शुक्रवार, 21 मार्च 2014

हाय, अलीबाबा के बगदाद को किसकी लग गयी नजर






बगदाद: सबसे खराब शहर

अलादीन और अली बाबा की कहानियों के लिए जाना जाने वाले बगदाद को कभी अरब जगत का मॉडल शहर कहा जाता था. 1970 के दशक में तो इसकी खूब चमक दमक थी. लेकिन अब हालात बदल गए हैं. अब इसे सबसे खराब शहर कहा जा रहा है.
http://www.dw.de/image/0,,17409271_303,00.jpg
दुनिया भर के 239 शहरों में हुए सर्वे में बगदाद का नंबर सबसे आखिर में है. मर्सर कसंल्टिंग ग्रुप ने 239 शहरों में जीवन की गुणवत्ता पता लगाने के लिए इस सर्वे को कराया. सर्वे में राजनीतिक स्थिरता, अपराध, प्रदूषण के आधार पर बगदाद को आखिरी स्थान मिला है. सर्वे में बगदाद संकट से घिरे मध्य अफ्रीकी गणराज्य की राजधानी बानगुई और हैती की राजधानी पोर्ट ऑफ प्रिंस के बराबर खड़ा है. बगदाद के निवासियों को बम हमलों, बिजली, साफ पानी, खराब जल निकासी व्यवस्था, भ्रष्टाचार, बेरोजगारी जैसी समस्याओं से रोजाना दो चार होना पड़ता है.
बगदाद में अखबार बेचने वाले हामिद अल दराजी कहते हैं, "हम सैन्य बैरकों में रहते हैं." उनका इशारा जगह जगह बने चेक प्वाइंट और सीमेंट के बड़े बड़े अवरोधकों की तरफ है. 48 साल के हामिद आगे कहते हैं, "अमीर और गरीब एक ही पीड़ा से गुजर रहे हैं. गरीबों की ही तरह अमीर किसी भी पल अपहरण, धमाके या फिर हत्या का शिकार हो सकते हैं. हमारी ऐसी जिंदगी है जहां किसी भी समय मौत से सामना हो सकता है."
क्या से क्या बना बगदाद
इराक की राजधानी का हाल पहले ऐसा नहीं था. बगदाद की स्थापना साल 762 में हुई थी. उसके बाद से इस शहर ने अरब और इस्लामी समाज में अहम भूमिका निभाई. 20वीं सदी में बगदाद ने बेहतरीन विश्वविद्यालयों और संग्रहालयों की मदद से खुद को एक मॉडल के रूप में स्थापित किया. अधिकारी अभी भी उस बात को याद करते हैं कि कैसे क्षेत्र के समकक्ष देश बगदाद अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे को एक मॉडल के रूप में मानते थे. तेल उत्पादक देशों के संगठन ओपेक की स्थापना बगदाद में ही हुई थी.
एक समय में बगदाद में विविध धर्मों का घर हुआ करता था. लेकिन पिछले कुछ सालों में सब कुछ बर्बाद हो गया. लगातार आतंकी हमलों ने शहर को जैसे अपनी गिरफ्त में ले लिया हो. फरवरी में बगदाद में हुई हिंसक घटनाओं में 57 लोग मारे गए. पांच मार्च तक हुई गोलीबारी और बमबारी की घटनाओं में 20 लोग मारे गए.
कुछ लोग शहर को साफ और खूबसूरत बनाने का काम भी कर रहे हैं. लेकिन उनके लिए यह चुनौती भरा काम है. एक एनजीओ के लिए काम करने वाले अमीर अल चलाबी कहते हैं, "मुझे बहुत खराब लग रहा है कि बगदाद को सबसे खराब शहर का दर्जा मिला है."
एए/आईबी(एएफपी)
DW.DE


संबंधित सामग्री
http://www.dw.de/image/0,,17454885_301,00.jpg

http://www.dw.de/image/0,,16519508_301,00.jpg

http://www.dw.de/image/0,,16145306_301,00.jpg

और आर्टिकल
http://www.dw.de/image/0,,17510058_301,00.jpg

Berlinale 2014 08.02.14 The Monuments Men

Bremm an der Mosel


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें