शुक्रवार, 28 दिसंबर 2012

बाबरी विध्वंस के 20 साल


 गुरुवार, 6 दिसंबर, 2012 को 12:50 IST तक के समाचार
फिलहाल कोई भी पक्ष विवादित स्थान पर पहले की तरह जबरन कब्जे का अभियान नही चला रहा है. देश में लगभग आम सहमति है कि अदालत ही इसके स्वामित्व का फैसला करे. लेकिन फैसला कब आएगा, यह बात शायद अदालत को भी मालूम नही.
बाबरी मस्जिद तोड़े जाने ने समाज में ऐसी दरार पैदा की जिसे भरना मस्जिद को दोबारा तामीर करने से ज्यादा मुश्किल हो गया. यह दरार ऊपर नहीं दिखती लेकिन अंदरूनी घाव की तरह है.
अयोध्या विवाद भारत के हिंदू और मुस्लिम समुदाय के बीच तनाव का एक प्रमुख मुद्दा रहा है और देश की राजनीति को एक लंबे अरसे से प्रभावित करता रहा है. जानिए अयोध्या में कैसे घूमा समय का पहिया बीती पाँच सदियों में.
बाबरी मस्जिद गिराए जाने के बाद मुंबई में भड़के दंगो की जाँच रिपोर्ट तैयार करने वाले जस्टिस श्रीकृष्ण ने दो वर्ष पहले बीबीसी के साथ अपने अनुभव बांटे थे. वे कहते हैं कि पढ़े-लिखे लोग भी दूसरी कौम को सबक सिखाने के पक्ष में थे.
इतिहास के बहुत से भ्रमों में से एक यह भी है कि महमूद ग़ज़नवी लौट गया था. लौटा नहीं था वह,

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें