मंगलवार, 1 जुलाई 2014

संकट संकट और संकट/ बंद होगा ऑर्कुट





प्रस्तुति-- निम्मी नर्गिस / अमित कुमार

फेसबुक और ट्विटर के इस दौर में ऑर्कुट कहीं पीछे रह गया है. अब गूगल ने इसे बंद करने का एलान किया है. एक जमाने में ऑर्कुट भारत में भी काफी लोकप्रिय हुआ करता था.
गूगल ने कहा है कि वह अपनी पहली सोशल नेटवर्किंग साइट ऑर्कुट को बंद कर देगा. गूगल का कहना है कि वह यू ट्यूब, ब्लॉगर और गूगल प्लस की ओर ज्यादा ध्यान केंद्रिंत करेगा, जो ज्यादा लोकप्रिय हो रहे हैं. अमेरिका के कैलिफोर्निया स्थित इंटरनेट कंपनी ने कहा है कि वह ऑर्कुट लॉन्च होने के 10 साल बाद इसे सितंबर के आखिरकार बंद करने जा रही है.
गूगल के इंजीनियरिंग डायरेक्टर पॉल गॉल्घर के मुताबिक, "पिछले एक दशक से यू ट्यूब, ब्लॉगर और गूगल प्लस बेहतर कर रहे हैं. क्योंकि इनके विकास के कारण ऑर्कुट पिछड़ गया है. हमने ऑर्कुट को विदाई देने का फैसला किया है."
ऑर्कुट "20 फीसदी प्रोजेक्ट" का नतीजा था, जिसके तहत गूगल के कर्मचारियों को अपने समय का पांचवां भाग उन विचारों पर काम करने के लिए लगाना होता था जो उनके काम का हिस्से नहीं थे. ऑर्कुट ब्राजील में काफी लोकप्रिय हुआ. दो साल पहले तक उसने ब्राजील में फेसबुक को कड़ी टक्कर दी थी. गूगल ने 2011 में गूगल प्लस नाम से सोशल नेटवर्किंग सर्विस लॉन्च की थी. गूगल अब दूसरी सेवाओं पर ज्यादा ध्यान दे रहा है. गूगल ने सोशल मीडिया के शीर्ष पर पहुंचने के साथ इसमें प्रवेश की बहुत कोशिश की लेकिन फेसबुक और ट्विटर जैसी कंपनियां बहुत आगे निकल चुकी थीं. गूगल के पूर्व सीईओ और संस्थापक एरिक श्मिट ने कुछ महीने पहले एक इंटरव्यू में कहा था, "सच्चाई तो यह है कि फेसबुक का जब जन्म भी नहीं हुआ था, तो गूगल ने ऑर्कुट के तौर पर सोशल मीडिया चलाया था, जो भारत और ब्राजील के अलावा कहीं और नहीं चल पाया. इसके बाद गूगल का बज भी फेल हो गया और अब कंपनी ने अपना पूरा ध्यान गूगल प्लस पर लगाया है लेकिन उसकी कामयाबी भी सीमित है."
एए/एएम  (एएफपी)

संबंधित सामग्री

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें