मंगलवार, 26 मार्च 2013

पत्रकारिता का कट्टु सच


no no & nvr ma ma ma
r
सम्मानित मित्रों इस कविता पर गौर फरमाए, विशेषकर हमारे पत्रकार साथी.. पत्रकारों के सम्बन्ध में आप क्या सोचते हैं.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें