बुधवार, 12 सितंबर 2012

डेली" // दुनिया का पहला आईपैड अखबार डेली"


Print PDF
ipad-newsक्या परम्परागत अखबारों का जमाना समाप्त हो रहा है? भारत के परिदृश्य मे सोचें तो यह सही नहीं है, क्योंकि देश में समाचारपत्रों के पाठक बढ रहे हैं. परंतु अमेरिका के संदर्भ में यह बात सही है क्योंकि वहाँ परम्परागत समाचारपत्रों और पत्रिकाओं की पाठकसंख्या में तेजी से कमी आ रही है और लोग इंटरनेट आधारित समाचार माध्यमों को प्राथमिकता दे रहे हैं.

इस बात को सबसे पहले महसूस करने वाले लोगों में न्यूज़कोर्प के रूपर्ड मर्डोक शामिल हैं. रूपर्ड मर्डोक अब एपल के पैड पीसी यानी आईपैड के लिए अखबार निकालने की योजना बना रहे हैं. "द डेली" नामक यह समाचारपत्र अगले वर्ष की शुरूआत तक शुरू होगा. इसके लिए 100 लोगों का दल बनाया गया है.

रूपर्ड मर्डोक ने फोक्स न्यूज़ को बताया कि द डेली का प्रिंट संस्करण नहीं होगा और यह केवल आईपैड के लिए उपलब्ध होगा. यह समाचारपत्र अन्य ओनलाइन समाचार साइटों से अलग होगा. ओनलाइन समाचार साइटें लगातार अपडेट होती रहती हैं और उनमें समीक्षाओं और विश्लेषण का अभाव होता है. परंतु द डेली लगातार अपडेट नहीं होगा और उसका मुख्य संस्करण केवल देर रात जारी किया जाएगा, ठीक उसी तरह से जिस तरह से प्रिंट समाचारपत्र निकलते हैं.

इससे पाठक सुबह उठकर अपने आईपैड पर द डेली का नया संस्करण पढ पाएंगे. यह समाचारपत्र सशुल्क होगा और इसके लिए एक विशेष अप्लिकेशन डाउनलोड करनी होगी. रूपर्ड मर्डोक का मानना है कि लोग इसके लिए शुल्क चुकाने के लिए तैयार हो जाएंगे क्योंकि एक तो यह सुविधाजनक होगा और इसकी कीमत भी प्रिंट समाचारपत्रों से कम होगी.

परंतु इसके लिए प्रयोक्ता के पास आईपैड होना आवश्यक होगा.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें