मंगलवार, 25 दिसंबर 2012

न्यूज़वीक का अंतिम अंक!


(  अलविदा न्यूजवीक एक शानदार परंपरा के खात्मे पर दुख के 
साथ अंतरराष्ट्रीय पत्रिका की मौत पर नमन)
मंगलवार, 25 दिसंबर, 2012 को 15:44 IST तक के समाचार

न्यूज़वीक के अंतिम अंक के कवर की तस्वीर
80 साल पुरानी अमरीकी समाचार पत्रिका न्यूज़वीक नए साल में नहीं दिखेगी.
पत्रिका का अंतिम प्रिंट संस्करण छप रहा है और इस साल के साथ ही न्यूज़वीक की विदाई भी हो जाएगी. हालांकि यह ऑनलाइन उपलब्ध होगी.
ट्विटर पर पत्रिका के अंतिम कवर की तस्वीर जारी की गई है. कवर पर ब्लैक एंड व्हाइट तस्वीर में मैनहट्टन स्थित पत्रिका के मुख्यालय की तस्वीर है, साथ में हेड लाइन है- लास्ट प्रिंट इश्यू.
लगातार हो रहे आर्थिक नुकसान के चलते न्यूज़वीक का प्रिंट संस्करण बंद हुआ है. नए साल में न्यूज़वीक ऑनलाइन और डिजिटल प्रकाशन के तौर पर पाठकों के सामने मौजूद होगा.
ये पत्रकारिता में उस बदलाव की ओर इशारा कर रहा है जिसके मुताबिक अब पाठक ऑनलाइन माध्यम का इस्तेमाल ज़्यादा कर रहे हैं.
पत्रिका की संपादक टिना ब्राउन ने इसे नई शुरुआत कहा है. उन्होंने कहा, “न्यूज़वीक कोई परंपरागत पत्रिका भर नहीं है. हमने जो बदलाव किए हैं आने वाले दिनों में हमारे प्रतिद्वंदी भी उसे अपनाने को मज़बूर होंगे.”

आर्थिक तंगी के चलते फ़ैसला

दो साल पहले जब न्यूज़वीड और द डेली बिस्ट का विलय हुआ तब से टिना ब्राउन ही न्यूज़वीक की संपादक हैं.
"न्यूज़वीक कोई परंपरागत पत्रिका भर नहीं है. हमने जो बदलाव किए हैं आने वाले दिनों में हमारे प्रतिद्वंदी भी उसे अपनाने को मज़बूर होंगे."
टिना ब्राउन, संपादक, न्यूज़वीक
न्यूज़वीक का पहला अंक 17 फरवरी, 1933 को प्रकाशित हुआ था.
न्यूज़वीक की गिनती हमेशा समाचार पत्रिका टाइम के बाद नंबर 2 पर ही हुई. हालांकि 1960 के दशक में नागरिक संगठनों के आंदोलनों को प्रमुखता देने के चलते न्यूज़वीक को ख़ासी मशहूरी मिली थी.
लेकिन न्यूज़वीक का प्रसार 30 लाख तक पहुंचा लेकिन हाल के दिनों में पाठकों की घटती संख्या और विज्ञापन से होने वाली घटती आमदनी के चलते पत्रिका की स्थिति बहुत अच्छी नहीं रह गई थी.
इसके प्रकाशक वाशिंगटन पोस्ट कंपनी ने 2010 में इसे कारोबारी प्रकाशक सिडनी हरमन के हाथों महज एक डॉलर में बेच दिया था. इसके तीन महीने बाद इसका दे डेली बिस्ट में विलय हो गया था.
माना जा रहा है कि न्यूज़वीक के डिजिटल होने से प्रिंटिंग, पोस्टेज और प्रसार पर होने वाला ख़र्च कम होगा और न्यूज़वीक के कई कर्मचारियों की नौकरी भी जा सकती है.

इसे भी पढ़ें

संबंधित समाचार

अब नहीं छपेगी 'न्यूज़वीक'
19.10.12

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें