सोमवार, 29 अप्रैल 2013

bhadas4 media / सुख दुख

Bhadas

A+ A A-

सुख-दुख...

मिर्जापुर जिले के पड़री से खबर है कि एक प्रधानाध्‍यापिका से मारपीट करने की शिकायत पर पुलिस ने राष्‍ट्रीय सहारा के एक संवाददाता को गिरफ्तार किया है जबकि आरोपी ग्राम प्रधान भाग निकाला. जानकारी के अनुसार बेलवन ग्राम निवासी राष्‍ट्रीय सहारा के पत्रकार अवनीश कुमार उर्फ सुरेंद्र कुमार पांडेय ग्राम प्रधान सर्वेश कुमार उर्फ चिंटू पांडेय के साथ प्राथमिक विद्यालय चंडिका पहुंचे तथा प्रधानाध्‍यापिका सोनी गुप्‍ता से एमडीएम और अन्‍य जानकारियां लेने लगे.
: City-based journalist who has never been out of India was denied a visa to Dubai due to a lifetime ban against his name : Mumbai : Imagine the shock Mumbai-based journalist Vijay Kumar Singh experienced when he was refused visa for Dubai on grounds that he has a life-long ban against his name. This, when the man has never travelled out of the country.  Singh, 35, and a resident of Santacruz has been covering the Mantralaya since several years for a national Hindi newspaper.
: पीएलएफआई ने ली है हत्या की जिम्मेवारी : खूंटी : प्रभात खबर के मुरहू प्रतिनिधि जितेंद्र कुमार सिंह की आज मुरहू थाना क्षेत्र में हत्या कर दी गयी. मृतक की जेब में हत्यारों ने एक परचा छोड़ी है. जिसके मुताबिक उसकी हत्या पीएलएफआई ने की है. हालांकि पुलिस का कहना है कि अनुसंधान के बाद ही हत्यारों का खुलासा हो सकता है.
बीपीएन टाइम्स में काम करने वाले एक पत्रकार हरिशंकर सिंह की सेलरी का 14 हजार का चेक बाउंस करना बीपीएन टाइम्स मैनेजमेंट को काफी भारी पड़ा। मामला कोर्ट में जाने के बाद आखिरकार प्रबंधन ने 14 के बदले 18 हजार देकर मामले का निपटारा किया। जानकारी के मुताबिक, हरिशंकर सिंह बीपीएन टाइम्स के दिल्ली ऑफिस में बतौर उपसंपादक काम करते थे। उन्होंने जब अपनी नौकरी छोड़ी तो उन्हें मैनेजमेंट की ओर से 14 हजार का चेक बतौर फाइनल सेटलमेंट के तौर पर दिया गया था। जब उन्होंने चेक अपने अकाउंट में डाला तो स्टॉप पेमेंट करके उनका भुगतान रोक दिया गया।
 : चिट फंड कंपनियों के असल संरक्षक हैं, इस देश की व्यवस्था के बड़े लोग. परदे के पीछे रह कर उन्हें बढ़ानेवाले या पालने-पोसनेवाले. बंगाल में भी बड़े-बड़े नेताओं के नाम आ रहे हैं. एक ताकतवर केंद्रीय मंत्री की पत्नी का नाम भी उछला है. एक मामले में वकील की भूमिका का निर्वाह करने के संबंध में. जेवीजी से लेकर सारधा ग्रुप तक, सारी कंपनियों के पीछे या इस तरह के धंधे में डूबी कंपनियों के असल प्राणदाता, समाज और व्यवस्था के प्रहरी हैं :
सेबी सहारा समूह की मुश्किलें कम नहीं होने दे रहा है. इसकी टोपी उसके सिर पहनाकर अरबों का साम्राज्‍य खड़ा करने वाले सुब्रत रॉय और उनका सहारा समूह पहली बार बुरी तरह मुश्किलों में घिरा है. अपनी दो कंपनियों में निवेशकों से रकम जमा कराने से पहले सेबी के आदेश को हलके में लेना उसक हलक की हड्डी बन गया है. अब न निगलते बन रहा है और ना ही उगलते. सहारा की साम, दाम, दंड और भेद जैसी सारी कवायदें फेल हो रही हैं.
धर्मशाला के समीप दाडऩू में प्रेस फोटोग्राफर श्‍याम शर्मा से कुछ लोगों ने मारपीट कर उनकी सोने की चेन व नकदी छीन ली और कैमरा तोड़ डाला। एक दैनिक समाचार पत्र का प्रेस फोटोग्राफर खनियारा निवासी श्याम कुमार शुक्रवार रात्रि काम खतम करने के बाद घर वापस लौट रहा थे। दाडऩू के समीप बीड़ निवासी सुनील कुमार, देशराज और सुभाष सहित अन्य युवकों ने उसका मोटरसाइकिल रोक लिया। युवकों ने प्रेस फोटोग्राफर से मारपीट की तथा उसकी सोने की चेन, चांदी का ब्रेसलेट छीन लिया तथा कैमरा तोड़ दिया।
समाचार एजेंसी ईएफई के मुताबिक शनिवार को एक पत्रकार की हत्‍या में पांच पुलिस अधिकारियों को अरेस्‍ट किया गया है। दैनिक समाचार पत्र 'फोल्हा डी साओ पाउलो' ने बताया कि पकड़े गए सभी पुलिस अधिकारी मिनस गेरैस राज्य के मध्यवर्ती प्रांत वेल डो आवो की सिविल पुलिस के सदस्य हैं जिनका सम्बंध क्षेत्रीय उग्रवादी समूहों के साथ होने का संदेह जाहिर किया गया है।
''गूगल लंदन'' वाले समलैंगिकों को मिलवाने के काम में भी जुट गए हैं. लंदन स्थित गूगल के आफिस वालों ने अपने यहां काम करने वाले एक शख्स को उसके गे फ्रेंड से समारोहपूर्वक मिलवा दिया. शान आकलैंड ने पिछले शुक्रवार को यूट्यूब के जरिए यह बात उजागर की कि उनका पि‍छले दो वर्षों से अपने ब्‍वॉयफ्रेंड माइकल से अफेयर चल रहा है. शान आकलैंड सैन फ्रांसि‍स्‍को में रहते हैं और वहीं के गूगल ऑफि‍स में काम करते हैं. माइकल गूगल के लंदन आफिस में काम करते हैं और लंदन में ही रहते हैं.
पैसा कमाने के लिए साधना न्‍यूज की आईडी बेचे जाने से लेकर रिपोर्टरों को टार्गेट दिए जाने की खबरें तो पहले भी आती रही हैं, लेकिन इस समूह से जुड़े लोगों पर जब ब्‍लैकमेलिंग और भ्रष्‍टाचार के आरोप लगने लगे तो समूह संपादक एसएन विनोद ने इसकी जांच शुरू करा दी. जांच शुरू होते ही प्रबंधन समेत इस से जुड़े वरिष्‍ठ लोगों में खलबली और बेचैनी मच गई. इसके बाद ये लोग एसएन विनोद के खिलाफ षणयंत्र और साजिश रचने लगे.
कोलकाता : कोलकाता के भवानीपुर थाने में तृणमूल कांग्रेस के राज्यसभा सांसद कुणाल घोष के खिलाफ एक और शिकायत दर्ज कराई गई है। शारदा समूह के 'सकालबेला' नाम के अखबार के कर्मचारियों ने कुणाल घोष के खिलाफ यह शिकायत दर्ज कराई है। कुणाल घोष पर जिन धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है, इनमें से दो गैर जमानती हैं।
रांची : झारखंड यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट और प्रेस क्लब की बैठक रविवार को यूनियन कार्यालय में हुई। बैठक में खूंटी जिला के पत्रकार जितेंद्र सिंह की नक्सलियों द्वारा की गई हत्या की कड़ी शब्दों में निंदा की गई। इसके अलावा पत्रकार के परिवार को सरकारी प्रावधान के मुताबिक मुआवजा और एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने, मामले की सीआईडी जांच कराने और दोषियों को सजा देने की मांग की गई। बैठक शिव कुमार अग्रवाल प्रताप सिंह, चंद्रकांत गिरी, उदय सिंह, हेमंत झा, प्रदीप अग्रवाल, मनोज मिश्र, धीरेंद्र चौबे, सुदीप सिंह अन्य मौजूद थे।
Yashwant Singh : अगर आपको फेसबुक पर सच्चे साथी की तलाश हो तो बस इतना कीजै कि एक दिन संघियों उर्फ हाफपैंटियों, एक दिन कम्युनिस्टों उर्फ लालझंडा वालों, एक दिन इस्लामिक कट्टरपंथियों और एक दिन कट्टर हिंदूवादियों के खिलाफ टाइट वाला स्टेटस डाल दीजिए... जो जो विरोध करे, उन्हें ब्लाक करिए... बाकी जो बच जाएं, उनमें से परम मूर्ख और परम ज्ञानी की तलाश आसानी से कर लेंगे :)
बरहज तहसील में हिंदुस्‍तान के पत्रकार संतोष उपाध्‍याय के साथ हुई मारपीट की घटना पत्रकारों के आपसी रंजिश का परिणाम है. संतोष उपाध्‍याय बरहज से सटे जयनगर में एक व्‍यक्ति को कुछ रुपये देने गए थे. संतोष जिस व्‍यक्ति को रुपये देने गए थे उसका अपने पट्टीदारों से जमीन का विवाद चल रहा है. जब वे रुपये देकर वापस जा रहे थे तो दूसरे पक्ष के लोगों ने उनकी बाइक रोक ली तथा पूछताछ करने लगे.
लखनऊ। अपट्रॉन की जमीन की नीलामी को लेकर खूब हो-हल्ला मचा हुआ है, लेकिन गोमती नगर स्थित नगर निगम की अरबों रुपए की बेशकीमती 170 एकड़ सरकारी जमीन पर काबिज सहारा इंडिया हाउसिंग पर नगर निगम और नौकरशाही ने चुप्पी साध रखी है। सहारा इंडिया हाउसिंग को 1994 में इस भूमि पर गरीबों को आवास बनाने के लिए आवंटित की गई थी। गरीबों का अशियाना इस बेशकीमती भूमि पर नहीं बन पाया, लेकिन सुब्रत राय सहारा श्री का अशियाना 'सहारा शहर' जरूर जनता को चिढ़ा रहा है। इस भूमि के बारे में नगर निगम और शासन के आला अफसर मुंह खोलने को तैयार नहीं हैं।
मेरे एक मित्र हैं उर्मिलेश। मैं उन्हें १९८३-८४ से जानता हूं। धीर गंभीर पत्रकारों मे उनकी गिनती होती है। उर्मिलेश का कहना है कि हिंदी पत्रकारिता में दलित और पिछड़ी जाति के लोगों पर अघोषित रोक सी लगी है। आप किसी भी मीडिया हाउस के टॉप टेन लोगों में दलित और पिछड़ी जाति के लोगों के नाम नहीं बता पाएंगे। पर मुझे लगता है कि मीडिया हाउसेज के टॉप टेन में ब्राह्मण और कायस्थ के अलावा अन्य अगड़ी जाति के लोग भी नहीं के बराबर हैं।
आप मुझे प्रकाश पुरोहित का अंधभक्त कह सकते हैं। मगर प्रवीण खारीवाल और कमल कस्तूरी ने जो लिखा है, उसे पढ़ कर मेरे मन में भी कुछ बातें आई हैं। जब-जब प्रकाश जी ने अपने बेटे सुधांशु को पर्यटन के लिए भेजा, तब-तब मेरे भी मन में सवाल उठे। मगर जो सुधांशु ने रिपोर्टिंग की, उसे पढ़ कर सारे सवाल मिट गए। सुधांशु भले ही प्रकाश जी का बेटा है, मगर लिखता अच्छा है और प्रकाश जी को इससे ज्यादा कुछ नहीं चाहिए। उनकी प्राथमिकता होती है पठनीय अखबार निकालना। इसके बाद या इसके पहले वे कुछ नहीं जानते।
नई दिल्ली : पत्रकारों और कलाकारों को उनके उत्कृष्ट योगदान के लिए सम्मानित करने की परंपरा को आगे बढ़ाते हुए रविवार को यहां 38वां मातृश्री मीडिया पुरस्कार प्रदान किया गया। पीटीआई के खेल संपादक एमआर मिश्रा एवं भाषा के कवीन्द्र नारायण श्रीवास्तव सहित 26 पत्रकारों को इस वर्ष पुरस्कृत किया गया।
ऐसा लगता है मानो सरकार ने भोले-भाले जरूरतमंदों को लूटने का लाइसेंस कुछ लोगों को दे दिया है. इस गोरखधंधे में बड़े अखबारों, न्यूज़ चैनलों की भी हिस्सेदारी नज़र आती है. भोले-भाले गरीब इनकी चाल में फंसते जा रहे है. दुःख तो इस बात का है कि इनकी फ़रियाद तक सुनने वाला कोई नहीं है. उल्टा उपदेश दिया जाता है कि जैसा किया है वैसा भोगो... मध्यप्रदेश में ऐसे 'ज्वेलथीफ' अमीर होते जा रहे हैं और जनता गरीब. सरकार मौन है. मीडिया की मिलीभगत के चलते कोई लगाम की सोच भी नहीं सकता.
न्यूयॉर्क। प्रखर नारीवादी और मशहूर पत्रकार मैरी थॉम का एक सड़क हादसे में निधन हो गया है। वे 68 साल की थीं। मोटरसाइकलें चलाने की शौकीन मैरी बीते शुक्रवार की शाम उत्तरी न्यूयॉर्क के एक राजमार्ग पर अपनी होंडा मागना-750 चला रही थी और उसी दौरान हादसे का शिकार हो गईं। उनके एक रिश्तेदार ने यह जानकारी दी। वे ‘मिस’ पत्रिका की पूर्व संपादक थीं। (भाषा)
सेवा में, श्रीमान यशवंत जी। सादर नमस्कार। महोदय, मेरा नाम मुश्ताक अहमद है। मैं अमर उजाला के बिल्हौर ब्यूरो कार्यालय में विज्ञापन प्रतिनिधि के रूप में पिछले दो सालों से काम कर रहा हूं। मैं ब्यूरो चीफ श्री सत्येंद्र मिश्रा के साथ मिलकर विज्ञापन और खबरों दोनों का काम करता हूं। पहले मेरे पास अमर उजाला अखबार की एजेंसी थी, जिसके कारण मिश्रा जी के सम्पर्क में आया। मिश्रा जी ने मुझको पत्रकार बनाने के लिए कहा तो मैं उनके साथ घूमने लगा।
अमर उजाला, लखनऊ से खबर है कि संपादकीय विभाग में कार्यरत दो सहकर्मियों ने शनिवार की दोपहर जमकर तू-तू-मैं-मैं तथा गाली-ग्‍लौज हुई. नौबत हाथापाई तक भी पहुंच गई परन्‍तु अन्‍य साथियों ने दोनों को अलग करके मारपीट होने से बचा लिया. संपादक इंदुशेखर पंचोली लखनऊ में नहीं है, लिहाजा उन्‍हें मोबाइल के जरिए सूचना दी गई है. संभावना है कि उनके लखनऊ आने के बाद कोई निर्णय लिया जाएगा.
श्रमजीवी पत्रकार यूनियन ने एक आपातकालीन बैठक शेखपुरा जिला भाजपा के खबर के बहिष्कार का निर्णय लिया है। यह भाजपा जिला अध्यक्ष के खिलाफ न्यूज छापने पर प्रभात खबर के पत्रकार  निरंजन कुमार को हटाने के विरोध में किया गया। नगर विकास मंत्री प्रेम कुमार से मीडिया ने पूछा था कि कई मामले के आरोपी तथा वारंटी जिलाध्यक्ष संजीत प्रभाकर किस तरह उनके साथ हैं तथा मंच पर स्पीच देने के साथ मंत्री जी के साथ वाहन में बैठे थे।
इंडिया टुडे समूह के अंग्रेजी अखबार मेल टुडे ने एक रिपोर्ट प्रकाशित की है. इस रिपोर्ट में बताया गया है कि चिटफंडियों के तूफान की चपेट में आकर पश्चिम बंगाल में कम से कम 2450 मीडियाकर्मी अपनी नौकरी गंवा चुके हैं, जिसमें पत्रकार तथा गैर पत्रकार दोनों शामिल हैं. इसमें सुदीप्‍तो सेन के मीडिया समूह के अलावा एक और चिटफंड कंपनी टॉवर समूह भी शामिल है.
कुछ पत्रकारों की हरकत पूरे समूह को शर्मसार कर देती है, ऐसा ही एक वाकया लगभग एक सप्‍ताह पहले देवरिया जिले के बरहज में हुआ है. हिंदुस्‍तान अखबार के क्षेत्रीय पत्रकार संतोष उपाध्‍याय को रंगरेलिया मनाना भारी पड़ गया. स्‍थानीय लोगों ने उन्‍हें जमकर मारने पीटने के बाद नाली में डूबोया, चेहरे पर गंदगी तक मल दी. सूचना पर पहुंची पुलिस ने उन्‍हें लोगों के चंगुल से बाहर निकाला. इस घटना के बाद से हिंदुस्‍तान की जमकर थू-थू हो रही है.
प्रेमिका को धोखा देकर सगाई रचाने वाले युवक तथा मीडियाकर्मियों के साथ मारपीट करने वाले उसके साथियों को पुलिस ने जेल भेज दिया। यौन शोषण की शिकार युवती ने सीएम को पत्र भेजकर इंसाफ की मांग की है। मेडिकल थाने के कालियागढ़ी निवासी युवती के प्रेमी अमित कुमार को दुष्कर्म और दोस्तों प्रदीप कुमार, संजीव कुमार, अंकित और आशीष को मारपीट की धाराओं में पुलिस ने मेडिकल कराने के बाद जेल भेज दिया।

More Articles...

  1. ''पेड न्यूज का काम भी स्थानीय संपादक उन्हीं के जरिए करवाता है''
  2. पत्रकार के होटल में देह व्‍यापार करवाने वाले रैकेट की सरगना अरेस्‍ट
  3. पाई पाई के लिए तरस रहे जनसंदेश टाइम्स कर्मी
  4. नक्‍सली हमले में लापता जवान का शव पत्रकारों ने खोज निकाला
  5. भास्‍कर के पत्रकारों पर हमला करने वाले गिरफ्त से बाहर, मीडियाकर्मियों ने दिया अल्‍टीमेटम
  6. नैनीताल की महिला जर्नलिस्ट ने आईपीएस पर लगाया यौन शोषण का आरोप, जांच टीम गठित
  7. मेरठ में मीडियाकर्मियों पर हमला, कई पत्रकार घायल
  8. मर्डर के एक मामले में इंदु शेखर पंचोली पर बड़ा अहसान किया था वकील भगवान सिंह चौहान ने
  9. क्या फारवर्ड प्रेस मैग्जीन में लड़कियों और पत्रकारों का शोषण होता है?
  10. लकड़हारा से भी बुरी है अखबार के रिपोर्टर की नौकरी
  11. भयादोहन के आरोपी पत्रकार रंजीत कुमार तथा सहदेव मंडल को जमानत मिली
  12. हिंदुस्‍तान के पत्रकार को सपा विधायक के भाई ने दी जान से मारने की धमकी
  13. चैनल 10 के पत्रकारों ने सुदीप्‍तो सेन और कुणाल घोष के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराया
  14. युवती का अश्‍लील एमएमएस बनाने वाला उर्दू अखबार का फोटोग्राफर अरेस्‍ट
  15. जो कर रहे हैं, आप लोगों और चैनल के भले के लिए ही कर रहे हैं
  16. शारदा समूह के खिलाफ ईडी ने भी दर्ज किया मामला
  17. भास्‍कर के दो पत्रकारों पर जानलेवा हमला करने वालों के खिलाफ मामला दर्ज
  18. राजकुमार सोनी की अर्जी पर राज्‍य सरकार और पत्रकार को नोटिस
  19. सुदीप्तो सेन को मतंग, मनोरंजना, नलिनी चिदंबरम समेत कुल 22 लोगों ने पैसा बनाने के लिए इस्तेमाल और ब्लैकमेल किया!
  20. चिटफंड घोटाला : मतंग सिंह, उनकी पत्नी मनोरंजना सिंह और सुदीप्तो सेन के बीच डील में नलिनी चिदंबरम वकील के तौर पर जुड़ी थीं
  21. उदय शंकर जैसे डायनेमिक लोग बहुत कम होते हैं : अजीत अंजुम
  22. चिटफंड घोटाला में नलिनी चिदंबरम का नाम क्यों नहीं ले रहा मीडिया? (देखें दस्तावेज)
  23. 'फाइनेंसियल टाइम्‍स' टाइटल विवाद : मिंट में प्रकाशित लेख पर बसीसीएल ने ठाकुरता को भेजा नोटिस
  24. सहारा क्यू शॉप मामला- एक नया शारदा मामला?
  25. वकील की हत्‍या में हिंदुस्‍तान टाइम्‍स का पत्रकार भी शक के घेरे में

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें