सोमवार, 9 जनवरी 2012

mass-MEDIA\\\\\\EVENT

Home | MEDIA


पोर्न स्टार के बचाव में उतरे प्रेस परिषद के अध्यक्ष

मीडिया को नैतिकता का पाठ पढ़ानेवाले प्रेस परिषद के अध्यक्ष मार्कण्डेय काटजू ने चौंकानेवाला कदम उठाते हुए अमेरिका की मशहूर पोर्न स्टार ...

जनमत जाए भाड़ में बस धंधा चलना चाहिए

स्टर्डिया, कुंभ, पनबिजली समेत कई घोटालों के निर्माता-निर्दैशक,नायक,गीतकार,संगीतकार रहे रमेश पोखरियाल निशंक को राजनीति के कबाड़खाने से निकालकर ‘‘ कौन बनेगा मुख्यमंत्री’’ ...

छत्तीसगढ़ के चक्रव्यूह में फंसा मीडिया

उदारमन दिल, सहज-सरल स्वभाव रखने और अब तक मीडिया फ्रेंडली कहे जाने वाले छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमनसिंह को मीडिया का रूतबा और असली चेहरा दोनों दिख गया. या यूं कहें कि पिछले आठ सालों से जो हनीमून छत्तीसगढ़ की मीडिया के साथ जारी था, उस पर ब्रेक लग गया. ‘दिखा दिया या देख लूंगा’ जैसी अशोभनीय स्थिति के बीच शुक्र है कांग्रेस के नेताओं का जिन्होंने विधानसभा में मीडिया और मुख्यमंत्री के बीच कम्प्रोमाइज यह कहते हुए करा दिया कि रमन सिंह आप तो ऐसे ना थे! हालांकि यह वही कांग्रेस है जिसके पूर्व मुख्यमंत्री, वर्ष 2002 में वरिष्ठ पत्रकार की कलम से डरकर उस पर हमला कराने तक से नहीं चूके थे. ... Full story

मीडिया मुगल बनना चाहते हैं मुकेश अंबानी

साल 2012 की शुरूआत भारत के सबसे अमीर व्यापारी मुकेश अंबानी के लिए सुखद साबित हो रही है. अपने पैतृक गांव चोरवड़ में अगर उन्होंने छोटे भाई अनिल अंबानी से हाथ मिलाया तो साल की शुरूआत एक धमाकेदार खबर से हुई. मुकेश अंबानी टेलीवीजन समूह नेटवर्क 18 में 1500 करोड़ रूपये का निवेश करने जा रहे हैं. यह निवेश रिलायंस के सहयोगी संस्थानों द्वारा नेटवर्क 18 समूह में किया जाएगा. इस पैसे का उपयोग नेटवर्क 18 अपना विस्तार करने में करेगा और खबर है कि वह ईटीवी का स्वामित्व खरीदने जा रहा है. ... Full story

अजब गांवों की गजब कहानियां

भारत अगर गांवों का देश है तो भारत की विशेषता भी शहरों में नहीं बल्कि गांवों में ही बसती है. दो लाख पैंसठ हजार ग्राम पंचायतों के समुच्चय से जो भारत बनता है वह उस शहरी भारत से बिल्कुल अलग और निराला है जिसमें रहने के लिए हम अभिशप्त हैं. भारत के हर गांव एक स्वतंत्र और संप्रभु ईकाई हैं. उनकी अपनी आर्थिक, सामाजिक और राजनीतिक व्यवस्था है. इन व्यवस्थाओं का विधिवत आंकलन करके उन्हें समझे बिना भारत को समग्रता में समझना नामुमकिन है. ऐसे में जब हमारा मीडिया निहायत शहरी और केन्द्रीकृत होता जा रहा है एक पत्रिका अगर इस विविधता को समझने और समेटने की कोशिश करे तो किसे अच्छा नहीं लगेगा. ... Full story

समाचार पत्रों का प्रसार 8.23 फीसदी बढ़ा

पश्चिमी देशों में समाचार पत्र उद्योग भले ही अनिश्चितता का सामना कर रहा हो लेकिन भारत में समाचार पत्रों के प्रसार में वृद्धि का दौर जारी है और साल 2010-11 में आठ फीसदी से अधिक की वृद्धि दर्ज की गई। क्षेत्रीय दैनिकों ने इस मामले में उल्लेखनीय वृद्धि दर्ज की है। ... Full story

टांय टांय फिस्स हो गया हिन्दी इकोनॉमिक टाइम्स

इकनॉनिक टाइम्स एकमात्र दिल्ली से छपनेवाला अपना हिंदी संस्करण बंद करने जा रहा है। गुरुवार को उसकी टीम ने आखिरी बार अखबार का काम किया जो शुक्रवार के संस्करण के रूप में बाजार में आया। 30 दिसंबर 2011 का यही अंक हिन्दी इकोनोमिक टाइम्स का आखिरी अंक साबित हुआ। तीन साल दस महीने दस दिन पहले 19 फरवरी 2008 को जब यह अखबार शुरू हुआ था तो प्रबंधन की तरफ से बड़े-बड़े वादे किए गए थे। हिंदी समाज को भी इससे बड़ी अपेक्षाएं थीं। लेकिन कम से कम लागत में ज्यादा से ज्यादा धंधा बटोरने के मकसद से शुरू हुआ यह ‘उद्यम’ बंद ही होना था। ... Full story

पेड न्यूज रोकने के लिए बन रही है कमेटी

इस बार पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों में भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने के लिए चुनाव आयगो कमर कसकर मैदान में उतर रहा है. उत्तराखण्ड के दो दिवसीय दौरे पर गये मुख्य चुनाव आयुक्त एस वाई कुरैशी ने माना कि "चुनाव में धन का दुरूपयोग भ्रष्टाचार का बड़ा कारण है इसे रोकने के लिए कई उपाय किये जा रहे हैं." इन्हीं उपायों में एक उपाय है पेड न्यूज को रोकने का उपाय. इसके लिए चुनाव आयोग ने इस बार चुनाव प्रभावित राज्यों के जिलाधिकारियों को निर्देश दिये हैं कि वे हर जिले में ऐसी समिति बनाएं ताकि अखबारों पर नजर रखी जा सके. ... Full story

खुद ही सम्मानित हो गये सम्मान के भूखे पत्रकार

नागपुर का तिलक पत्रकार भवन शुक्रवार को बूढ़े पत्रकारों के अजीबोगरीब सम्मान का गवाह बना। लंबे समय से पत्रकारिता कर रहे पत्रकारों को जब पुरस्कृत करने के लिए कोई बड़ा राजनीतिज्ञ नहीं मिला तो खुद ही आयोजन किया और खुद ही अपने आपको थोक में पुरस्कृत भी कर लिया। ... Full story

फर्जी मीडियाकर्मी को जेल भेजा

मध्य प्रदेश में राजगढ़ के मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी समरोज खान ने एक ग्राम पंचायत के दलित सरपंच को धमका कर रुपए मांगने और जाति सूचक शब्दों से अपमानित करने के आरोप में एक फर्जी मीडियाकर्मी को आज न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया है। ... Full story

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें