रविवार, 27 अप्रैल 2014

पत्रकारिता एवं जन संचार में लघु शोध प्रबंध प्रोजेक्ट रिपोर्ट













पत्रकारिता एवं जन संचार में मास्टर्स डिग्री (एम जे एम सी) हेतु लघु शोध प्रबंध और पीजी डिप्लोमा, प्रसारण पत्रकारिता एवं न्यू मीडिया में पीजी डिप्लोमा और विज्ञापन एवं जनसंपर्क में पीजी डिप्लोमा के शिक्षार्थियों के लिए प्रोजेक्ट रिपोर्ट

 लघु शोध प्रबंध/ प्रोजेक्ट रिपोर्ट लघु शोध प्रबंध का आशय यह है कि शिक्षार्थी एक विषय का गहन अध्ययन प्रस्तुत करे. इस बहाने उसे मीडिया क्षेत्र को गहराई से जानने-समझने का अवसर मिले और उस विषय के बारे में अर्जित ज्ञान का बेहतरीन प्रदर्शन करे. साथ ही जहां जरूरी हो शोध प्रविधि का भी इस्तेमाल करे. शोध प्रबंध को कम से कम ५० पृष्ठ का होना चाहिए जबकि प्रोजेक्ट रिपोर्ट के लिए कम से कम ४० पृष्ठ निर्धारित हैं.

MJMC
निम्न लिखित में से किसी एक विषय पर लघु शोध प्रबंध लिखिए:
  • १५ अप्रैल से १५ मई तक के किन्हीं दो अखबारों की चुनाव संबंधी कवरेज का तुलनात्मक अध्ययन
  • उत्तराखंड से निकलने वाली किन्हीं दो पत्रिकाओं की विषयवस्तु का तुलनात्मक विश्लेषण
  • भाजपा और कांग्रेस के मीडिया कैम्पेन का तुलनात्मक अध्ययन
PGDJMC
निम्न में से किसी एक विषय पर प्रोजेक्ट लिखें.
  • मेरे इलाके की समस्याएं (अपने इलाके की समस्याओं का विश्लेषणात्मक अध्ययन प्रस्तुत कीजिए)
  • मेरा ब्लॉग (अपने नाम का एक ब्लॉग बनाइए, जिसमें कम से कम १० टिप्पणियाँ आपके नाम से हों और उसके बाद समस्त सामग्री को बाइंड करके प्रस्तुत करें और ब्लॉग का लिंक भी दें.)
  • उत्तराखंड में शहरीकरण की समस्या
  • बढ़ता पलायन और उजड़ते गाँव
  • उत्तराखंड की राजनीति
लघु शोध प्रबंध/ प्रोजेक्ट रिपोर्ट को ठीक तरीके से बाईंड करके सीधे विश्वविद्यालय के परीक्षा विभाग को भेजें. जहां जरूरी हो, फोटो, कार्टून, चित्र आदि लगाना ना भूलें. साथ ही सन्दर्भों का जरूर हवाला दें. लघु शोध प्रबंध/ प्रोजेक्ट रिपोर्ट आपकी मौलिक रचना होनी चाहिए, नक़ल की हुई नहीं. इनके अतिरिक्त यदि किसी के पास अपना अभिनव विचार हो तो सूचित करें. अधोहस्ताक्षरी की लिखित अनुमति के बाद ही नए विषय पर लघु शोध/ प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार किया जा सकता है.
PGDBJNM
निम्नलिखित दोनों कार्यों की सीडी सीधे बनाकर विश्वविद्यालय के परीक्षा विभाग को भेजिए.
१-खुद को किसी समाचार चैनल का रिपोर्टर समझते हुए अपने इलाके के किसी बुजुर्ग का अपने वीडिओ कैमरे से इंटरव्यू लीजिए.
या अपने इलाके की समस्याओं पर पांच मिनट की वीडिओ रिपोर्ट तैयार कीजिए.
या अपने इलाके की समस्याओं पर दस मिनट का रेडिओ फीचर तैयार कीजिए.
२-मेरा ब्लॉग (अपने नाम का एक ब्लॉग बनाइए और ब्लॉग का होम पेज व लिंक भेजें.)
PGDAPR
निम्न में से किसी एक पर कम से कम ४० पेज का प्रोजेक्ट लिखना होगा.
किसी एक विज्ञापन एजेंसी के बारे में विस्तृत अध्ययन (शिक्षार्थी को विज्ञापन एजेंसी में जाकर उसके बारे में तमाम जानकारियाँ एकत्रित कर ४० पेज का विस्तृत अध्ययन प्रस्तुत करना होगा. यानी एजेंसी के गठन से लेकर उसकी कार्य-प्रणाली और व्यापार तक पूरी जानकारी देनी होगी. साथ में एजेंसी के प्रमुख लोगों के साक्षात्कार भी प्रस्तुत करने होंगे.)
किसी सरकारी संस्थान/ विभाग या सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम या प्रतिष्ठित कम्पनी के जन संपर्क विभाग का विस्तृत अध्ययन. (शिक्षार्थी को विभाग में जाकर उसके बारे में तमाम जानकारियाँ एकत्रित कर ४० पेज का विस्तृत अध्ययन प्रस्तुत करना होगा. यानी जन संपर्क विभाग के गठन, संरचना से लेकर उसकी कार्य-प्रणाली तक पूरी जानकारी देनी होगी. साथ में विभाग के प्रमुख लोगों के साक्षात्कार भी प्रस्तुत करने होंगे.)

प्रो. गोविन्द सिंहप्रोफ़ेसर एवं अध्यक्ष,
पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग,
उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय, हल्द्वानी.
फ़ो: 09410964787



डॉ. राकेश रयाल, वरिष्ठ अकादमिक एसोशिएट,
उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय, देहरादून कैम्पस
फ़ो: 09410967600
- See more at: http://www.uou.ac.in/announcement/2014/04/7547#sthash.B1QKt5x3.dpuf

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें