गुरुवार, 3 जुलाई 2014

इंडिया में हैशटैग वार, मीडिया बना निशाना









प्रस्तुति- साक्षी बादल, निम्मी नर्गिस



मीडिया और सोशल मीडिया आपस में टकरा रहे हैं. 18 फरवरी से सोशल मीडिया पर कुछ चैनलों को बैन करवाने की मुहिम छेड़ दी गई है. कुछ खास न्यूज चैनलों के खिलाफ चली इस मुहिम के लिए #हैशटैग का प्रयोग जोर-शोर से किया जा रहा है. सोशल मीडिया का एक तबका इन चैनलों को फेक न्यूज से जनता को गुमराह करने का जिम्मेदार बताकर उन्हें सबक सिखाने के लिए दूसरे यूजर्स से इस टैग का प्रयोग कर उनका बहिष्कार करने का अभियान चला रहा है. यह पोस्ट सोशल मीडिया पर तेजी से फैल रही है तथा इस अभियान के शिकार न्यूज चैनलों के फेसबुक लाइक्स तेजी से घट रहे हैं.


hashtag campaign against paid news

गौरतलब है कि एक चर्चित न्यूज चैनल के कुछ रिपोर्टरों के किसी पॉलिटिकल पार्टी में शामिल होने की खबर आई. इससे पूर्व भी न्यूज चैनलों के मशहूर चेहरे खास राजनैतिक दलों में शामिल हो चुके हैं. इसीलिए सोशल मीडिया पर इन न्यूज चैनलों के खिलाफ यह ‘हैश टैग’ अभियान चलाने वाले इसे फ़ेक जर्नलिज्म बता रहे हैं. इसके अलावा यह यूजर 2014 के लोकसभा चुनाव में किसी खास राजनैतिक दल का वोट कट करने की इन चैनलों की साजिश बताकर इनके खिलाफ इस तरह की सोशल मीडिया कैम्पेनिंग कर रहे हैं.

एक तरफ जहां चैनल के ये विरोधी मीडिया के पेड न्यूज से जनता को बचाने के लिए अभियान में शामिल होने और इन चैनलों को बंद कराने की बात कर रहे हैं तो वहीं दूसरी तरफ सोशल मीडिया ही मीडिया की आजादी पर रोक लगाने वाली स्थिति में पहुंच गई है.

अब मीडिया को दोष देते हैं!!

बाजारू मीडिया का बाजारवाद

चमकती दुनिया का स्याह अंधेरा

Web Title : hashtag war against media channels


Tags: Indian politics  india  politics in india  political parties  Social Issue  Indian Media  News Channels  Social Media  Hindi News Channels  Media Freedom in India  Facebook  hashtag  media war  हैशटैग  हिंदी मीडिया  हिंदी ब्लॉग  सोशल मीडिया  paid news  hashtag campaign against paid news 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें