बुधवार, 26 नवंबर 2014

प्रेस और जनसंपर्क सेवा











प्रस्तुति--राकेश गांधी,अभिषेक रस्तोगी,अमित कुमार




संसद, सरकार और जनता प्रेस तथा अन्‍य संचार माध्‍यमों, जि‍नमें इलेक्‍ट्रानि‍क माध्‍यम अर्थात टेलीवि‍जन, रेडि‍यो और फि‍ल्‍म शामि‍ल हैं, की सहायता से एक-दूसरे से संपर्क रखते हैं। यह महत्‍वपूर्ण बात है कि ‍ उस जनता को संसद की कार्यवाही की जानकारी मि‍ले जो यह जानने में रूचि‍ लेती है कि‍ संसद कि‍ संसद में क्‍या हो रहा है। संवि‍धान में प्रेस की स्‍वतंत्रता का अभि‍व्‍यक्‍ति‍ रूप से उपबंध नहीं कि‍या गया है बल्‍कि‍ वाक् और अभि‍व्‍यक्‍ति‍ स्‍वातंत्र्य में ही अंतर्नि‍हि‍त है जि‍से नागरि‍कों के लि‍ए संविधान के अनुच्‍छेद 19(1)(क) में सुनि‍श्‍चि‍त कि‍या गया है। 'वाक और अभि‍व्‍यक्‍ति‍ स्‍वातंत्र्य' पद में अपने वि‍चारों का प्रचार करने की ही नहीं बल्‍कि‍ कि‍सी अन्‍य व्‍यक्‍ति‍ से ली गयी सामग्री को मुद्रि‍त करने या उस व्‍यक्‍ति‍ के नि‍देशानुसार मुद्रि‍त करने का अधि‍कार तथा प्रकाशन और परि‍चालन का भी अधि‍कार शामि‍ल है।

प्रेस के वि‍शेषाधि‍कार

प्रेस को संसद के साथ अपने संबंधों के मामले में कुछ वि‍शेषाधि‍कार प्राप्‍त हैं। वास्‍तव में, हमारे संवि‍धान में संसद के कि‍सी भी सदन की कार्यवाही के प्रकाशन से संबंधि‍त सभी व्‍यक्‍ति‍यों पर कि‍सी भी न्‍यायालय में कार्यवाही से पूर्ण उन्‍मुक्‍ति‍ प्रदान की गयी है बशर्ते कि‍ ऐसा प्रकाशन सभा के प्राधि‍कार द्वारा या उसके अधीन कि‍या गया हो। इस संबंध में दि‍या गया सांवि‍धि‍क सरंक्षण संसद के कि‍सी भी सदन की कि‍सी भी कार्यवाही की सारत: सही रिपोर्टों के समाचारपत्र में प्रकाशन अथवा बेतार टेलीग्राफी द्वारा प्रसारण पर भी लागू होता है बशर्ते कि‍ ऐसी रि‍पोर्टें लोक हि‍त में हों तथा कि‍सी दुर्भावना से प्रेरि‍त न हों।  यह संरक्षण इस समग्र सीमा के भीतर प्रदान कि‍या गया है कि‍ संसद को अपने वाद-वि‍वादों अथवा कार्यवाहि‍यों के प्रकाशन के नि‍यंत्रण और यदि‍ आवश्‍यक हो तो इसके प्रतीक्षा तथा अपने आदेशों के उल्‍लंघन के लि‍ए दंड देने की शक्‍ति‍ प्राप्‍त है। सामान्‍यत: सभाओं की कार्यवाहि‍यों की रि‍पोर्ट देने पर कोई पाबंदी नहीं लगायी गयी है किंतु यदि‍ सभा अथवा इसकी समि‍ति‍यों की कार्यवाहि‍यों की रि‍पोर्ट दुर्भावनापूर्ण हो अथवा इसमें गलत वि‍वरण दि‍या गया हो अथवा कि‍न्‍हीं सदस्‍यों के भाषणों को सम्‍मि‍लि‍त न कि‍या गया हो तो यह नि‍श्‍चि‍त रूप से वि‍शेषाधि‍कार भंग तथा सभा की अवमानना है जो दंडनीय है। इसी प्रकार प्रेस द्वारा कि‍सी संसदीय समि‍ति‍ की कार्यवाही अथवा इसके समक्ष दि‍ए गए साक्ष्‍य अथवा प्रस्‍तुत कि‍सी दस्‍तावेज को सभापटल पर रखे जाने से पूर्व प्रकाशि‍त नहीं कि‍या जा सकता। सभा की गुप्‍त बैठक की कार्यवाही अथवा नि‍णयों की रि‍पोर्ट भी प्रेस तब तक नहीं दे सकती जब तक इस पर लगे प्रति‍बंध अथवा गोपनीयता के उपबंध को हटा न दि‍या जाए। इसे यह भी सुनि‍श्‍चि‍त करना होता है कि‍ पीठासीन अधि‍कारी द्वारा सभा की कार्यवाही से नि‍काले गए वाद-वि‍वाद के अंश भी प्रकाशि‍त न हों। दूसरे शब्‍दों में, प्रेस की स्‍वतंत्रता संसद के वि‍शेषाधि‍कार की कीमत पर नहीं दी जा सकती।
प्रेस तथा जनसंपर्क स्‍कंध
प्रेस तथा जनसंपर्क स्‍कंध की स्‍थापना अप्रैल, 1956 में प्रेस की आवश्‍यकताओं को पूरा करने तथा लोक सभा की दैनि‍क कार्यवाहि‍यों को कवर करने के लि‍ए प्रेस को सभी संभव सुवि‍धाएं प्रदान करने तथा लोक सभा के संसदीय तथा अन्‍य कार्यकलापों के समुचि‍त प्रचार के लि‍ए संसद संबंधी समाचार देने वाले प्रेस संवाददाताओं तथा वि‍भि‍न्‍न सरकारी प्रचार संगठनों और संचार माध्‍यमों के साथ बेहतर संपर्क करने के उद्देश्‍य से की गयी थी।
प्रेस तथा जनसंपर्क स्‍कंध के कार्य इस प्रकार है:-
(एक) प्रेस दीर्घा से संबंधि‍त सभी कार्य करना जि‍नमें सत्रावधि‍ के लि‍ए प्रेस दीर्घा पास जारी करना, प्रेस दीर्घा में समचारपत्रों/समाचार एजेंसि‍यों/इलेक्‍ट्रॉनि‍क मीडि‍या का प्रवेश, केंद्रीय हाल की सुवि‍धाओं के लि‍ए प्राप्‍त अनुरोधों पर वि‍चार करना तथा 'लंबी और वि‍शि‍ष्‍ट सेवा श्रेणी' के अंतर्गत प्रेस दीर्घा पास जारी करना शामि‍ल है।
(दो) सरकारी प्रचार संगठनों तथा संचार माध्‍यमों, प्रेस संवाददाताओं, समाचारपत्रों और अन्‍य नि‍कायों के साथ संपर्क।
(तीन) प्रेस वि‍ज्ञप्‍ति‍यों/सरकारी सूचनाओं के माध्‍यम से संसद के कार्यकलापों का प्रचार। संसद भवन/संसदीय सौध/संसदीय ज्ञानपीठ में आयोजि‍त वि‍भि‍न्‍न समारोहों का फोटो/ टीवी कवरेज/अंतरराष्‍ट्रीय सम्‍मेलनों, संगोष्‍ठि‍यों, वि‍चार गोष्‍ठि‍यों आदि‍ के लि‍ए मीडि‍या केंद्रों की स्‍थापना, इत्‍यादि‍।
(चार) वि‍भि‍न्‍न संसदीय कार्यकलापों के संबंध में पैम्‍फलेट, फोल्‍डरों, चार्टों, इत्‍यादि‍ का प्रकाशन तथा आम जनता में इनका वि‍तरण।
(पांच) संसद के कार्य से संबंधि‍त जानकारी तथा प्रचार सामग्री आम जनता, संस्‍थाओं, शोधकर्त्‍ताओं को उपलबध कराना।
(छह) संसद-सदस्‍यों के लि‍ए संसद-परि‍सर में टेलीप्रि‍टंर समाचार की सुवि‍धा।
(सात) प्रेस के लि‍ए लाइब्रेरी की सुवि‍धा।
(आठ) वि‍भि‍न्‍न मंत्रालयों/वि‍भागों को अपनी वि‍शि‍ष्‍ट क्षेत्रगत गति‍वि‍धि‍यों को प्रदर्शनी के माध्‍यम से संसद-परि‍सर में प्रदर्शि‍त करने की अनुमति‍ देना ताकि‍ संसद सदस्‍य इनका अवलोकन कर सकें।
(नौ) संसद भवन/संसदीय सौध/ संसदीय ज्ञानपीठ के फि‍ल्‍म-चित्र लेने की अनुमति‍ प्राप्‍त करना।
(दस) लोक सभा कैलेण्‍डरों का प्रकाशन।
मीडि‍या कवरेज
संसदीय समारोहों, जि‍नमें शामि‍ल हैं - वि‍देशी गण्‍यमान्‍य व्‍यक्‍ति‍यों/संसदीय शि‍ष्‍टमंडलों द्वारा लोक सभा के अध्‍यक्ष व उपाध्‍यक्ष एवं लोक सभा में प्रति‍पक्ष के नेता के साथ सौजन्‍य भेंट; वि‍देशी प्रति‍नि‍धि‍मंडलों की भारत के सांसदों के साथ बैठकें; भारतीय संसदीय शि‍ष्‍टमंडलों के वि‍देश दौरे; राष्‍ट्रीय तथा अंतरराष्‍ट्रीय संसदीय सम्‍मेलन, संगोष्‍ठि‍यां, परि‍संवाद, लोक सभा के अध्‍यक्ष व उपाध्‍यक्ष तथा संदीय समि‍ति‍यों के सभापति‍यों द्वारा आयोजि‍त पत्रकार सम्‍मेलन; प्रति‍माओं/तैलचि‍त्रों का अनावरण, राष्‍ट्रीय नेताओं के संसद के केंद्रीय कक्ष में लगे तैलचि‍त्रों पर माल्‍यार्पण एवं पुष्‍पांजलि‍; वि‍शि‍ष्‍टजनों के संसद भवन/संसदीय सौध/संसदीय ज्ञानपीठ में व्‍याख्‍यान, लोक सभा अध्‍यक्ष व अन्‍य गण्‍यमान्‍यजनों द्वारा पुस्‍तक-वि‍मोचन एवं अन्‍य ऐसे समारोहों जि‍नमें वे शामि‍ल होते हैं-को प्रिंट एवं इलैक्‍ट्रानि‍क समाचार-माध्‍यमों के जरि‍ए प्रचारि‍त करने की व्‍यवस्‍था भी की जाती है। संवाददाताओं/छायाकारों को समारोहों की कवरेज के लि‍ए वि‍शेष आमंत्रण पत्र/पास जारी कि‍ए जाते हैं। संसद भवन परि‍सर में आयोजि‍त सभी समारोहों/बैठकों की प्रेस-वि‍ज्ञप्‍ति‍ और छायाचि‍त्रों को व्‍यापक खबर के लि‍ए समाचार-माध्‍यमों को उपलब्‍ध कराया जाता है। इन सभी समारोहों की संगत प्रेस-कतरनों को रि‍कार्ड के लि‍ए भी रखा जाता है।
दूरदर्शन तथा आकाशवाणी से संसद भवन परि‍सर में आयोजि‍त सभी संसदीय समारोहों के टेली प्रसारण/रेडि‍यो प्रसारण के लि‍ए वि‍शेषतौर पर अनुरोध कि‍या जाता है। सभी समारोहों की फोटो-कवरेज 'प्रेस ट्रस्‍ट इंडि‍या' तथा 'यूनीवार्ता' के फोटो प्रभाग, फोटो अनुभाग द्वारा आधि‍कारि‍क छायाकारों तथा पत्र सूचना कार्यालय द्वारा प्रत्‍यायि‍त छायाकारों द्वारा की जाती है। इन सभी समारोहों के छायाचि‍त्र प्रचार/प्रदर्शन/अभि‍लेख के प्रयोजन से प्राप्‍त कर लि‍ए जाते हैं।
अंतरराष्‍ट्रीय सम्‍मेलनों/वि‍चार-गोष्‍ठि‍यों/संगोष्‍ठि‍यों के नई दि‍ल्‍ली में आयोजि‍त होने की दशा में, उपर्युक्‍त सभी प्रबंध लोक सभा सचि‍वालय की सभी संबंधि‍त शाखाओं, भारत सरकार के मंत्रालय/वि‍भागों, अंतरराष्‍ट्रीय संगठनों के सचि‍वालयों और पत्र सूचना कार्यालय के नि‍कट सहयोग और परामर्श से कि‍या जाता है। इसके अलावा, अंतरराष्‍ट्रीय संसदीय सम्‍मेलनों/वि‍चार-गोष्‍ठि‍यों/संगोष्‍ठि‍यों के संबंध में नि‍म्‍नलि‍खि‍त प्रबंध वि‍शेषतौर पर कि‍ए जाते हैं-
(एक) सम्‍मेलन/संगोष्‍ठी/वि‍चार संगोष्‍ठी स्‍थल पर ही मीडि‍या-केंद्र स्‍थापि‍त कि‍या जाता है ताकि‍ मीडि‍याकमिर्‍यों के साथ संपर्क समन्‍वय रखने के अलावा उन्‍हें कार्यकरणगत आवश्‍यक सुवि‍धाएं भी उपलब्‍ध कराई जा सके।
(दो) प्रत्‍यायि‍त संवाददाताओं और छायाकारों को फोटो-लैमि‍नेटि‍ड पास/वि‍शेष पहचान-पत्र जारी कि‍ए जाते हैं।
(तीन) समारोह की पूर्व संध्‍या पर लोक सभा अध्‍यक्ष द्वारा समारोह के बारे में जानकारी दि‍या जाना।
(चार) लोक सभा अध्‍यक्ष आयोजि‍त प्रेस-सम्‍मेलन-संसदीय सम्‍मेलन/वि‍चार-गोष्‍ठी/संगोष्‍ठी के पूर्व आयोजि‍त सम्‍मेलन और इसके समापन के पश्‍चात आयोजि‍त कि‍या जाने वाला सम्‍मेलन।
(पांच) प्रचार प्रबंधों के बारे में की गयी व्‍यवस्‍था के संबंध में लोक सभा के महासचि‍व की मीडि‍याकर्मि‍यों के साथ बैठकें।
(छह) लोक सभा के महासचि‍व द्वारा संसदीय सम्‍मेलन(नों)/वि‍चार-गोष्‍ठी(ष्‍ठि‍यों)/संगोष्‍ठि‍यों में भाग लेने वाले अन्‍य देशों के महासचि‍वों के साथ बैठकें।
(सात) संसदीय सम्‍मेलनों/संगोष्‍ठि‍यों/बैठकों आदि‍ के सभी छायाचि‍त्रों को एकत्र करना तथा उन्‍हें लार्डि‍स की मीडि‍या/दैनि‍क बुलेटि‍न डेस्‍क को भेजना/उपलब्‍ध कराना।
(आठ) संसदीय सम्‍मेलन/वि‍चार-गोष्‍ठी/संगोष्‍ठी से संबद्ध प्रेस-कतरनों को सम्‍मेलन पश्‍चात् वि‍भि‍न्‍न प्रयोजनों के लि‍ए एकत्र कर रखना।
मीडि‍या की सुवि‍धाएं
मीडि‍या के साथ संसद के संबंध अत्‍यंत मधुर हैं। प्रेस और जनसंपर्क स्‍कंध लोक सभा और इसकी समि‍ति‍यों द्वारा कि‍ए गए कार्यों की जानकारी जनता तक पहुंचाने के लि‍ए प्रेस, वि‍भि‍न्‍न सरकारी प्रचार संगठनों और संचार माध्‍यमों के नि‍कट संपर्क में रहता है।
यह स्‍कंध संसद की कार्यवाहियों की कवरेज करने वाले संवाददाताओं को समस्‍त सुवि‍धाएं प्रदान करता है। इन सुवि‍धाओं में संसद की रि‍पोर्टिंग करने वाले सभी प्रत्‍यायि‍त संवाददाताओं के लि‍ए संसद भवन में तीन प्रेस कक्षों का आबंटन, संसदीय पत्र, दैनि‍क कार्यसूचि‍, समि‍ति‍ के प्रति‍वेदन सभापटल पर रखे गए पत्र, आदि‍ (लगभग 450 प्रति‍यां) उपलब्‍ध कराना शामि‍ल है। मीडि‍याकमियों के लि‍ए प्रयोजनमूलक उपयोग हेतु नि‍:शुल्‍क जीरोक्‍स और फैक्‍स सुवि‍धाएं भी उलपब्‍ध हैं। लोक सभा और राज्‍य सभा की प्रेस दीर्घाओं में संचार माध्‍यमों के संवाददाताओं के लि‍ए संसद की कार्यवाहि‍यों की साथ-साथ भाषांतरण सुवि‍धा भी उपलब्‍ध है। मीडि‍याकमियों के लि‍ए संसदीय ज्ञानपीठ में 10 कम्‍प्‍यूटरों, एक टीवी सेट और टेलीफोन कनेक्‍शन वाला एक अलग कार्यस्‍थल प्रदान कि‍या गया है ताकि‍ वे संसदीय कार्यवाहि‍यों, घटनाक्रमों और कार्यकलापों की अपनी रि‍पोर्टें आगे भेज सकें।
प्रेस दीर्घा
लोक सभा की प्रेस दीर्घा में 120 मीडि‍याकर्मि‍यों को बि‍ठाने की व्‍यवस्‍था है। किंतु, इनमें से आगे की दो पंक्‍ति‍यों के 57 स्‍थान वि‍शि‍ष्‍ट मीडि‍या संगठनों के लि‍ए नि‍धारि‍त कि‍ए जाते हैं।
समाचार पत्रों, संवाददाताओं का प्रत्‍यायन, प्रेस दीर्घा पासों की संख्‍या बढ़ाने, स्‍थान निर्धारि‍त करने, सभा की कार्यवाहि‍यों को कवर करने वाले संवाददाताओं को प्रयोजनमूलक सुवि‍धाएं प्रदान करने सहि‍त लोक सभा की प्रेस दीर्घा के सभी मामलों की देखभाल यही स्‍कंध करता है।
तथापि‍, प्रेस दीर्घा के सभी मामलों को प्रेस सलाहकार समि‍ति‍ के समक्ष वि‍चारार्थ रखा जाता है।
प्रेस सलाहकार समिति , जिसमें प्रेस के वरिष्‍ठ प्रतिनिधि होते हैं, जिनके पास प्रेस गैलरी के नियमित पास होते हैं, का नामांकन प्रत्‍येक वर्ष  अध्‍यक्ष, लोक सभा द्वारा किया जाता है। पी पी आर स्‍कंध प्रेस सलाहाकार समिति, जिसके सामान्‍यत: 21 सदस्‍य होते हैं, को लिपिकीय सहायता प्रदान करता है। इस समिति के लिए नामित सदस्‍य लोक सभा प्रेस गैलरी को प्रत्‍यापित मीडिया के प्रतिनिधियों में से होते हैं। समिति के चार सदरूयों को समिति के पदाधिकारियों के रूप में नामित किया जाता है नामत: सभापति, उपसभापति, सचिव तथा संयुक्‍त सचिव।
समिति के मुख्‍य कार्य इस प्रकार हैं:
(एक) गैलरी से सदन की कार्यवाही की रिपोर्ट देने के इच्‍छुक समाचारपत्रों/समाचार एजेन्‍सियों/ अन्‍य मीडिया के प्रतिनिधियों (लोक सभा से प्रत्‍यायित) के लिए स्‍थायी पास जारी करने के लिए सिफारिश करना।
(दो) गैलरी से सदन की कार्यवाही की रिपोर्ट देने के इच्‍छुक समाचारपत्रों/समाचार एजेन्‍सियों/ अन्‍य मीडिया के प्रतिनिधियों के लिए अस्‍थायी पास जारी करने के लिए सिफारिश करना।
(तीन) समाचारपत्रों/समाचार एजेन्‍सियों/ अन्‍य मीडिया के प्रतिनिधियों के विरूद्ध की गई शिकायतों की जांच करना और लोक सभा अध्‍यक्ष को उचित कार्यवाही करने की सिफारिश करना।
(चार) लोक सभा अध्‍यक्ष को मीडिया से संबंधित की गई शिकायतों की जांच करना।
(पांच) लोक सभा अध्‍यक्ष को उन सुविधाओं के बारे में सिफारिश करना जो कि पत्रकारों को उनका कार्य निर्वहन करने के लिए आश्‍यक हों।
(छ:) ऐसे अन्‍य कार्य करना जो कि उन्‍हें सौंपे गए कार्यों के समरूप हों।
इस समिति की बैठक सत्र के दौरान कम से कम एक बार होती है। कुल सदस्‍यता का एक चौथाई से समिति की उक्‍त बैठक का कोरम बनता है। प्रेस सलाहकार समिति की बैठकें सामान्‍यत: सभापति/ सचिव के निदेश पर बुलाई जाती हैं। बैठक के मदों की अभिपुष्‍टि समिति की अगली बैठक में की जाती है। तत्‍पश्‍चात समिति की सिफारिशों/ सुझावों पर अनुवर्ती कार्रवाई की जाती है।
प्रेस सलाहकार समिति 2010-11 के  पदाधिकारी तथा सदस्‍य इस प्रकार  हैं:
प्रेस सलाहकार समिति
सभापति
  1. श्री प्रशांत कुमार मिश्रा (दैनिक जागरण)
उपसभापति
2. श्री विनय कुमार (द हिन्‍दू)
सचिव
3.  जयंत घोषाल (आनंद बाज़ार पत्रिका)
संयुक्‍त सचिव
4.  श्री मनोरंजन भारती (एन डी टी वी)
सदस्‍य
5.  श्री सुनील गटाडे (पी टी आई)
6.  श्री प्रदीप कश्‍यप (यू एन आई)
7. श्री सुभाष चन्‍द्र निगम (युनिवार्ता)
8.  श्री सुमित अवस्‍थी (आज तक टी वी)
9.  श्री शिशिर सिन्‍हा (बिजनेसलाइन)
10.  श्री संजीव त्रिवेदी ( सहारा टी वी)
11.  श्री आनंद के व्‍यास (फूलछाब)
12.  श्री श्रीकृष्‍णा (एल एण्‍ड डी)
13.  सुश्री अदिति टंडन (द ट्रिब्‍यून)
14.  श्री सुबोध घिल्‍डियाल (टाइम्‍स ऑफ इंडिया)
15.  श्री निर्मल पाठक ( हिन्‍दुस्‍तान)
16. श्री अजीत मैनडोला (राजस्‍थान पत्रिका)
17.  श्री सदानंद पांडे (वीर अर्जुन)
18.  श्री प्रदीप श्रीवास्‍तव (जनसत्‍ता)
19. श्री एम के अजीत कुमार (मातृभूमि)
20 श्री किशोर चन्‍द्र द्विवेदी (समाज)
21 श्री जे. सक्‍ति कंडासामी (दीनामलार)
22. सुश्री नीलम जेना (विशालान्‍ध्रा)
23. श्री मोहम्‍मद अहमद खान (डेली मुंसिफ)
24. सुश्री नरेश कौशिक (पीटीआई भाषा)
25.  डा अनिल कुमार सिंह (स्‍टार न्‍यूज़-एम सी सी एस)
26. श्री दिलीप कुमार तिवारी (ज़ी टी वी)
 
सूचना प्रदान करने के लिए उत्तरदायी अधिकारी

डा. एम. के. शर्मा
संयुक्‍त निदेशक
दूरभाष: 23035022

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें