बुधवार, 26 नवंबर 2014

कार्टूनिस्ट इरफ़ान ख़ान


 

 

 

 

 

प्रस्तुति-- प्यासा रुपक,प्रवीण परिमल

 

 

इरफ़ान ख़ान (पूरा नाम मोहम्मद इरफ़ान खान- जन्म ४ नवंबर १९६६) का जन्म मध्य प्रदेश के ग्वालियर[1] शहर में हुआ था। स्थानीय अखबार दैनिक भास्कर और स्वदेश में सन ८२-१९८९ तक कार्टून बनाते रहे। दिल्ली की श्रीधरणी आर्ट गैलरी में अपनी प्रदर्शिनी के दौरान वे नवभारत टाइम्स लखनऊ के लिये चुन लिये गए। १९९४ में दिल्ली आकर इकोनोमिक टाइम्स, फ़ाइनेन्शिअल एक्स्प्रेस,एशियन ऐज, में स्टाफ़ कार्टूनिस्ट रहे। २००० में ज़ी न्यूज़ में वरिष्ठ कार्टूनिस्ट के पद पर काम करते हुए अपना टाक शो शख्शियत होस्ट किया, २००३ में एनडीटीवी के शो गुस्ताखी माफ़ की स्क्रिप्ट लिखी और सहारा समय पर इतनी सी बात होस्ट किया। अब तक ३ संकलन प्रकाशित हो चुके हैं। एन्सीईआरटी के पाठ्यक्रम की पुस्तकों में देश के बच्चे इरफ़ान के कार्टून पढ़ रहे हैं। जापान फ़ाउन्डेशन ने २००५ में उन्हें एशिया के ४ श्रेष्ठ कार्टूनिस्टों में चुना और भारत का नेतृत्व करने के लिये जापान निमन्त्रित किया।[2] अनेक पुरस्कारों से सम्मानित इरफ़ान अब तक ६ कार्टून प्रदर्शिनियाँ कर चुके हैं। जिनमें क्रिकेट, आतंकवाद, साम्प्रदायिक्ता और ग्लोबल वार्मिन्ग पर प्रदर्शिनियाँ काफ़ी चर्चित रही हैं। २००७ में मिड डे अखबार में भारत के पूर्व मुख्य न्यायधीश पर कार्टून बनाने पर दिल्ली उच्च न्यायालय ने इरफ़ान को ४ महीने की सज़ा सुनाई। यह मामला अभी उच्चतम न्यायालय में विचाराधीन है।

संदर्भ

  1. "फ़न इरफ़ान कार्टून्स" (अंग्रेज़ी में) (एएसपीएक्स). फ़नी इरफ़ान कार्टून. अभिगमन तिथि: २००९.
  2. "भारतीय कार्टूनिस्ट इरफ़ान ख़ान" (अंग्रेज़ी में) (पीएचपी). इंडियन कैरीकेचर. अभिगमन तिथि: २००९.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें