-दुनिया, दीन-दुखियोँ,साहित्य-मंथन,निर्बल-सबल, हम सब जन-जन की लोकप्रिय समाचार पत्रिका के सत्तावनवेँ स्थापना दिवस पर सम्पादक मण्डल, लेखकगण और सुधी पाठकोँ को बधाई, हार्दिक शुभकामनाएँ। आपका अपना छाया-रचनाकार, (मड़ई) - वीरेन्द्र पटनायक (सारंगढ़िया)
    5 hrs · Like · 1
  • Ashok Agrawal सत्तावन्वे स्थापना दिवस की अग्रिम बधाइयां और शुभकामनाएं ।
  • Sharad Alok हार्दिक बधाई!
  • Vikram Singh Chauhan shubhkamnayen
  • Tejinder Gagan I feel a sense of pride to be a part of Deshbandhu may be for a very short period but that has a deep impact on me.
    5 hrs · Like · 1
  • Rakesh Achal बधाईयाँ
  • Sudhir Kumar Paandey Bahut bahut badhai sir...
  • Arun Kant Shukla महान और सराहनीय कार्यों का वृहद् इतिहास है देशबंधु के पास ..
    5 hrs · Like · 2
  • Alok Tiwari badhai
    5 hrs · Like · 1
  • Rajeev Malaviya ललितजी
    क्या उन किताबों मे परम् पूज्य श्री हरिशंकर परसाईजी एवं पं.भवानी प्रसाद"मिश्र"जी की भी रचनाऐं सम्मलित हैं
    यदि हो तो वह किताबें मै कहॉ से खरीद सकता हूं मुझे SMS कर दें मेरा मो.09350836484 है
    ...See More
    5 hrs · Like · 1
  • संजीव बख्शी देशबंधु का वाचनालय अपने आप में महत्‍वपूर्ण है ज्ञानेंद्रपति जी के कविता पाठ के बाद वहां मेरा जाना न हो पाया है। इन प्रकाशित पुस्‍तकों को भी वहां देखना है अब की बार।
    4 hrs · Like · 3
  • Rajendra Tiwari बधाई
    4 hrs · Like · 1
  • Mukesh Kumar स्वर्णिम उपलब्धियाँ।
  • Aashish Sharma बधाई
  • Hemant Joshi बधाई
  • Mita Das बधाई
  • Anwar Jamal Mubarak ho Lalit jee
  • Mahesh Prakash Shrivastava भागीरथी कार्य के लिए साधुवाद एवं हार्दिक बधाई!
    2 hrs · Like · 1
  • Shri Kant Mishra Badhai ho
  • Pc Rath देशबन्धु के पास उज्जवल इतिहास है। बधाईया
  • Vidya Gupta lakshy ki or ......saflta ke darpan men ....santos ki chaya sukun ki khushbu badhti rhe
  • Shri Kant Mishra Meri shubhkamnaye
  • Kamlesh Verma पूछिये परसाई कालम के जमाने से देशबंधु का साथ रहा है। आज भी वैचारिक प्रबुद्धता के मामले में देशबंधु अतुलनीय है,बधाई।
    1 hr · Like · 2
  • Prashant Pandey cg ke kai ptrakaro ki shuruaat deshbandhu se hui hai
    1 hr · Like · 1
  • Deepak Bhatnagar हार्दिक बधाई एवम् शुभकामनायें!!
  • Deepak Bhatnagar एक युग था जब देशबन्धु एवं नवभारत के बिना सवेरा नही होता था।
  • Rajesh Shrivastava ललित जी बधाइयाँ और शुभकामनायें स्वीकार करें
  • Kumar Krishnan बधाइयाँ
  • Ramesh Sharma हमारे लिए यह गर्व की बात है . सबको बधाई
  • Ashutosh Jha congratulations sir. i am fortunate to have worked with Deshbandhu.
  • Kamlesh Kumar Diwan lalit ji aapko or deshbandhu parivaar ko badhai ,nav pratimaan banaye
  • Anami Sharan Babal किताबों की सूची और हर किताब के मुखपेज का फोटो (सामूहिक) भी शेयर करे तो यह पत्रकारिता जगत के लिए उपकार होगा
  • Anami Sharan Babal शोध का यह बिषय हो गया है कि क्या सुरजन जी के अलावा दूसरा कोईऔर बांका हैजिसने किताबों पन्नों औरशब्दों को ही जीवन बनाकर यह तपस्या की हो
  • Raj Chunni Sharma निःसन्देह अच्छा प्रयास है ; अख़बार तो बहुतेरे निकाल रहे हैं ॥लेकिन इसके साथ - साथ निरंतर किताबों का प्रकाशन ये उल्लेखनीय कदम है ! साधुवाद

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें