शनिवार, 5 जनवरी 2013

अतीत की किन-किन बातों से उठा पर्दा



 सोमवार, 31 दिसंबर, 2012 को 20:51 IST तक के समाचार
बीबीसी ने पिछले बारह महीनों के दौरान सर्वाधिक महत्वपूर्ण पुरातात्विक घटनाओं का संकलन किया है.

जनवरी

साल की शुरुआत में खोजा गया कि पेरु के लोगों ने कम से कम 6500 साल पहले ही पॉपकॉर्न का स्वाद चख लिया था. पहले ये माना जाता था कि हजार साल पहले ही इसका स्वाद चखा गया था.
इसी महीने के आखिर में शोधकर्ताओं के एक दल ने इस बात की खोज की कि हज़ार साल पहले ग्रीनलैंड में बसे वाईकिंग्स ने जमा देने वाली सर्दी और बेहद कम तापमान के बावजूद खेती की और वे संभवत: अपने लिए बियर बना सकते थे.

फरवरी

इटली के आल्पस पर्वत श्रृंखला में मिले 5000 साल पुराने के एक 'आइसमैन' के शव का अध्ययन किया गया. ये शरीर ममी के रूप में था और इसका पूरा जीनोम मौजूद था.
इसके डीएनए का विश्लेषण किया गया ताकि उसके जीवन के बारे में और अधिक जाना जा सके. साथ ही शोधकर्ता लोगों के यूरोप में पलायन की प्रवृत्ति के बारे में भी जानना चाहते थे.

मार्च

2012 के इस तीसरे महीने में दक्षिण-पूर्वी इंग्लैंड में कैम्ब्रिज के पास सातवीं शताब्दी की एक कब्र की खोज की गई.
इसमें एक किशोर लड़की दफन थी, ये लड़की सजे-संवरे बिस्तर पर थी और उसके साथ एक गोल्डन-क्रॉस रखा हुआ था.
ये कब्र मूर्तिपूजा और ईसाई प्रतीकों की मिलाजुली अभिव्यक्ति है. इस कब्र में ईसाई प्रतीकों का इस्तेमाल किया गया था. ये आधुनिक ब्रिटेन के निर्माण के उस महत्वपूर्ण दौर की कहानी बयां करती है जो मूर्तिपूजा से ईसाई धर्म की ओर जाने का संक्रमण काल था.

अप्रैल

पुरातत्वविदों, इंजीनियरों और सशस्त्र नावों के विशेषज्ञों ने मिलकर ये पता लगाने की कोशिश की कि किस तरह से लोगों ने कांस्य युग में नौकाओं का निर्माण किया.
उन्होंने पुरातन काल के एक जहाज की एक प्रतिकृति बनाने के साथ अपना शोध शुरू किया. उन्होंने ये निष्कर्ष निकाला कि इन नौकाओं के जरिए यूरोप के बाकी हिस्सों के साथ व्यापार किया जाता था और इनसे टिन, तांबा और सोने का व्यापार किया जाता था.

मई

अमरीकी पुरातत्वविदों के एक दल ने प्राचीन माया सभ्यता से भी कहीं अधिक पुराना खगोलीय कैलेंडर खोज निकाला.
पुरातत्वविदों का कहना है कि ये कैलेंडर नौंवी सदी का है जिसे अमरीकी शोधकर्ताओं ने सल्टन के भग्नावशेषों से ढूढा है.
ये कैलेंडर ग्वाटेमाला की इस्तेमाल में न आने वाली एक इमारत की भीतरी दीवार पर चित्रित है.
इस खगोलीय सारणी में शुक्र, मंगल और चंद्र ग्रहण के चक्र शामिल हैं.
विशेषज्ञों के मुताबिक इस सारणी में अस्तित्व के कम से कम 7,000 सालों की गणना की गई है.

जून

इस महीने प्रकाशित एक पुस्तक में इस सिद्धांत पर सवाल उठाए गए कि ईस्टर द्वीप के लोगों ने अपने चारों ओर मौजूद जंगल नष्ट कर दिए. पुस्तक में उस विचार को भी खारिज कर दिया गया कि हज़ार मोआई मूर्तियों के चलते द्वीप के स्थानीय प्राकृतिक संसाधन और जगह बर्बाद हुए.
लेखकों ने जोर दिया कि किस तरह द्वीप पर रहने वाले एक ऐसे वातावरण में जीवित रहने में कामयाब रहे जो पूरी तरह अलग-थलग था.

जुलाई

ऑस्ट्रिया के शहर निकोल्सडोर्फ में एक मध्ययुगीन किले से कई नायाब चीजें मिली हैं. इनमें से सबसे ज्यादा दिलचस्पी उन महिला अंडरवियर्स को लेकर है जिन्हें दुनिया की सबसे पुरानी ब्रा बताया जा रहा है.
पुरातत्वविदों का मानना है कि जो चार महिला अंडरवियर किले से उन्हें मिले हैं, वो 15वीं सदी के मध्य के हो सकते हैं.
अहम बात ये है कि इन कपड़ों के मिलने के बाद ये आम धारणा बदल सकती है कि महिलाओं में ब्रा पहनने का चलन 18वीं सदी के आसपास शुरू हुआ था.
मध्यकालीन किले से मिले चार महिला अंतःवस्त्रों में से दो आज के दौर की बिकनी जैसे ही हैं.

अगस्त

वैज्ञानिकों ने एक घातक ज्वालामुखी विस्फोट के साक्ष्य जुटाए हैं. 750 साल पहले हुआ ये विस्फोट साल 1883 के कराकातोवा ज्वालामुखी के विस्फोट से आठ गुना बड़ा था. अब तक ये माना जाता था कि ये ही सहस्राब्दी का सबसे बड़ा विस्फोट था. ये ज्वालामुखी कहां था इस पर विवाद है, संभावित जगह में दक्षिण अमरीका का मेक्सिको, इक्वाडोर और एशिया का इंडोनेशिया शामिल है.
उस भीषणतम ज्वालामुखी के निशान आज भी तालाबों की तलछट से सेकर बर्ण की बेहद मोटी तहों तक हैं. दरअसल अगस्त में वैज्ञानिकों को लंदन में एक सामूहिक कब्र मिली.
जिसे देखकर वैज्ञानिकों को लगा कि ये 14 वीं सदी की हैं, लेकिन कार्बन डेटिंग से पता चला कि ये उससे एक सदी पहले की हैं. ये 1258 में हुए भीषणतम विस्फोट का पहला पुरातात्विक साक्ष्य है, पर सवाल ये है कि लंदन इसकी चपेट में कैसे आया.
दरअसल वो विस्फोट इतना बड़ा था कि उससे निकलने वाली सल्फर गैसों ने इतना गाढ़ा धुंआ फैला दिया कि सूरज की रौशनी पहुंचनी रुक गई. इसकी वजह से मौसम में बदलाव हुए और धरती की सतह ठंडी हो गई. इसके चलते ही पृथ्वी पर तबाही फैली.

सितम्बर

वैज्ञानिकों ने एक प्रागैतिहासिक काल का जबड़ा खोज निकाला है.
वैज्ञानिकों नें पाया कि इस जबड़े के एक दांत में मधुमक्खी का बनाया मोम भरा है.
ये दांत 24 से 30 साल के आदमी के पूर्वज का है जो 6500 साल पहले स्लोवेनिया में रहता था.

अक्टूबर

लंदन के यूनिवर्सिटी कॉलेज और चीन के सम्राट किन शि हुआंग की समाधि संग्रहालय के शोध से कुछ नई जानकारी सामने आई हैं.
इसमें कहा गया है कि 2000 साल पहले बनी टेराकोटा सेना के 7000 योद्धाओं, रथ और घोड़े के निर्माण के लिए विधिवत उत्पादन ईकाई की थी.
जून में और 100 योद्धाओं के मिलने के बाद इसके बारे में अध्ययन किया गया.
पारंपरिक तरीके की जगह , जहां प्रत्येक विशेष इकाई का उत्पादन एक विशेष घटक करता है, इस मामले में इन सैनिकों के निर्माण के लिए सचल कार्यशालाओं के साथ-साथ अत्याधिक कुशल कारीगर थे जो पूर्ण उत्पाद तैयार करते थे.

नवंबर

पश्चिमी ग्वाटेमाला के कुछ पुरातत्वविदों ने वहां 'माया सभ्यता' के समय की सबसे प्राचीन कब्र को ढूंढ निकालने का दावा किया है.
ऐसा माना जा रहा है कि ये कब्र लगभग दो हज़ार साल पुरानी है और किसी शासक या धार्मिक गुरु की है.
कब्र को देखकर ये भी अनुमान लगाया गया है कि इस व्यक्ति ने मध्य अमरीका में माया और ओलमेक सभ्यता के बीच संबंध स्थापित करने में पुल का काम किया हो.
इस कब्र की खोज करने वाले वैज्ञानिकों के अनुसार ग्वाटेमाला से 180 मील दूर दक्षिण में बसी 'तक-अलिक अब-अज' में पाई गई इस कब्र में किसी तरह की कोई हड्डी नहीं मिली क्योंकि वे टूटकर बिखर चुकीं थी.
लेकिन, उन्हें इस समाधि से कई तरह के प्राचीन आभूषण मिले, जिनमें एक गले का आभूषण भी था. इस नेकलेस में एक आदम आकृति बनी हुई थी जिसका सिर एक गिद्ध की तरह था.

दिसम्बर

साल के आखिरी महीने में लौह युग में बना कांसे का हेलमेट पाया गया. कार्बन डेटिंग के हिसाब से ये प्रथम शताब्दी ई.पू. का है. साथ ही हड्डियों से भरा बैग भी मिला है.
राख से भरे एक बैग का पहला उदाहरण है.
इससे इस बात की भी विस्तृत पड़ताल की जा सकती है कि कैसे ये हेलमेट ब्रिटिश नहीं है और रोमन आक्रमण के दौरान दक्षिण पूर्व इंग्लैंड में कैंटरबरी के निकट मिला.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें