शनिवार, 31 मार्च 2012

पत्रकारिता नए युग का प्रारंभ / ओशो रजनीश




Anirudh joshi द्वारा 23 जुलाई, 2008 8:05:00 PM IST पर पोस्टेड #

ओशो रजनीश

यह देश दो हजार वर्षों तक गुलामी में रहा है। इस कारण लोगों में आध्यात्मिक गुलामी पैदा हो गई है। यद्यपि राजनीतिक दृष्टि से हम स्वतंत्र हैं लेकिन मानसिक रूप से हम सभी अभी भी गुलाम हैं।

पत्रकारिता पश्चिम की पैदाइश है और वहां जो भी होता रहता है, उसकी हम नकल करते रहते हैं, वह हमारा अपना निर्माण नहीं है। पश्चिम आध्यात्मक में विश्वास नहीं करता। इस वजह से वह तीव्र संताप और तनाव में जी रहा है। वहां आत्महत्या की दर पूरब से चार गुना ज्यादा है। लोग भूख के कारण, भोजन के अभाव के कारण आत्महत्या करते हैं। तुम्हें उन पर करुणा करनी चाहिए, पश्चिम में लोग इसलिए आत्महत्या करते हैं क्योंकि उनके पास सब कुछ है और जीवन निरर्थक मालूम पडता है। उनके पास भरपूर धन है, वह सब है जो धन खरीद सकता है, लेकिन कुछ ऐसी भी बातें हैं जिन्हें धन नहीं खरीद सकता। वे मौन नहीं खरीद सकते, वे आनन्द नहीं खरीद सकते, वे प्ेम नहीं खरीद सकते, ध्यान नहीं खरीद सकते।

पत्रकारिता पश्चिम की देन है। तुम अभी भी उस चीज की नकल कर रहे हो, जो तुम्हारी संस्कृति में विकसित नहीं हुआ है, तुम्हारे वातावरण में नहीं पला है, जो इस मिट्टी का अंश नहीं है, यहां नहीं खिला है, तो तुम एक प्लास्टिक के फूल को हाथ में लिए हो। उसकी कोई जड़ें नहीं है।

पश्चिम में समाचार माध्यम को आध्यात्मिकता में कोई रस नहीं है क्योंकि पश्चिम में एक भी व्यक्ति का आध्यात्म में रस नहीं है। इस कारण वे दु:ख पा रहे है। कितने ही लोग मनोविश्लेषण करवा रहे हैं। कितने ही लोग मनोचिकित्सा के रुग्णालयों में हैं। कितने ही लोग पागल हो रहे हैं, आत्महत्या कर रहे हैं, खून कर रहे हैं। वे ये सब बातें इसलिए कर रहे हैं क्योंकि उन्हें जीवन अर्थहीन लगता है, व्यर्थ लगता है।

तुम पूछ रही हो, हमारी पत्रकारिता के प्रशिक्षण कोर्स में आध्यात्मिक विकास,आध्यात्मिक आयाम बिलकुल ही अपेक्षित रह जाता है। क्योंकि तुम पत्रकारिता को इस मिट्टी में विकसित नहीं कर रहे हो, उसमें इस मिट्टी की सुगन्ध नहीं है। तुम सिर्फ नकल कर रहे हो।

और तुम इस समाज को भयंकर नुकसान पहुँचा रहे हो। क्योंकि यहां आध्यात्म सबसे मूलभूत बात है। लेकिन तुम्हारी शिक्षा प्णाली के साथ भी वही हो रहा है। तुम्हारे विद्यालय हर कहीं पश्चिम की मानसिक दासता है। पश्चिम में जो भी हो रहा है उसकी नकल करनी है। वह तुम्हारी अचेतन आदत बन गई है। पत्रकारिता को अपना ढंग खुद खोजना होगा। अपनी निजता खुद विकसित करनी होगी। उसी तरह शिक्षा को भी अपनी वैक्तिकता विकसित करनी होगी।

आध्यात्मिकता जीवन का सारभूत अर्थ है। आत्मा के बिना आदमी सिर्फ एक शव है और आध्यात्मिकता के बिना कुछ भी शिक्षा, पत्रकारिता सिर्फ शव है। उससे दुर्गन्ध आती है। तुम्हारी राजनीति पश्चिम की नकल है इसलिए चालीस साल की आजादी के बाद कुछ भी बदला हुआ नहीं लगता। वही नौकरशाही-वह तो और भी बदतर हो गई है। क्योंकि नकल असल से बेहतर नहीं हो सकती है।

तुम्हारी शिक्षा सिर्फ एक नकल है। मैं विश्वविद्यालय में शिक्षक रहा हूँ। मुझे विश्वविद्यालय से निरंतर लड़ना पड़ा है। वे विश्वविद्यालय के कोर्स में योग या ध्यान को सम्मिलित करने को तैयार नहीं थे, लेकिन इस बात पर गर्व करते हैं कि यह गौतम बुध्द की, महावीर की, बौध्द धर्म और पंतजली की, कबीर और नानक की भूमि है। वे बड़ा सीना तानकर बोलते रहते हैं, लेकिन उन्हें दिखाई नहीं देता कि वे क्या कर रहे हैं। उनकी पत्रकारिता में, उनकी शिक्षा में, उनकी राजनीति में कबीर, नानक, पतंजलि या बुध्द का कोई चिन्ह नहीं है। वे लोग पश्चिमी चिन्तकों से प्भावित हैं।

राजनीतिक दृष्टि से तुम स्वतंत्र हो लेकिन मानसिक रूप से बिलकुल स्वतंत्र नहीं हो। पत्रकारिता को स्वयं को पश्चिम से मुक्त करना है और फिर अपने को एक प्रामाणिक मौलिक आकार देना है। तुम आश्चर्यचकित होओगे कि यदि तुमने पत्रकारिता को आध्यात्मिक आयाम दिया तो आज नहीं कल, पश्चिम तुम्हारा अनुसरण करेगा। क्योंकि वहाँ तीव्र भूख है, गहन प्यास है। दूसरों की नकल करने की बजाय तुम मौलिक क्यों नहीं हो सकते और दूसरों को तुम्हारी नकल क्यों नहीं करने देते? ऐसा हुआ तो पहली बार इस देश में स्वतंत्रता के कुछ फूल खिलेंगे।

और आध्यात्मिकता किसी प्कार की धर्मान्धता नहीं है। आध्यात्मिकता का यह अर्थ नहीं है कि तुम्हें धर्म का प्चार करना है या जैन धर्म का प्रचार करना है या इस्लाम का प्रचार करना है। आध्यात्मिकता का अर्थ इतना ही है कि तुम्हें सब धर्मों के मूलभूत तत्वों का प्सार करना है, जो कि समान हैं।

क्या प्रेम हिन्दू या मुसलमान हो सकता है? क्या शांत चित्त हिन्दू या बौध्द हो सकता है? क्या करुणापूर्ण व्यक्ति को ईसाई या यहूदी होना जरूरी है?

प्रामाणिक आध्यात्मिकता के कोई विशेषण नहीं होंगे। यह सभी धर्मों के सिर्फ सार तत्वों की शिक्षा होगी। पत्रकारिता को अपनी सूची में उसको प्थम स्थान देना चाहिए, वह पहले नम्बर पर होना चाहिए। राजनीति आखिरी नम्बर पर। लेकिन दुर्भाग्य से राजनीति का प्रथम क्रमांक है और आध्यात्म का अन्तिम भी नहीं है।

तुम लगातार गुलामी में कैसे रहते हो, यह मेरी समझ के बाहर है। क्या अब समय नहीं आ गया है कि हम पश्चिम से मुक्त हो जाएं-हमारी अपनी शिक्षा हो, हमारी अपनी पत्रकारिता हो, हमारी अपनी सुगन्ध हो और हमारा अपना अर्थ हो।

समय आ गया है। पत्रकारिता एक नये युग का आरम्भ बन सकती है। राजनीति को जितने पीछे ढकेलो- तुम्हारे अखबार के बिल्कुल अंतिम पृष्ठ पर। राजनीति हमारी आत्मा नहीं है। वह सबसे गंदा खेल है, जिसका तुम लोगों में प्रसार कर रहे हो। राजनीतिक को इस बात का स्पष्ट अहसास दिलाना अत्यन्त आवश्यक है कि उसके पास कोई प्रज्ञा नहीं है कि उसे देश की नियति का नियंता नहीं बनना है और वह सिर्फ जनता का सेवक है। उसकी भूमिका सिर्फ कामकाज की है।

पोस्टमास्टर जनरल कौन हो? इसके लिए तुम बहुत शोरगुल नहीं मचाते। उसकी भूमिका सिर्फ कामकाज के लिए है। रेलवे विभाग का प्मुख कौन हो, इसके लिए बहुत माथापच्ची नहीं करते। उसकी क्या जरूरत है? वह अपना काम कर रहा है, उसे उसका वेतन मिल रहा है, बात खत्म हुई। तुम राजनीतिज्ञों की ओर इतना ध्यान क्यों देते हो? तुम्हारी पचास प्रतिशत से भी अधिक ऊर्जा उन पर व्यय होती है, जिनकी राजनीतिक आयु केवल चार साल की है। कल वे विस्मृत हो जाएंगे।

वे ठीक तुम्हारे अखबारों जैसा है। कल का अखबार उतना ही कचरा होता है, जितना तुम्हारा कल की राजनीति।

लेकिन इन क्षणाजीवी बातों को इतना महत्व क्यों देना? आध्यात्म का अर्थ है ऐसी बातों को महत्व देना, जिनका चिरस्थायी मूल्य है, जो जीवन को सदा मार्गदर्शन और प्रकाश दे सकते हैं, जो सनातन है, शाश्वत है। शाश्वत मूल्य आध्यात्मिकता का अंग है, क्षणिक मूल्य राजनीति का अंग है। राजनीति और आध्यात्म दो विपरीत ध्रुव हैं।

राजनीति देश के कोने-कोने में धर्म को दबाने की कोशिश कर रही है। राजनीतिज्ञों को एकमात्र खतरा है धर्मों से, क्योंकि धर्म के कारण ही लोगों में अधिक प्रज्ञा जाग सकती है।

उदाहरण के लिए मैं किसी भी समस्या को इतनी बड़ी नहीं मानता कि देश उससे संघर्ष करता रहे और उसे सुलझा न पाए। दस साल के भीतर उस देश की सब समस्याएं सुलझाई जा सकती है। लेकिन राजनीतिज्ञ समस्याओं को सुलझाना नहीं चाहते है, वे उन्हें पैदा करना चाहते है। वस्तुत: उनकी जिन्दगी ही इन समस्याओं पर निर्भर करती है।

एडोल्फ हिटलर ने अपनी आत्मकथा में एक बड़ा अर्थपूर्ण वक्तव्य दिया है। अगर राजनीतिज्ञ को महान राजनीतिज्ञ बनना है, जनता का महान नेता बनना है तो वह इस बात की फिक्र करे कि राज्य में शांति कभी न हो। उसे हमेशा कुछ न कुछ उपद्रव पैदा करना चाहिए, वह लोगों में भय पैदा करे, उन्हें असुरक्षित चिंतित और उद्विग्न बनाये रखे। वह लोगों को हमेशा इस स्थिति में रखे कि उन्हें उसकी जरूरत हो। वह पड़ोसी राष्ट्रों से सदा दुश्मनी पैदा करे-वास्तविक या काल्पनिक। लेकिन सीमा के पार सदा से दुश्मन हो। और जैसे ही तुम्हे गता है कि नेतृत्व कमजोर हो रहा है, युध्द पैदा करो क्योंकि युध्द काल में ही महान नेता पैदा होते हैं।

वह ठीक कह रहा है। इसका निष्कर्ष क्या निकलता है? निष्कर्ष यह निकलता है कि राजनीतिज्ञ को समस्याएं सुलझाने में कोई रस नहीं है, वह उन्हें यथासंभव जटिल बनाने में लगा रहता है। इसलिए उसका होना अत्यन्त आवश्यक हो जाता है। तुम्हें सदा उसकी जरूरत होती है। वह तुम्हें सदा दुश्मनों से डराता रहता है-चीन-पाकिस्तान। वे अणु-बम इकट्ठे कर रहे हैं, आणविक शस्त्रास्त्र इकट्ठे कर रहे हैं तो तुम्हें अपने नेताओं की जरूरत होती है फिर वे दो कौड़ी के क्यों न हों। युध्दकाल में जो सत्ता में होता है उसका पूरा समर्थन करना चाहिए क्योंकि वह संकट की स्थिति है। चालाक राजनीतिज्ञ हर देश को हमेशा संकट में बनाए रखता है।

पत्रकारिता में बड़ी से बड़ी क्रांति जो होगी वह है अगर वह इस देश में एक अलग किस्म की पत्रकारिता पैदा कर सके, जो राजनीति के द्वारा नियंत्रित न हो, लेकिन देश के प्रज्ञावान लोगों द्वारा प्रेरित हो। तुम इसे बिल्कुल सुनिश्चित रूप से जान लो कि किसी भी देश के प्रज्ञावान लोग चुनाव नहीं लड़ेंगे। वे जनता से वोट नहीं मांगेंगे तो प्रज्ञावान लोग, उनके स्वभाव के कारण ही, सत्ता से बाहर रहेंगे।

पत्रकारिता का यह एक मूलभूत कार्य रहेगा कि जनता के सामने प्रज्ञावान लोगों को और उनकी प्रज्ञा को प्कट करें।

राजनीति पर अधिक ध्यान मत दो। वह खतरनाक है। उनकी जितनी हो सके, उतनी उपेक्षा करो। उन पर तभी ध्यान देना चाहिए जब वे प्रामाणिक रूप से कुछ शुभ कार्य करें।

स्वस्थ पत्रकारिता से मेरा मतलब है ऐसी पत्रकारिता जो मनुष्य के पूरे व्यक्तित्व का पोषण करे-उसका शरीर, उसका मन, उसकी आत्मा, ऐसी पत्रकारिता जो बेहतर मनुष्यता को निर्मित करने में संलग् है। सिर्फ घटनाओं के वृतान्त नहीं इकट्ठे करती। पत्रकारिता सिर्फ एक समाचार माध्यम न हो, वह एक अच्छा साहित्य भी होना चाहिए, तभी वह स्वस्थ है। आज भी उसे पढ़ा जा सके । वह इतना क्षणजीवी न रहे। लेकिन तुम सिर्फ एक समाचार माध्यम ही रहे, तो फिर स्वभावत: वह दिन बीत गया कि समाचार पुराना हो जायेगा। तुम्हें ऐसी चीज निर्मित करना चाहिए जो कभी पुरानी नहीं होती, सदा नई रहती है।

महान साहित्य का यही अर्थ है। दोस्तोवस्की के उपन्यास या लियो टालस्टाय, एन्टन चैखव, तुर्गनेव या रवीन्द्रनाथ टैगोर के उपन्यास, ये तब तक अर्थपूर्ण रहेंगे, जब तक मनुष्यता रहेगी और सदा ताजा बने रहेंगे। तुम्हारी पत्रकारिता में कुछ वैसी गुणवत्ता होनी चाहिए। वह गुणवत्ता लाई जा सकती है। तुम समाचार को स्थान दे सकते हो, लेकिन वह गौण होना चाहिए। क्योंकि वे समाचार-वृत्तान्त आखिर है क्या? उनसे क्या होने वाला है? कोई चोरी करता है उसका समाचार छापने में क्या सार है? उसे व्यर्थ ही क्यों खबर बनाना? तुम अपने पन्ने बिल्कुल ही गैर जरूरी बातों से भर रहे हो।

आवश्यक बात को जगह दो। तुम्हारे पास कवि हैं, चित्रकार हैं, लेखक हैं, आध्यात्मिक महामानव हैं, तुम उन सबको ला सकते हो। राजनीति तीसरे पृष्ष्ठ पर हो या चौथे पृष्ठ पर या शायद किसी भी पृष्ठ पर नहीं। तुमने इन राजनीतिज्ञों को इतना बडा बना दिया है, उनके बारे में इतनी अतिश्योक्ति कर दी है कि उसकी वजह से पूरे देश को परेशानी उठानी पड़ती है। पूरी दुनिया इन लोगों से परेशान है। उसकी जिम्मेदारी तुम्हें अपने सिर पर उठानी पड़ेगी। इन लोगों के गुब्बारे में जो हवा भरी है उसे निकालना होगा, उनका सही स्थान उन्हें दिखाना होगा। कोई व्यक्ति देश का राष्ट्रपति होगा, वह कोई बहुत बड़ी बात नहीं है। सवाल यह है कि वह एक अच्छा राष्ट्रपति है या नहीं, उसकी गुणवत्ता का सवाल है।

जब अब्राहम लिंकन राष्ट्रपति हुए, तब ऐसी घटना घटी। सीनेट के पहले दिन.... वहां का अभिजात्य वर्ग बहुत नाराज था, उनके अहंकार को ठेस लगी थी क्योंकि वह रईस खानदान से नहीं था। वह चमार का बेटा था। उनमें से एक रईसजादे से नहीं रह गया। वह खडा होकर बोला, ''श्रीमान लिंकन, इससे पहले कि आप अपना भाषण शुरू करें-वह उद्धाटन का भाषण था-मैं आपको याद दिलाना चाहूंगा कि आप एक चमार के बेटे हैं।''

पूरासीनेट तालियाँ बजाने लगा और हंसने लगा। वे अब्राहिम लिंकन का अपमान करना चाहते थे। लेकिन तुम उसके जैसे आदमी का अपमान नहीं कर सकते। वह शांति से खड़ा हुआ और जब सब शोरगुल खत्म हुआ तब उसने कहा, ''मैं आपके प्रति अनुग्रहीत हूं कि आपने मुझे मेरे महान पिताजी की याद दिलाई। मैं अपनी कमियां, अपनी कमजोरियां जानता हूं। वे जितने बड़े चमार थे, उतना बड़ा राष्ट्रपति मैं कभी नहीं हो पाऊंगा। मैं उनकी तुलना में कुछ भी नहीं हूं। मेरे पिताजी एक महान कलाकार थे। मैं यथासम्भव पूरी कोशिश करूंगा, लेकिन मैं जानता हूं, मैं उनसे श्रेष्ठतर नहीं हो पाऊंगा।''

पूरा सीनेट सन्नाटे में आ गया। लेकिन उन्होंने एक बात जान ली कि इस आदमी को तुम अपमानित नहीं कर सकते।


जिस आदमी ने यह सवाल पूछा था उससे उसने कहा, ''आपको उनकी याद कैसे आई? क्योंकि मुझे अच्छी तरह याद है कि मेरे पिताजी आपके घर भी जाया करते थे। क्या आपने मेरे पिताजी के द्वारा बनाए हुए जूते पहन रखे हैं? क्या वे काट रहे हैं? मैं भी कुछ जानता हूँ, मैं उन्हें ठीक कर सकता हूँ। मैं बहुत बड़ा कलाकार नहीं हूं, लेकिन मेरे पिताजी के साथ काम करते-करते मैं थोड़ा-बहुत सीख गया हूं। तो आप लोगों में से किसी के भी जूते में कोई तकलीफ हो तो आप कभी भी मेरे पास आ सकते हैं।'' राष्ट्रपति केवल राष्ट्रपति होने से बड़ा नहीं हो जाता, उनकी गुणवत्ता क्या है... गुणवत्ता के सम्बन्ध में बात करो, व्यक्ति के सम्बन्ध में नहीं। प्रधानमंत्री सिर्फ प्रधानमंत्री होने से कुछ नहीं होता, उसके गुणों की चर्चा करो-उसने देश के लिए क्या किया है, वह क्या कर रहा है, उसे यह करने के लिए प्ेरित करो। दिन बीतते जाते हैं ... इन सालों को गुजरते हुए मैं दैख रहा हूं। मेरा पूरा परिवार आजादी की लडाई में संलग् था। सब लोग कारावास में थे। हम बच्चों ने बहुत कष्ट उठाए। बचपन में मैं अपने पिताजी से पूछता था, ''क्या आपको भरोसा है कि जिस आजादी के लिए आप लड़ रहे हैं, वह कभी आएगी? हो सकता है कि अंग्रेज यह देश छोड़ दें लेकिन उनकी जगह जो आएंगे क्या वे उनसे बेहतर होंगे? मैं समझ सकता हूँ कि आप गुलामी के खिलाफ लड रहे हैं, लेकिन मैं नहीं सोचता कि आपको यह बात साफ है कि आप आजादी के लिए लड़ रहे हैं। आपके पास कोई विधायक कार्यक्रम नहीं है।''

भारत का पूरा स्वतन्त्रता आन्दोलन बिना विधायक कार्यक्रम के हो रहा था। इसका परिणाम यह है कि चालीस साल बीत गए और देश नीचे से नीचे गिर रहा है।

तीस साल पहले, जब मैंने बोलना शुरू किया, इस देश की आबादी 40 करोड़ थी। मैं संतति निरोध के पक्ष में बोल रहा था। मुझे पत्थर मारे गए, मेरी सभा को अस्त-व्यस्त कर दिया गया। अगली दफा जब मैं उस शहर गया तो मुझे रेलगाड़ी से नीचे उतरने नहीं दिया गया। दो सौ कट्टर हिन्दू प्लेटफार्म पर खडे थे, वे मुझे नीचे उतरने नहीं दे रहे थे। देश की आबादी नब्बे करोड़ हो गई है। इस सदी के अंत तक वह एक अरब पार कर चुकी होगी। इतिहास में पहली बार भारत-चीन से आगे होगा। अब तक चीन सबसे मूढ़ देश था, अब भारत उससे आगे होगा। चीन अपनी आबादी को रोकने में सफल हो गया है। लेकिन तुम्हारे राजनीतिज्ञों में हिम्मत नहीं है, वे लोगों से सच कहने से डरते हैं क्योंकि उन्हें अपने वोटों से मतलब है। पत्रकारों को किसी से डरने की जरूरत नहीं है। तुम तो किसी के वोटों पर निर्भर नहीं हो। तुम्हें लोगों के सामने सत्य को प्रकट करना चाहिए- तुम बच्चे पैदा कर रहे हो लेकिन वस्तुत: तुम मौत को जन्म दे रहे हो। इस सदी के अंत तक आधा देश- इसका मतलब 50 करोड़ लोग भूख से मर जाएंगे, दो में से एक आदमी। तुम लाशों से घिर जाओगे। तुम्हारे राजनीतिज्ञ इस सम्बन्ध में क्या कर रहे हैं? अगर मैं संतति निरोध के साधनों के पक्ष में बोलता हूँ तो शंकराचार्य मेरी निन्दा करते हैं राजनीतिज्ञ मेरे प्रवासों को नष्ट करने की कोशिश करते हैं क्योंकि यह बात लोगों के धार्मिक अन्धविश्वासों के खिलाफ जाती है।

किसी राजनीतिक के पास, मेरे पास आकर मुझसे मिलने का साहस भी नहीं है। इंदिरा ने पूछा था... छह दफा उसने मुलाकात के लिए समय लिया था और सिर्फ एक दिन पहले वह उसे रद्द कर देती। अंतत: मैंने अपनी सचिव को उसके पास भेजा, ''यह क्या पागलपन है? आपको आना हो तो आ जाइए और हीं आना हो तो आपको कोई निमंत्रण नहीं दे रहा है। आप ही पूछ रही थी।'' तब मेरी सचिव से कहा, ''मेरे सहयोगी मुझे रोकते हैं। वे कहते हैं, मैं वहां गई तो इससे मेरे राजनीतिक भविष्य को खतरा पैदा होगा।'' क्योंकि मेरे पास कोई वोट नहीं है। सब शंकराचार्य, इमाम और बिशप अपने वोट वापिस ले लेंगे, यदि वे देखते हैं कि एक राजनीतिक मेरे पास आ रहा है। यह बड़े आश्चर्य की बात है कि उनमें से कोई भी तर्क नहीं कर सकता। मैं उनको चुनौती देता रहा हूं कि मैं किसी के भी साथ किसी भी विषय पर सार्वजनिक विवाद के लिए तैयार हूं। ये कायर... इनमें से कोई भी खड़ा नहीं होता।

जो लोग उन कारणों के लिए लड़ रहे हैं जो लोकप्रिय नहीं हैं, उन्हें जनता के सामने लाना पत्रकारों का कर्तव्य है। क्योंकि ये अप्रिय कारण अतीत है, इसकी सड़ी-गली धरोहर है। राजनीतिज्ञों के पास वह साहस नहीं हो सकता लेकिन पत्रकार के पास हो सकता है और होना चाहिए। मैं यह कह रहा हूं कि सिर्फ नकारात्मक समाचार पर निर्भर मत रहो। विधायक को उसकी पूरी सुन्दरता में प्रकट करो और नकारात्मकता को पृष्ठ भूमि में रखो। उस पर तुम्हारा ध्यान केन्दि्त न हो। मैं यह नहीं चाहता कि तुम सिर्फ विधायक होओ, मैं चाहता हूँ कि तुम यथार्थवादी होओ। माना कि नकारात्मकता जीवन का हिस्सा है, लेकिन इसका यह मतलब नहीं है कि तुम्हें अपनी श्मशान भूमि बीच बाजार में बनानी चाहिए। तुम अपनी श्मशान भूमि शहर के बाहर बनाते हो, जहां तुम सिर्फ एक बार जाते हो और फिर वापस नहीं लौटते। तुम उसे बीच बाजार में क्यों नहीं बनाते ताकि आने-जाने वाला राहगीर रोज उसे देख सके कि लोग जलाए जा रहे हैं।

वह जीवन का हिस्सा है, इसलिए कभी-कभार तुम अंतिम संस्कार की चर्चा कर सकते हो। लेकिन उस पर ध्यान केन्द्रित मत करो। मृत्यु सुनिश्चित है लेकिन जीवन अधिक महत्वपूर्ण है। जीवन की चर्चा करो, जीवन को उत्सव बनाओ। लोगों को मृत्यु से अत्यधिक भयभीत मत करो। नकारात्मकता की मानसिकता को कुंठा मत बनाओ, यह मेरे कहने का मतलब है। मैं यह नहीं कह रहा हूं कि माध्यम सिर्फ विधायक समाचार पर जिंदा रह सकता है। वह गलत होगा, वह अधूरा होगा। नकारात्मक को प्रकट करना ही है, लेकिन उस पर जोर नहीं दिया जाना चाहिए। उसकी निंदा की जानी चाहिए। विधायक को सहारा देना चाहिए और नकारात्मक की निंदा की जानी चाहिए।

उस भांति तुम सिर्फ विधायक पर रोशनी नहीं डालोगे, तुम दोनों को प्रकट करोगे। लेकिन नकारात्मक पहलू कुरूप होता है। तुम जानते हो कि जीवन में हम नकारात्मक को रास्ते से हटा देते हैं और विधायक को सामने ले आते हैं। यही स्वस्थ पत्रकारिता का रूख होना चाहिए, विधायकता लक्ष्य होना चाहिए, नकारात्मकता उस मंजिल तक पहुंचाने वाली सीढ़ी होनी चाहिए। लेकिन उस पर जोर नहीं दिया जाना चाहिए क्योंकि उससे लोगों के मन में यह ख्याल पैदा हो जाता है कि जीवन सिर्फ इतना ही है। यह आत्मा का बड़ा खतरनाक कैंसर है। मैं सत्य को वैसा ही प्रकट करता हूं, जैसा देखता हूं-फिर मैं न्यस्त स्वार्थों की परवाह नहीं करता। उसके कोई भी परिणाम हों, मैं उन परिणामों को पुरस्कार समझकर स्वीकार करता हूं। जीवन के संबंध में मेरे मन में कोई पश्चाताप नहीं है, मैंने उसे वैसा ही जीया है, जैसा चाहा है। पूरी दुनिया मेरे खिलाफ क्यों न हो, मैंने कभी समझौता नहीं किया। तुम इसे मेरा रहस्य कह सकते हो। मैं समझौतावादी आदमी हूं। या तो मैं सही हूं या गलत हूं। मैं अपने सत्य के लिए जी-जान से लड़ता हूं। अपने सत्य के लिए लड़ता हुआ मैं पूरी दुनिया में घूमा हूं। इसे देखने में बड़ा मजा आता है कि एक अकेला आदमी पूरी दुनिया को अपना दुश्मन बना सकता है। अमेरिका, जर्मनी, इंग्लैंड और ग्रीस जैसे ताकतवर देश भी बौखला जाते हैं, उनके पास कोई जवाब नहीं होता। मुझे इक्कीस देशों में प्रवेश करने के लिए प्रतिबंधित किया गया है। क्योंकि उन्हें डर है कि मैं तीन हफ्ते के लिए उनके देश में प्रवेश करूं तो मैं उनके धर्म को, उनकी नीति और परंपरा को नष्ट कर दूंगा। मैं उनसे पूछता रहा हूं ''जिस धर्म को दो हजार साल पूर्व स्थापित किया गया हो, क्या वह इतना कमजोर है कि तीन हफ्ते में ही उसे नष्ट किया जा सकता है? यदि तुम्हारी नीति इतनी लचर है कि तीन हफ्ते के पर्यटक वीसा पर आया हुआ एक यात्री उसे गिरा दे तो फिर वह गिराने जैसा ही है। मैं जाऊं या न जाऊं, तुम स्वयं यह काम कर दो।''


तुम्हें जानकर आश्चर्य होगा कि जर्मनी जैसे देशों ने उनके संसद में कानून बनाया है कि मैं उनके देशों में प्रवेश नहीं कर सकता। मैंने कभी उनके देशों में प्रवेश नहीं किया है। न ही मैंने कभी कहा है कि मुझे तुम्हारे देश में प्रवेश करना है। यह खबर सिर्फ काल्पनिक है। लेकिन यह भय, यह पेरानामा पूरे विश्व में फैल गया है। अन्य देश भी वही कर रहे थे- पहले इंग्लैंड ने किया, अमेरिका ने, फिर जर्मनी ने किया। यह बात दावानल की तरह फैल गई। वे भूल ही गए कि तुम जो कर रहे हो, तुम्हें कम से कम कुछ बुध्दिमानी दिखानी चाहिए। जर्मनी ने कानून बनाया है कि मैं उनके देश में प्रवेश नहीं कर सकता। इतना ही नहीं, मेरा हवाई जहाज जर्मनी के किसी हवाई अड्डे पर ईंधन लेने या और किसी कारणवश उतर नहीं सकता। उनको यह डर है कि शायद हवाई जहाज में बैठे-बैठे ही मैं जनता को नष्ट और भ्रष्ट कर सकता हूं। कितनी कमजोर मनुष्यता है हमारी। क्या यही वह देश है, जहां कांट, हीगल, फ्युअर बाख और कार्ल मार्क्स जैसे महान प्रतिभाशाली लोग हुए हैं? क्या यही वह देश है जिसने बड़े-बड़े मनीषी पैदा किए हैं? कौन भयभीत है?


ग्रीस में मेरे पास चार हफ्ते का पर्यटक वीसा था। मैं अपने निवास स्थल से कभी बाहर नहीं गया, मैं कभी नहीं जाता। जिसे आना होता है वह आता है। मैं सिर्फ एक कुंआ हूं, अगर तुम प्यासे हो तो तुम्हारा स्वागत है। अगर तुम्हें प्यास ही नहीं है तो यह कुआं तुम्हारे पीछे दौड़ने वाला नहीं है। वह तो बड़ा विचित्र दृश्य होगा। मैं अपने घर से बाहर नहीं आया। मेरे साथ घर में और भी लोग थे- पच्चीस लोग। और जिन्हें मुझसे मिलना था वे मिलने आते थे। विश्व के सबसे प्राचीन चर्च, ग्रीक चर्च के आर्च बिशप ने मेरे खिलाफ अभियान शुरू किया। और उसने कहा, ''यदि मुझे बारह घण्टे के भीतर देश से बाहर नहीं निकाला जाता तो देश की नैतिकता को खतरा होगा और युवा पीढ़ी भ्रष्ट हो जाएगी।'' ये ही वे लोग हैं जो शांति के बारे में बातचीत करते हैं, प्रेम के बारे में बात करते हैं। ये कहते हैं परमात्मा प्रेम है। वे जीजस को शांति का राजपुत्र कहते हैं। उस आर्च बिशप ने शासन को धमकी दी कि अगर बारह घण्टे के भीतर मैं ग्रीस नहीं छोड़ता तो वह मेरा मकान, वहां रहने वाले सभी लोगों के साथ डायनामाइट से उड़ा देगा और सबको जला देगा।

अब ये तुम्हारे धार्मिक नेता हैं। प्रधानमंत्री डर गया। उस वक्त... मैं सो रहा था। मेरी निजी सचिव ने पुलिस को रोका और कहा, ''जरा रुकें, मैं अंदर जाकर उन्हें जगाती हूं।'' लेकिन पुलिस के हाथों में भी डायनामाइट था और वे कह रहे थे, ''तुमने हमें अंदर नहीं जाने दिया तो पूरा मकान उड़ा देंगे।''

उन्होंने मेरी सचिव को जो कि एक युवती थी, दूसरी मंजिल से नीचे पत्थरों में गिरा दिया और उसे घसीटते हुए जीप में ले गए। मैं सो रहा था। उस शोरगुल में मेरी नींद खुली, क्योंकि वे लोग एक सुंदर महल पर पत्थरों और चट्टानों की वर्षा करने लगे, जहां मैं रुका हुआ था। मुझे कुछ पता नहीं चला कि क्या हो रहा है क्योंकि मैं तीसरी मंजिल पर सो रहा था। तभी एक सन्यासी भागा हुआ आया। बोला कि लगता है पुलिस आपे से बाहर हो गई है। हम उनसे कह रहे थे कि हम उन्हें जगाने ही वाले हैं, लेकिन उन्होंने पत्थर फेंकना और खिड़कियां तोड़ना शुरू कर दिया। तो मुझे कपड़े बदले बगैर ही वैसे ही नीचे जाना पड़ा। उन्होंने कहा, ''आप यहां एक क्षण भी नहीं रह सकते।'' न कोई गिरफ्तारी का वारंट, न तलाशी का वारंट... बंदूकें मेरे सीने पर तानकर उन्होंने मेरे साथ जबरदस्ती की। एक निहत्थे आदमी के सामने चालीस भरी बंदूकें। जो कभी अपने घर से बाहर नहीं निकला। मैंने ग्रीक पुलिस के प्रमुख से कहा- क्योंकि वह उन चालीस लोगों में से एक था कि ''अब मैं समझ सकता हूं कि सुकरात को किस तरह के लोगों ने जहर दिया। तुम उन लोगों में एक रहे होओगे, जो फिर पैदा हो गए हो।''

मैंने कहा, ''क्या इसमें तुम्हारा कोई तर्क है? मैंने कोई जुर्म नहीं किया, मैंने तुम्हारे समाज के खिलाफ कुछ गलत व्यवहार नहीं किया। मैं अपने घर से बाहर भी नहीं निकला और तुम्हारी नीति नष्ट हो गई, तुम्हारा धर्म खतरे में पड़ गया?''

मैं पूरे विश्व में घूमा हूं और मैंने दुनिया का कुरूप चेहरा देखा और मुर्दा मनुष्यता देखी। मैंने इस बात का बहुत मजा लिया कि एक आदमी पूरी दुनिया में आग लगा सकता है और वह भी किसी डायनामाइट के बिना, सिर्फ शब्दों े। मेरा कोई रहस्य नहीं है, मैं सिर्फ उस बात को कहता गया जिसे मैंने अपनी आत्मा की गहराई से सत्य जाना। तुम लोगों की अस्वस्थ जरूरतों को पूरा कर रहा हो। इसके लिए तुम्हें स्वयं को जिम्मेदार समझना चाहिए। जरूरतों को पूरा करना चाहिए, लेकिन तुम्हें इनके बीच एक गहरा फर्क करना चाहिए कि अस्वस्थ जरूरतें क्या हैं और स्वस्थ जरूरतें क्या हैं? उदाहरण के लिए, अश्लील साहित्य, एक जरूरत है। लाखों अश्लील साहित्य, फोटो सब तरह की अश्लील फिल्में, 'ब्लू फिल्में' पैदा कर रहे हैं। निश्चित ही वे किसी जरूरत को पूरा कर रहे हैं।

सदियों-सदियों से लोग इतने दमित रहे हैं कि वे नग्न स्त्री को देखने के लिए भूखे हैं। निश्चय ही तुम्हारा धंधा खूब चलता है, लेकिन वह लोगों का अत्यंत कुरूप ढंग से शोषण करके जी रहा है।

पत्रकारिता का उत्तरदायित्व बहुत बड़ा है। पत्रकार लोगों को इस बात के प्रति सचेत करें कि अश्लील साहित्य की जरूरत क्यों है। आदिवासी समाज का अश्लील साहित्य में किसी प्रकार का रस नहीं होता। क्योंकि वे लोग लगभग नग्न होते हैं, वे कपड़े नहीं पहनते हैं। बचपन से ही लड़के और लड़कियां एक-दूसरे के शरीर को देखते रहते हैं, उनका एक सहज स्वाभाविक परिचय हो जाता है। इसलिए वे ताक-झांक नहीं करते रहते। प्ले बॉय जैसी पत्रिकाओं में उनकी कोई रुचि नहीं होती।


लेकिन हमारे इस तथाकथित समाज में लोग भगवद्गीता में और पवित्र बाइबिल में प्ले बॉय को छुपाते रहते हैं। किसी चीज को छुपाना हो तो सबसे सुरक्षित जगह है क्योंकि उन्हें कोई खोलता ही नहीं है। श्रीमद्भागवद्गीता को या बाइबिल को उठाकर देखने की फुरसत किसे है? मैंने एक आदमी के बारे में सुना है। वह विक्रेता था, और विश्वकोष, एनसाइक्लोपिडिया घर-घर जाकर बेचता था। उसने एक द्वार पर दस्तक दी। एक स्त्री ने द्वार खोला और जैसे ही उसने अपना विक्रेता भाषण शुरू किया वह स्त्री बोली, ''हमारे पास एक अच्छा विश्वकोष है ही, अब हमें और एक विश्वकोष की जरूरत नहीं है। आप देख सकते हैं, वह वहां कोने में टेबल पर पड़ी है, तो क्षमा करें, मुझे नहीं खरीदना है।'' वह विक्रेता बोला, ''मैं निश्चित रूप से कह सकता हूं कि वह विश्वकोष नहीं है, वह बाइबिल है।'' उस स्त्री ने कहा, ''आप बड़े अजीब आदमी दिखाई देते हैं। आप इतने निश्चयपूर्वक कैसे कह सकते हैं?'' उसने कहा, ''क्योंकि उस पर इतनी धूल जमी हुई है। उसे कोई खोलता ही नहीं है। विश्वकोष को लोग खोलते हैं, उसको पढ़ते हैं। बाइबिल को कौन पढ़ता है।'' वह आदमी बोला, ''मैं शर्त लगाने को तैयार हूं।'' उस स्त्री ने कहा, ''नहीं इसकी कोई जरूरत नहीं है। वह बाइबिल ही है। आपसे झूठ बोलने के लिए क्षमा करें।''

उस पर जमी हुई धूल की पर्त इतनी मोटी थी कि वह यह सिध्द करने के लिए काफी थी कि वह विश्वकोष नहीं है, बल्कि कोई पवित्र किताब है। तो लोग सब तरह की कुरूप बातें पवित्र गीताओं में, बाइबिलों में, कुरानों में छुपाते हैं। समाज को इस बात की शिक्षा देने की जरूरत है कि किसी भी तरह का दमन अप्राकृतिक है। इस बात की हवा पैदा करनी है कि जो भी प्राकृतिक है वह स्वीकृत हो, उसका इंकार न हो। एक तरफ तुम जो प्राकृतिक है, उसे दबाओगे और उधर दूसरे द्वार से तुम्हारी सहज वृत्ति अपनी तृप्ति करना चाहेगी। यह जो जरूरत है, यह तुम्हारी विकृत जरूरत होगी। बड़े अजीब ढंग से, तुम्हारे अश्लील साहित्यिकारों की साजिश है। वे एक ही धंधे के साझीदार हैं।

संत लोगों से कहे चले जाते हैं कि सेक्स का दमन करो, ब्रह्मचर्य का व्रत लो और ये दमित लोग भूखे हैं। तुम जानते हो। अगर तुमने कभी उपवास किया हो तो दिनभर तुम अकेले भोजन के संबंध में सोचते रहते हो, और कुछ नहीं सोचते। सामान्यत: तुम भोजन के संबंध में कभी नहीं सोचते हो। तुम जो चीज खाना चाहते हो और जो तुम्हारी जरूरत होती है, वह तुम रोज खाते हो। तुम उसके संबंध में सोचते नहीं हो, उसके सपने नहीं देखते। तुम्हें किसी अश्लील साहित्य की जरूरत नहीं होती कि किसी स्वादिष्ट व्यंजनों के चित्र देखें। लेकिन मैं ऐसे लोगों को जानता हूं जो उपवास करते हैं फिर उनका पूरा चिंतन भोजन के इर्द-गिर्द घूमता रहता है। वे स्वादिष्ट व्यंजनों के सपने देखते हैं। यदि तुम उन्हें बाजार में घूमाने ले जाओ तो उन्हें सिर्फ भोजन की दुकानें, रेस्तरां, होटल ही दिखाई पड़ते हैं, और कुछ नहीं दिखाई पड़ता। कुछ भी आकर्षित नहीं करता।

मनोवैज्ञानिक प्रयोगों के द्वारा यह पता चला है कि किसी आदमी से अगर तीन हफ्ते का उपवास कराया जाए तो उसका अशील चित्रों में रस खो जाता है। उसकी बजाय वह किसी पकवान का चित्र देखना पसंद करेगा। यह आश्चर्यजनक बात नहीं है कि स्त्रियों को सुंदर पकवान (ब्यूटीफुल डिशेज)कहा जाता है।

यह अपमानजनक है, कुरूप है, लेकिन एक तरह से देखा जाए तो अन्य किसी भूख की तरह सेक्स भी एक भूख ही है। समस्या और जटिल इसलिए हो जाती है क्योंकि लोगों को अश्लीलता की जरूरत है। यदि तुम उस जरूरत को पूरा करते हो तो तुम्हारी बिक्री होती है, तुम पैसे कमाते हो। और अगर इस जरूरत को पूरा नहीं करते हो तुम्हारे अखबार का, तुम्हारी पत्रिका का वितरण एकदम कम हो जाता है। तुम बड़ी कठिन उलझन में फंस जाते हो, या तो व्यवसाय में घाटा हो या फिर तुम्हें ऐसा कुछ करना पड़ता है, जो बिल्कुल ही कुरूप है। जब तक पूरी परिस्थिति नहीं बदलती, जब तक पूरा प्रसार माध्यम इस बात के प्रति जागता नहीं कि लोग अश्लीलता में क्यों रस लेते हैं और लेख और कहानियां लिखकर, कविताएं रचकर, फिल्मों के, दूरदर्शन के और वीडियो के माध्यम से यह हवा पैदा नहीं करते कि दमन जीवन-विरोधी हैं... जिस दिन संसार में कोई दमन नहीं होगा, उस दिन अश्लीलता का नामोनिशान नहीं रहेगा। जिस दिन संसार में कोई दमन नहीं होगा, उस दिन कोई विकृति शेष नहीं रहेगी, कोई समलैंगिकता नहीं होगी। पत्रकारिता को इस स्थिति की जटिलता को समझ लेना जरूरी है।

उदाहरण के लिए, फिलहाल एक बहुत भयंकर बीमारी पूरी दुनिया में फैल रही है-एड्स। यह समलैंगिंकता के कारण पैदा हुई है। कैथोलिक धर्मगुरु पोप तथा अन्य धर्मों के प्रमुख समलैंगिकता की निंदा कर रहे हैं। लेकिन समलैंगिकता सिर्फ एक लक्षण है, असली बीमारी है ब्रह्मचर्य की शिक्षा। क्योंकि समलैंगिकता मठों में, सैनिकों के कैंपों में, लड़कों के स्काउट के शिविरों में, लड़कों और लड़कियों के छात्रावासों में पैदा हुई है। जहां भी हमने स्त्रियों और पुरुषों को अलग किया, वहां विकृति पैदा हुई है।

टेक्सास में वहां के शासन ने एक कानून जारी किया है कि अब समलैंगिकता एक जुर्म होगा जिसके लिए पांच साल की कैद की सजा दी जा सकती है। और वहां दस लाख समलैंगिक लोग हैं। किसी ने कल्पना भी न की होगी कि टेक्सास में इतने अधिक समलैंगिक लोग होंगे। दस लाख लोगों ने विधान परिषद् भवन के आगे विरोध प्रकट किया और उनमें टेक्सास के सभी समलैंगिक शामिल नहीं थे। निश्चित ही, उस मेले में सभी ने भाग नहीं लिया था। उन्होंने घोषित किया कि अगर आप कानून वापिस नहीं लेते हैं तो हम भूमिगत हो जाएंगे। यहां पर 'गेक्लब' हैं, 'गे' रेस्टारेंट है और सभी तरह के समलैंगिक समूह हैं, जो खुलेआम काम कर रहे हैं। अगर आपने उसे जुर्म बना दिया तो हम भूमिगत हो जाएंगे। एक बार समलैंगिकता भूमिगत हो गई तो उस बीमारी से लड़ना और भी मुश्किल हो जाएगा, जो उसके कारण पैदा हो रही है। यह बीमारी दावानल की तरह फैल रही है, और हर शासन इस बात को छुपाने की कोशिश कर रहा है कि उनके देश में कितने समलैंगिक लोग हैं और एड्स वाइरस के लिए की गई जांच में कितने लोग 'पॉजिटिव' सिध्द हुए। क्योंकि एड्स का कोई इलाज नहीं है, उस व्यक्ति का मरना सुनिश्चित है। वैज्ञानिक नि:संदिग्ध रूप से इस निष्कर्ष पर पहुंचे कि इसका इलाज कभी नहीं मिलेगा। यह बीमारी ऐसी है कि वह लगभग एक धीमी मौत है। यह कोई साधारण बीमारी नहीं है। यह प्रकृति के खिलाफ आचरण करने से पैदा हुई है। अब प्रकृति उसका पूरा-पूरा बदला ले रही है।

अभी मुझे दक्षिण अफ्रीका के संबंध में एक समाचार सुनने को मिला है। एक अस्पताल में उन्होंने एक सर्वेक्षण किया- सिर्फ एक महीने पहले की बात है। पूरे शहर में सत्तर प्रतिशत वेश्या एड्स से ग्रसित हैं। एक महीने बाद जब उन्होंने फिर सर्वेक्षण किया तो शत-प्रतिशत वेश्याओं में एड्स फैल चुका था। लेकिन यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है, इससे भी अधिक आश्चर्यजनक बात जो सामने आई है, वह यह कि अस्पताल में जो औरतें, बच्चे पैदा करने के लिए आई थीं, उनमें से सत्तर प्रतिशत औरतों को एड्स था- वही प्रतिशतता जो वेश्याओं की थी। ये वेश्याएं नहीं हैं, ये घरेलू औरतें थीं। उनके बच्चे एड्स को लेकर पैदा होंगे।

लेकिन पूरी दुनिया खामोश है। यह रोग आणविक शस्त्रास्त्रों से भी अधिक खतरनाक है। क्योंकि आणविक शस्त्र ऐसे हैं कि कम से कम उन पर नियंत्रण रखा जा सकता है, वह किसी हद तक हमारे हाथों में है। लेकिन लगता है कि एड्स हमारे हाथों से बाहर है।

यह पत्रकारों की जिम्मेदारी है कि लोगों के सामने प्रामाणिक तथ्यों को लाएं ताकि उन्हें पता चले कि विकृतियों से कैसे बचा जाए। समलैंगिकता कोई रोग नहीं है, वह किसी रोग का लक्षण है। असली रोग है ब्रह्मचर्य जिसकी शिक्षा हर धर्म देता रहता है।
चैनल: Blog, माय फिलॉसफी
टैग्स: विविध

1 टिप्पणी: