गुरुवार, 27 दिसंबर 2012

जिंदगी के लिए जूझ रही है लड़की: अस्पताल



 शुक्रवार, 28 दिसंबर, 2012 को 11:41 IST तक के समाचार
प्रदर्शन
सिंगापुर के इस अस्पताल अंग प्रत्यारोपण की अत्याधुनिक सुविधाएं हैं
दिल्ली में सामूहिक बलात्कार की शिकार छात्रा इस वक्त घातक मस्तिष्क आघात के बाद सिंगापुर के अस्पताल में जिंदगी और मौत से संघर्ष कर रही है.
समाचार एजेंसी एएफपी ने माउंट एलिजाबेथ अस्पताल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी केल्विन लो के हवाले से खबर दी है, “मरीज़ इस वक्त बेहद कठिन परिस्थितियों से गुज़र रही है और ज़िंदगी के लिए संघर्ष कर रही है.”
उन्होंने बताया कि अस्पताल में विशेषज्ञों की टीम उस पर लगातार निगरानी रखे हुए है. उनके मुताबिक लड़की फेफड़ों और आँतों में संक्रमण के अलावा मस्तिष्क आघात से भी जूझ रही है.
बयान के अनुसार, "हमारी चिकित्सा टीम ने कल अस्पताल में आने के बाद उसकी जाँच की जिससे पता चला कि उसे जो दिल का दौरा पड़ा था उससे पहले ही उसके फेफड़ों और पेट में संक्रमण फैल गया था. इसके अलावा उसके मस्तिष्क में भी घातक आघात हुआ है."

सोनिया और मनमोहन

इस बीच, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने दिल्ली में सामूहिक बलात्कार की शिकार 23 वर्षीया लड़की के प्रति संवेदना जताते हुए दोषियों को जल्द से जल्द सज़ा दिलाने का आश्वासन दिया है.
"अस्पताल में विशेषज्ञों की टीम लड़की की स्थिति पर लगातार निगरानी रखे हुए है. इस समय वो फेफड़ों और आँतों में संक्रमण के अलावा मस्तिष्क आघात से भी जूझ रही है."
केल्विन लो, सीईओ, माउंट एलिजाबेथ अस्पताल, सिंगापुर
दिल्ली में कांग्रेस पार्टी की स्थापना के मौके पर आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान पत्रकारों से बातचीत में सोनिया गांधी ने कहा, "हम लोग पीड़ित लड़की की सलामती के लिए दुआ कर रहे हैं कि वो जल्दी ठीक हो जाए. दोषियों को किसी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा."
वहीं प्रधानमंत्री का कहना था, "सरकार भरोसा दिलाती है कि हम दोषियों को सजा दिलाकर रहेंगे. इस अपराध को लेकर हम देशवासियों के गुस्से को समझ सकते हैं. सरकार महिलाओं पर होने वाले अत्याचार के मामले में पहले ही जस्टिस वर्मा के नेतृत्व में एक समिति का गठन कर चुकी है."

सिंगापुर में

लड़की की हालत काफ़ी ज्यादा बिगड़ने के बाद उसे गुरुवार को ही सिंगापुर के माउंट एलिज़ाबेथ अस्पताल में भर्ती कराया गया था.
अस्पताल के सूत्रों के मुताबिक आइसीयू में लड़की का इलाज विशेषज्ञ डॉक्टरों की एक टीम कर रही है. सिंगापुर स्थित भारतीय उच्चायोग का कहना है कि उसकी तरफ से पीड़ित को हरसंभव मदद दी जाएगी.
लड़की को इलाज के लिए सिंगापुर भेजने का फैसला सरकार में उच्च स्तर पर किया गया था.
16 दिसंबर की रात को इस लड़की से चलती बस में सामूहिक बलात्कार किया गया और फिर बुरी तरह पीटा गया था.
उसका दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में इलाज चल रहा था. दिल्ली में इलाज के दौरान लड़की की हालत लगातार गंभीर बनी रही और उसे वेंटीलेटर पर रखा गया था.
"हम लोग को पीड़ित लड़की की सलामती के लिए दुआ कर रहे हैं कि वो जल्दी ठीक हो जाए. दोषियों को किसी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा."
सोनिया गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष
सिंगापुर का माउंट एलिजाबेथ अस्पताल जिसमें लड़की को भर्ती कराया गया है, अंग प्रत्यारोपण के क्षेत्र में अत्याधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित है.
पीड़ित लड़की के साथ सफदरजंग अस्पताल में क्रिटिकल केयर यूनिट (सीसीयू) के प्रमुख डॉक्टर यतीन गुप्ता और चार अन्य डॉक्टरों की एक टीम और लड़की के माता-पिता भी गए हैं.

प्रदर्शन

इस बीच पीड़ित लड़की को न्याय दिलाने की मांग को लेकर दिल्ली में कल भी लोगों ने प्रदर्शन किया. करीब पांच सौ लोगों ने निज़ामुद्दीन से इंडिया गेट तक मार्च कर रहे थे, लेकिन उन्हें रास्ते में ही रोक दिया गया.
वहीं, केंद्रीय गृह मंत्रालय ने बलात्कार दोषियों का एक डाटा बेस तैयार करने और उसे वेबसाइट पर डालने का निर्देश दिया है. नई दिल्ली में पत्रकारों से बात करते हुए केंद्रीय गृह राज्य मंत्री आरपीएन सिंह ने कहा कि सरकार फिलहाल इसकी शुरुआत दिल्ली से करेगी और इस डाटाबेस को दिल्ली पुलिस की वेबसाइट पर डाला जाएगा.
आरपीएन सिंह के मुताबिक उसके बाद ऐसा ही डाटाबेस दूसरे राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के लिए भी तैयार किया जाएगा.

इसे भी पढ़ें

संबंधित समाचार

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें